Wednesday, October 20संस्थापक, प्रधान संपादक, स्वामी श्री नवनीत जगतरामका जी
Shadow

यूनिवर्सिटी न्यूज़

रायपुर : हाई स्कूल मुख्य परीक्षा परिणाम घोषित

रायपुर : हाई स्कूल मुख्य परीक्षा परिणाम घोषित

यूनिवर्सिटी न्यूज़, रायपुर
स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेम साय सिंह टेकाम ने छत्तीसगढ़ राज्य ओपन स्कूल द्वारा आयोजित हाई स्कूल सर्टिफिकेट मुख्य परीक्षा वर्ष 2021 का परिणाम आज अपने निवास कार्यालय से घोषित किया। घोषित परीक्षाफल 92.67 प्रतिशत रहा। इसमें उत्तीर्ण बालिकाओं का प्रतिशत 93.49 और बालकों का प्रतिशत 92.11 है। इस अवसर पर राज्य ओपन स्कूल के सचिव प्रोफेसर व्ही.के.गोयल सहित अन्य अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल और स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने छत्तीसगढ़ राज्य ओपन स्कूल द्वारा आयोजित हायर सेकेण्डरी परीक्षा में सफल सभी परीक्षार्थियों को बधाई और शुभकामनाएं देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की है। छत्तीसगढ़ राज्य ओपन स्कूल द्वारा आयोजित हाई स्कूल सर्टिफिकेट मुख्य परीक्षा में पंजीकृत 54 हजार 260 परीक्षार्थियों में से 54 हजार 46 परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल हुए। इनमें से 92 ...
इंटरनेट ऑफ़ अंडरवाटर थिंग्स (IoUT)-अंडरवाटर सेंसर नेटवर्क संशोधन का नया परिचय

इंटरनेट ऑफ़ अंडरवाटर थिंग्स (IoUT)-अंडरवाटर सेंसर नेटवर्क संशोधन का नया परिचय

यूनिवर्सिटी न्यूज़
पानी के भीतर के वातावरण में ध्वनि प्रसार के उपयोग के तहत संदेश भेजने और प्राप्त करने की तकनीक को ध्वनिक संचार के रूप में जाना जाता है। अंडरवाटर सेंसर नेटवर्क में वाहनों और सेंसर की संख्या होती है जो सहयोगी निगरानी और डेटा संग्रह कार्यों को करने के लिए एक विशिष्ट क्षेत्र में तैनात होते हैं । परंपरागत रूप से समुद्र तल की निगरानी के लिए, समुद्र विज्ञान सेंसर को एक निश्चित स्थान पर डेटा रिकॉर्ड करने और कार्य पूरा होने पर उपकरणों को पुनर्प्राप्त करने के लिए तैनात किया जाता है।पारंपरिक दृष्टिकोण का प्रमुख नुकसान विभिन्न छोरों के बीच संवादात्मक संचार की कमी है, जिस वजह से  किसी भी मिशन के दौरान रिकॉर्ड किया गया डेटा कभी नहीं मिल सकता है, और किसी भी विफलता के मामले में रिकॉर्ड किया गया डेटा नष्ट हो सकता है। पानी के भीतर ध्वनिक चैनलों कि तीन मुख्य विशेषता है: फ्रीक्वेंसी - और सिग्नल की दूरी-निर्...
विंग्स-टू-फ्लाई सोसायटी: नन्हे मुन्ने बच्चों में नई सोच और रचनात्मक प्रतिभा निखारने की पहल

विंग्स-टू-फ्लाई सोसायटी: नन्हे मुन्ने बच्चों में नई सोच और रचनात्मक प्रतिभा निखारने की पहल

यूनिवर्सिटी न्यूज़
नन्हें-मुन्ने बच्चों में नई सोच विकसित करने और उनकी प्रतिभा को निखारने के लिए विंग्स-टू-फ्लाई सोसायटी द्वारा नई पहल की जा रही है। सोसायटी द्वारा नई सोच विकसित करने के लिए बच्चों और शिक्षकों की मौलिक रचनाओं को मासिक बाल पत्रिका “किलोल” में प्रकाशित किया जाएगा। इससे शिक्षकों और बच्चों में रचनात्मक प्रतिभा को बढ़ाने में मद्द मिलेगी। नन्हें-मुन्ने बच्चों को ध्यान में रखकर यह बाल पत्रिका विगत पांच वर्षों से डॉ. आलोक शुक्ला के कुशल नेतृत्व एवं मार्गदर्शन में प्रकाशित की जा रही है। विगत माह किलोल पत्रिका में प्रकाशित विभिन्न रचनाओं के वाचन के लिए हमारे नन्हें-मुन्ने पाठकों को अवसर प्रदान किया था। इसकी अगली कड़ी में इस बार किलोल बाल पत्रिका में अपनी रचनाओं को प्रकाशित करने वाले शिक्षकों को उनकी रचनाओं के वाचन का अवसर प्रदान किया गया। विंग्स-टू-फ्लाई सोसायटी द्वारा आयोजित इस वेबीनार का पूरा संच...
रायपुर : वेबीनार द्वारा रिमोट सेसिंग एवं जीआईएस का गवर्नेस में उपयोगिता का प्रस्तुतिकरण

रायपुर : वेबीनार द्वारा रिमोट सेसिंग एवं जीआईएस का गवर्नेस में उपयोगिता का प्रस्तुतिकरण

यूनिवर्सिटी न्यूज़
छत्तीसगढ़ विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद द्वारा किए जा  रहे अनुसंधान एवं विकास गतिविधियों के प्रचार-प्रसार के लिए विगत कुछ माह से वेबीनार की श्रृंखला आयोजित की जा रही है। छत्तीसगढ़ अंतरिक्ष उपयोग केन्द्र द्वारा रिमोट सेसिंग एवं जीआईएस के अनुप्रयोग से गवर्नेस में उपयोगिता पर परषिद द्वारा किए गए कार्यों का प्रस्तुतिकरण आज वेबीनार द्वारा किया गया। वेबीनार में हेइडेलबेर्ग विश्वविद्यालय जर्मनी के पोस्ट डॉक् फेलो डॉ. राकेश भामरी ने हिमनद विज्ञान और संबद्ध खतरों में रिमोट सेसिंग और जीआईएस की भूमिका विषय पर व्याख्यान प्रस्तुत किया। कार्यक्रम का शुभारंभ प्रधान मुख्य वन संरक्षक एवं वन प्रमुख बल श्री मुदित कुमार सिंह, महानिदेशक छत्तीसगढ़ विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद एवं रीजनल साईंस सेंटर सोसायटी के उद्बोधन से किया गया। उन्होंने रिमोट सेसिंग एवं जीआईएस तकनीक के अनुप्रयोग के विषय में जानकारी दी। उन्ह...
राष्ट्रीय शिक्षा नीति : नन्हे मुन्ने बच्चे करेंगे स्कूली शिक्षा से पहले बाल-वाटिकाओं में पढ़ाई

राष्ट्रीय शिक्षा नीति : नन्हे मुन्ने बच्चे करेंगे स्कूली शिक्षा से पहले बाल-वाटिकाओं में पढ़ाई

छत्तीसगढ़ न्यूज़, यूनिवर्सिटी न्यूज़
स्कूली शिक्षा से पहले आंगनबाड़ी के नन्हे मुन्ने बच्चे बाल-वाटिकाओं में पढ़ाई करेंगे। बाल-वाटिकाओं में बच्चों को स्कूली शिक्षा के लिए तैयार किया जाएगा। राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत राज्य में बाल वाटिकाएं प्रारंभ करने के संबंध में विस्तृत-विचार विमर्श मंत्रालय में प्रारंभिक बाल्यावस्था देखभाल और शिक्षा के एकीकरण हेतु गठित विशेष संयुक्त कार्य बल की बैठक किया गया। स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव डॉ. आलोक शुक्ला की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में राष्ट्रीय शिक्षा नीति में प्रस्तावित नवीन स्ट्रक्चर 5़3़3़4 को लागू करने के लिए सभी व्यवस्थाओं और संसाधनों का आंकलन कर प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए हैं। संसाधनों और व्यवस्थाओं के आंकलन कर प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव डॉ. शुक्ला ने संयुक्त कार्य बल की बैठक में बाल-वाटिका एवं कक्षा पहली में बच्चों को सीखने के...
राज्यपाल ओ.पी. जिंदल विश्वविद्यालय के प्रथम दीक्षांत समारोह में वर्चुअल रूप से हुईं शामिल

राज्यपाल ओ.पी. जिंदल विश्वविद्यालय के प्रथम दीक्षांत समारोह में वर्चुअल रूप से हुईं शामिल

यूनिवर्सिटी न्यूज़
दीक्षांत समारोह अपने आप में एक अविस्मरणीय क्षण होता है, विशेषकर विद्यार्थियों के लिए यह अति प्रसन्नता का क्षण होता है, क्योंकि इस दिन उन्हें अपने किए गए कठोर परिश्रम का प्रतिफल प्राप्त होता है। दीक्षांत समारोह के अवसर पर विद्यार्थियों को उपाधियों के साथ-साथ राष्ट्र निर्माण की भी दीक्षा दी जाती है। मुझे विश्वास है कि ये विद्यार्थी, नए एवं आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में अपना महत्वपूर्ण योगदान देंगे। यह बात राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके ने कही। वे आज ओ.पी. जिंदल विश्वविद्यालय रायगढ़ के प्रथम दीक्षांत समारोह में मुख्य अतिथि बतौर वर्चुअल रूप से संबोधित कर रही थी। इस अवसर पर प्रावीण्य सूची में स्थान प्राप्त विद्यार्थियों को गोल्ड, सिल्वर एवं ब्रांज मेडल तथा प्रणा पत्र तथा डिग्री वितरित किये गए। राज्यपाल सुश्री उइके ने उपाधि और मेडल प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को उनके स्वर्णिम भविष्य के लिए...
चन्दूलाल चन्द्राकर मेडिकल कॉलेज के छात्रों को परीक्षा में शामिल होने से नहीं होंगे वंचित : राज्य शासन ने जारी किया आदेश

चन्दूलाल चन्द्राकर मेडिकल कॉलेज के छात्रों को परीक्षा में शामिल होने से नहीं होंगे वंचित : राज्य शासन ने जारी किया आदेश

यूनिवर्सिटी न्यूज़
राज्य शासन द्वारा लोकहित एवं छात्रहित को दृष्टिगत रखते हुए निर्णय लिया गया है कि चन्दूलाल चन्द्राकर मेडिकल कॉलेज कचांदुर जिला दुर्ग में अध्ययनरत छात्रों को शिक्षण शुल्क एवं अन्य शुल्क के लंबित होने की स्थिति में विश्वविद्यालयीन परीक्षा में सम्मिलित होने से वंचित नहीं किया जाएगा। शासन द्वारा यह निर्णय इस मेडिकल कॉलेज में अध्ययनरत छात्रों के अभिभावकों द्वारा प्रस्तुत आवेदन के आधार पर लिया है। शासन के चिकित्सा शिक्षा विभाग द्वारा कुलसचिव पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति स्वास्थ्य विज्ञान एवं आयुष विश्वविद्यालय को इस संबंध में निर्देशित किया गया है कि परीक्षा का प्रवेश पत्र आयुष विश्वविद्यालय की वेबसाईट पर उपलब्ध कराया जाए और परीक्षा केन्द्र किसी शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय को बनाया जाए।...
कोरोना पेंडमिक में मानसिक तनाव से मुक्ति एवं खुश रहने के लिये 21 दिवसीय आनलाईन यूटयू्ब सीरीज का आयोजन

कोरोना पेंडमिक में मानसिक तनाव से मुक्ति एवं खुश रहने के लिये 21 दिवसीय आनलाईन यूटयू्ब सीरीज का आयोजन

यूनिवर्सिटी न्यूज़
कोरोना पेंडमिक के दौर में जब लोग को शारीरिक एवं एवं मानसिक रुप से परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है इसका सबसे ज्यादा प्रभाव लोगों की मानसिक स्थिति पर पड़ रहा है। इन सभी परेशानियों को ध्यान में रखते हुए स्वरूपानंद महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. हंसा शुक्ला के मार्गदर्शन में यह पहल की गई जिसमें राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर शिक्षा,स्वास्थ्य,जनसेवा,मल्टीनेशनल कंपनी में कार्यरत राष्ट्रीय एवं अंर्तराष्ट्रीय विशेषज्ञों के सकारात्मक विचारों का विडियों बनाकर महाविद्यालय के यूट्यूब चैनल पर अपलोड किया गया। कार्यक्रम की संयोजिका डा. रचना पाण्डेय ने बताया कि आज के इस महामारी के दौर में विश्व स्तर पर लोग डरे हुए है। उन्हे सही दिशा.निर्देश नही मिल पा रहा है कैसे वे अपने आपको इस संक्रमण से सुरक्षित रखकर खुष रह सकते  है। महाविद्यालय द्वारा लोगो को जागरूक करने एवं मानसिक संबंल प्रदान करने...
रासायनिक प्रोसेस सिम्युलेशन : कंप्यूटर कौशल के साथ केमिकल इंजीनियरिंग के लिए नया क्षितिज

रासायनिक प्रोसेस सिम्युलेशन : कंप्यूटर कौशल के साथ केमिकल इंजीनियरिंग के लिए नया क्षितिज

यूनिवर्सिटी न्यूज़
इंडस्ट्री 2.0 के बाद से , दुनिया भर में उपभोक्ता उत्पादों के थोक या बड़े पैमाने पर उत्पादन ने केमिकल इंजीनियरिंग और संबद्ध उद्योगों के महत्व को बढ़ा दिया है। छोटे पैमाने के बैच उत्पादन लाइनों से निरंतर बड़े उत्पादन के लिए प्रारंभिक परिवर्तनने औद्योगीकरण में रासायनिक इंजीनियरिंग के अंतहीन महत्व को रेखांकित किया हैं। इसने प्रक्रियाओं की गहन समझ की आवश्यकता पर प्रकाश डाला हैं। प्रोसेस मॉडलिंग और सिम्युलेशन इसी आग्रह का परिणाम था । प्रोसेस सिम्युलेशन का उद्देश्य एक आभासी वातावरण का प्रदर्शन करना है जिसके भीतर औद्योगिक उत्पादन स्तर के प्रत्येक पहलू का अध्ययन, परीक्षण, सुरक्षित और बेहतर तरीके बड़े पैमाने पर उत्पादन  से संसाधित किया जा सकता है। आधुनिक सॉफ्टवेअर में किसी भी रासायनिक, जैव रासायनिक, जैविक या भौतिक और अन्य तकनीकी प्रक्रियाओं का गणितीय मॉडल-आधारित प्रतिनिधित्व रूप ही प्रोसेस सिम्यु...
स्वरूपानंद महाविद्यालय में “बीट कोविड-हेल्पर स्किल्स” विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

स्वरूपानंद महाविद्यालय में “बीट कोविड-हेल्पर स्किल्स” विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

यूनिवर्सिटी न्यूज़
स्वरूपानंद महाविद्यालय के प्रबंधन विभाग के द्वारा एक दिवसीय वर्कशॉप" बीट  कोविड-हेल्पर  स्किल्स " विषय पर महात्मा गांधी नेशनल काउंसलिंग ऑफ रूरल एजुकेशन हैदराबाद, भारत सरकार की ईकाइ के तत्वाधान में संपन्न हुआ। कार्यशाला के मुख्य वक्ता श्री बीएससी नवीन कुमार , वरिष्ठ संकाय, महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण शिक्षा परिषद  ने विद्यार्थियों को कोरोना पेंडमिक कि विभिन्न परिस्थितियों और उनसे जुड़े समाधान के विषय में जानकारी दी और बताया कि कैसे हमारे देश में सफाई कर्मचारी,  डॉक्टर,  पुलिस, होम डिलीवरी सर्विस प्रदान करने वाले लोग इस कठिन समय में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं| उन्होन कहा विद्यार्थी भी स्वयं का समुह बनाकर समाज की इस विषम परिस्थिति में अपने आसपास के लोगों की सहायता कर सकते है।  विद्यार्थियों का एक समूह हॉस्पिटल्स में प्लाज्मा, ऑक्सीजन सीलेंडर तथा बेड की उपलब्धता से संबंधित आकड़ा त...