Tuesday, November 30संस्थापक, प्रधान संपादक, स्वामी श्री नवनीत जगतरामका जी
Shadow

यूनिवर्सिटी न्यूज़

IGKV : ट्रायफेड, खादी इंडिया और फ्लिपकार्ट पर बिक रहा है कोरिया के आदिवासी किसानों द्वारा उत्पादित शहद

IGKV : ट्रायफेड, खादी इंडिया और फ्लिपकार्ट पर बिक रहा है कोरिया के आदिवासी किसानों द्वारा उत्पादित शहद

यूनिवर्सिटी न्यूज़
रायपुर, 27 जून, 2021। छत्तीसगढ़ के आदिवासी बहुल जिले कोरिया में कृषि विज्ञान केन्द्र के मार्गदर्शन में गठित किसान उत्पादक संगठन द्वारा किये जा रहे मधुमक्खी पालन तथा शहद उत्पादन व्यवसाय ने इन आदिवासी किसानों के जीवन में शहद की मिठास घोल दी है। किसान उत्पादक संगठन के 17 सदस्यों द्वारा संचालित मधुमक्खी पालन कृषि कुटीर उद्योग के अंतर्गत मधुमक्खी पेटी तथा मधुमक्खी काॅलोनी के निर्माण के साथ ही करंज, वन तुलसी, सरसांे, सौंफ आदि फसलों एवं जंगली वृक्षों के फूलों तथा परागकणों से शुद्ध एवं गुणवत्तायुक्त शहद तैयार किया जा रहा है। उनके द्वारा ट्रायफेड, खादी इंडिया, छत्तीसगढ़ हस्तशिल्प बोर्ड के विक्रय केन्द्रों और ई-काॅमर्स साईट फ्लिपकार्ट के माध्यम से लगभग चार लाख रूपये मूल्य का शहद विक्रय किया जा चुका है तथा लगभग तीन लाख रूपये मूल्य का शहद विक्रय हेतु उपलब्ध है। इसके साथ ही समूह द्वारा विभिन्न संस्थाओं ए...
MIT पुणे : कृषी यांत्रिकीकरण में यंत्र अभियांत्रिकी कि भूमिका

MIT पुणे : कृषी यांत्रिकीकरण में यंत्र अभियांत्रिकी कि भूमिका

यूनिवर्सिटी न्यूज़
जनसंख्या में वृद्धि के साथ, खाद्य असुरक्षा और कुपोषण वैश्विक स्तर पर विशेष रूप से विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में गंभीर चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। वर्तमान और अनुमानित विकास दर पैटर्न पर, दुनिया की आबादी 2050 तक 10 अरब के करीब पहुंचने का अनुमान है। साथ ही, सकल घरेलू उत्पाद और रोजगार में कृषि का योगदान कम हो गया है। तकनीकी नवाचारों ने उत्पादकता के स्तर को काफी बढ़ाया है और इसे तेज करने की जरूरत है। कृषि यंत्रीकरण समय पर कृषि कार्यों को करने के लिए कृषि के लिए एक महत्वपूर्ण उत्पादक सामग्री है।  कृषि यंत्रीकरण समय पर कृषि कार्यों को करने के लिए कृषि के लिए एक महत्वपूर्ण है ।  कृषि यंत्रीकरण संचालन की लागत को कम करना; महंगे निवेशों (बीज, उर्वरक, पौध संरक्षण रसायन, पानी और कृषि मशीनरी) की उपयोगिता दक्षता को अधिकतम करना; उपज की गुणवत्ता में सुधार; कृषि कार्यों में कठिन परिश्रम को कम करना; भूमि और...
इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय : मधुमक्खी पालन और बटेर पालन से बदलेगी महासमुंद जिले के किसानों की तकदीर

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय : मधुमक्खी पालन और बटेर पालन से बदलेगी महासमुंद जिले के किसानों की तकदीर

यूनिवर्सिटी न्यूज़
रायपुर, 23 जून, 2021। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर के अन्तर्गत छत्तीसगढ़ के सभी जिलों में संचालित कृषि विज्ञान केन्द्र किसानों को कृषि एवं संबद्ध क्षेत्रों में विभिन्न विषयों पर रोजगारमूलक प्रशिक्षण देकर उनकी आय बढ़ाने में अहम भूमिका निभा रहे हैं। इसी कड़ी में कृषि विज्ञान केन्द्र, महासमुंद द्वारा क्षेत्र के किसानों के लिए पिछले दो दिनों में मधुमक्खी पालन और बटेर पालन पर एक-एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित कर उन्हें इन विषयों की तकनीकी जानकारी दी गई। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के अंतर्गत संचालित कृषि विज्ञान केन्द्र, महासमुन्द द्वारा बटेर पालन पर एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन कल मंगलवार को किया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राष्ट्रीय जैव प्रबंधन संस्थान, रायपुर के निदेशक सह कुलपति डाॅ. पी. के. घोष थे। कार्यक्रम के दौरान डाॅ. पी. के. घोष ने कृषकों को संबोधित ...
एस .एस .आई.पी. एम. टी. रायपुर कॉलेज के रा.से.यो. इकाई द्वारा 13 दिवसीय इवेंटोमानिया -2021 कार्यक्रम का सफल आयोजन

एस .एस .आई.पी. एम. टी. रायपुर कॉलेज के रा.से.यो. इकाई द्वारा 13 दिवसीय इवेंटोमानिया -2021 कार्यक्रम का सफल आयोजन

दुर्ग - भिलाई, यूनिवर्सिटी न्यूज़
श्री शंकरचार्य इंस्टिट्यूट ऑफ़ प्रोफेशनल मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी,रायपुर की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई द्वारा दिनांक 19/5/2021 से 31/5/2021 तक तेरह  दिवसीय  "इवेंटोमानिया-2021 " जिसका शीर्षक "Health, Help & Technology" का सफलता पूर्वक आयोजन कराया गया. राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रम अधिकारी श्री आनंद ताम्रकार ने बताया की इस कार्यक्रम का प्रमुख  उद्देश्य  covid-19, जो की आज एक वैश्विक  महामारी के रूप में पुरे विश्व में फ़ैल चूका है  जिससे बचने हेतु अपने आप सहित अन्य सभी लोगो को शारीरिक  एवं मानसिक रूप से मजबूत बनाने पर जोर देना  एवं covid-19 से जुडी बहुत सी भ्रांतियों को दूर करने हेतु जान जागरूकता फैलाना था इस कार्यक्रम में  09 विभिन्न प्रतियोगिताएं जैसे फोटोग्राफी ,लाइव प्रश्नोत्तरी,क्विजोमानिया ,पोस्टर मेकिंग ,फोटोटिकल ,पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन मेकिंग ,योगा पर कार्यशाला ,पिक्चर परस...
स्वामी श्री स्वरूपानंद महाविद्यालय में योग दिवस के अवसर पर हुआ सामुहिक वर्चुअल सूर्य नमस्कार का आयोजन एवं पन्द्रह दिवसीय योग सर्टिफिकेट कोर्स का समापन

स्वामी श्री स्वरूपानंद महाविद्यालय में योग दिवस के अवसर पर हुआ सामुहिक वर्चुअल सूर्य नमस्कार का आयोजन एवं पन्द्रह दिवसीय योग सर्टिफिकेट कोर्स का समापन

दुर्ग - भिलाई, यूनिवर्सिटी न्यूज़
स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय में राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई द्वारा अंतराष्ट्रीय योग दिवस पर आॅनलाईन सूर्य नमस्कार का सफल आयोजन किया गया। विश्व योग दिवस के अवसर महाविद्यालय प्राचार्य] प्राध्यापक एवं विद्यार्थियों ने प्रातः सात बजे वर्चुअल सूर्य नमस्कार किया। महाविद्यालय के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डाॅ. दीपक शर्मा ने कहा कि भारत योग की भूमि है और योग के माध्यम से ना केवल हम स्वस्थ तन बल्कि मन भी स्वस्थ रहता है। प्राचार्य डाॅ. हंसा शुक्ला ने कहा कि योग के महत्व को देखते हुये इक्कीस जून को विष्व योग दिवस के रूप मे मनाया जाता है हम सभी संकल्पित हो कर योग को अपने दिन चर्चा में शामिल करे तो हम बहुत सी बिमारियों से निजात पा सकते है। योग सर्टिफिकेट कोर्स स्वावलंबी योग अकादमी के साथ हुये एमओयू के तहत किया गया जिसमें योग प्रशिक्षक श्री आनंद सिंह राजपूत] श्री विजय राजपूत एवं सुश्री संगी...
इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय : कोविड संक्रमण काल में ऑनलाइन वेबिनार के माध्यम से विद्यार्थियों ने जाना योग का महत्व

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय : कोविड संक्रमण काल में ऑनलाइन वेबिनार के माध्यम से विद्यार्थियों ने जाना योग का महत्व

यूनिवर्सिटी न्यूज़
रायपुर, 21 जून, 2021। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई द्वारा अंतराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर छात्र जीवन शैली में स्वस्थ एवं निरोग जीवन चर्या के निर्माण हेतु ऑनलाइन वेबिनार का आयोजन किया गया। योग दिवस के अवसर पर आयोजित यह वेबिनार ‘‘योग के माध्यम से कायाकल्प’’ एवं ‘‘योग स्वस्थ जीवन का एक रास्ता’’ विषयों पर आधारित था। वेबिनार का शुभारंभ इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डाॅ. एस.के. पाटील ने किया। वेबिनार में अतिथियों एवं विषय विशेषज्ञों ने विद्यार्थियों को योग के उद्देश्य, महत्व, शरीरिक और मानसिक लाभ के बारे में जानकारी देते हुए निरोग रहने के लिए नियमित योग करने का आव्हान किया। इस आॅनलाईन कार्यक्रम में 250 से अधिक कृषि छात्र उपस्थित थे। इस दौरान राष्ट्रीय सेवा योजना की महिला इकाई के स्वयं सेवकों द्वारा एक सप्ताह के योगाभ्यास की छाया चित्रों के माध्यम स...
दुर्ग भिलाई : स्वरूपानंद महाविद्यालय में योग दिवस के अवसर पर सूर्य नमस्कार का आयोजन

दुर्ग भिलाई : स्वरूपानंद महाविद्यालय में योग दिवस के अवसर पर सूर्य नमस्कार का आयोजन

दुर्ग - भिलाई, यूनिवर्सिटी न्यूज़
दुर्ग भिलाई। स्वस्थ तन और मन के लिये योग आवश्यक है योग के महत्व को ध्यान में रखते हुये महाविद्यालय के माइक्रोबायोलाजी विभाग एवं आईक्यूएसी के संयुक्त तत्वाधान में पंद्रह दिवसीय योग सर्टिफिकेट कोर्स कराया जा रहा है। संयोजिका डॉ शमा ए बेग ने बताया कि सर्टिफिकेट कोर्स से विद्यार्थी लाभान्वित हो रहे है इस कड़ी में स्वास्थ्य के लिए योग आधार एवं लाभ विषय पर तीन दिवसीय अतिथि व्याख्यान का आयोजन किया गया। महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ हंसा शुक्ला ने जानकारी दी कि 21 जून अंर्तराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर महाविद्यालय में प्रातः 7:00 बजे शैक्षणिक एवं अशैक्षणिक स्टॉफ तथा सभी विद्यार्थी स्वावलंबी योग अकेडमी के संयोजन में सूर्य नमस्कार करेंगे जिसमें लगभग हजार लोग जुड़ेंगे। प्राचार्य डॉ हंसा शुक्ला ...
इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय की एक और उपलब्धि, कृषि महाविद्यालय बिलासपुर की छात्रा का उच्च शिक्षा हेतु जर्मनी में चयन

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय की एक और उपलब्धि, कृषि महाविद्यालय बिलासपुर की छात्रा का उच्च शिक्षा हेतु जर्मनी में चयन

बिलासपुर, यूनिवर्सिटी न्यूज़
रायपुर. इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर के अंतर्गत संचालित बैरिस्टर ठाकुर छेदीलाल कृषि महाविद्यालय एवं अनुसंधान केंद्र, बिलासपुर की बी.एस.सी. (कृषि) चतुर्थ वर्ष की छात्रा कुमारी डीना थंकाचन का चयन उच्च शिक्षा हेतु जर्मनी के शीर्ष स्तरीय होहेनहेम विश्वविद्यालय, स्टुटगार्ट, में हुआ है। बी.एस.सी. (कृषि) चतुर्थ वर्ष सत्र 2020-21 में 8.58 ओ.जी.पी.ए. (ओवरआॅल ग्रेड र्पाॅइंट एवरेज) अंकों से प्रथम स्थान प्राप्त, डीना जर्मनी के होहेनहेम विश्वविद्यालय से ‘‘ऑर्गेनिक एग्रीकल्चर एंड फूड सिस्टम’’ विषय में स्नातकोत्तर शिक्षा प्राप्त करेगी। उल्लेखनीय है कि होहेनहेम विश्वविद्यालय स्टुटगार्ट को जर्मनी में प्रथम, यूरोप में छठवीं तथा विश्व में 22 वीं रैंक प्राप्त है। केरल निवासी थंकाचन के.जे. एवं श्रीमती मर्सी थंकाचन की सुपुत्री डीना प्रारंभ से ही प्रतिभाशाली रहीं है। डीना ने भारतीय कृषि अनुसंधान पर...
इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय द्वारा स्नातकोत्तर एवं पी.एच.डी. पाठ्यक्रमों के परीक्षा परिणाम घोषित

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय द्वारा स्नातकोत्तर एवं पी.एच.डी. पाठ्यक्रमों के परीक्षा परिणाम घोषित

यूनिवर्सिटी न्यूज़
रायपुर, 18 जून, 2021। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर ने कोविड 2019 महामारी काल में सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग कर स्नातकोत्तर एवं पी.एच.डी. पाठ्यक्रम की ऑनलाइन परीक्षाओं का आयोजन एवं परीक्षा परिणाम घोषित कर एक बार पुनः अपनी श्रेष्ठता साबित की है। की है। विश्वविद्यालय द्वारा विकसित ई-कृषि पाठशाला एप के माध्यम से स्नातकोत्तर एवं पी.एच.डी. पाठ्यक्रम के परीक्षाफल घोषित किए गए हैं। परीक्षा परिणाम विश्वविद्यालय की वेबसाईट https://igkv.ac.in पर उपलब्ध हैं। विश्वविद्यालय में एम.एस.सी. कृषि, उद्यानकी एवं वानिकी, एम.बी.ए. ए.बी.एम. एवं एम.टेक. कृषि अभियांत्रिकी पाठ्यक्रम के 20 विषयों तथा पी.एच.डी. कृषि, उद्यानिकी, वानिकी एवं पी.एच.डी. कृषि अभियांत्रिकी के 19 विषयों की उपाधि प्रदान की जाती है। कोविड-2019 महामारी को दृष्टिगत रखते हुए इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय द्वारा अपने विद्यार्थि...
प्रो. डॉ. विक्रांत गायकवाड : उभरते संदूषकों (इमर्जिंग कंटामिनेंट्स) के उपचार में रासायनिक अभियांत्रिकी समाधान

प्रो. डॉ. विक्रांत गायकवाड : उभरते संदूषकों (इमर्जिंग कंटामिनेंट्स) के उपचार में रासायनिक अभियांत्रिकी समाधान

यूनिवर्सिटी न्यूज़
उच्च जनसंख्या घनत्व वाले भारत जैसे विकासशील देश के लिए, ताजे पानी की बहुत बड़ी आवश्यकता है और उपलब्धता चिंता का विषय है। जल निकायों के पारंपरिक प्रदूषकों से संबंधित मुद्दों को वर्षों से संबोधित किया गया है और विभिन्न तकनीकों का विकास किया गया है और व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। प्रदूषकों की अनुमेय सीमा के मानदंडों को ध्यान में रखते हुए पेयजल उपचार संयंत्रों और सीवेज उपचार संयंत्रों को डिजाइन और संचालित किया गया है। पिछले एक दशक में 'उभरते संदूषकों' (इमर्जिंग  कंटामिनेंट्स) के लिए चिंता बढ़ रही है। उभरते हुए संदूषक प्राकृतिक और सिंथेटिक दोनों प्रकार के रसायनों का समूह हैं, जिनकी उपस्थिति पानी, हवा, मिट्टी और अन्य माध्यमों में होती है और इसके स्रोत फार्मास्यूटिकल्स, कीटनाशकों, व्यक्तिगत देखभाल उत्पादों, ज्वाला मंदक, साइनोटॉक्सिन और नैनोकणों आदि से आते हैं। ट्राइक्लोरोप्रोपेन, डाइनि...