बजट सत्र का दूसरा चरण आज से शुरू होगा, संसद में गूंज सकता हैं दिल्ली हिंसा का मुद्दा

नई दिल्ली : बजट सत्र का दूसरा चरण सोमवार से शुरू होकर 3 अप्रैल तक चलेगा। इस दौरान दिल्ली हिंसा के मुद्दे पर लोकसभा और राज्यसभा में हंगामे के आसार हैं। विपक्ष ने दोनों सदनों में कार्यस्थगन प्रस्ताव के लिए नोटिस दिया है। कांग्रेस दिल्ली हिंसा पर गृहमंत्री अमित शाह के इस्तीफे की मांग करेगी। वहीं, संसदीय कार्य राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने कहा कि सरकार हर मुद्दे पर संसद में बहस के लिए तैयार है। बजट सत्र के पहले चरण (31 जनवरी से 11 फरवरी) में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 1 फरवरी को बजट पेश किया था।

न्यूज एजेंसी से बातचीत में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि केंद्र सरकार दिल्ली हिंसा को रोकने में नाकाम साबित हुई है। चौधरी ने कहा, “कांग्रेस संसद में दिल्ली हिंसा का मामला उठाएगी। हम गृहमंत्री के इस्तीफे की मांग करेंगे। देश की राजधानी में हिंसा उनकी निगरानी में हुई। यही पश्चिम बंगाल में भी हो रहा है। वहां भी गोली मारो सालों को, जैसे भड़काऊ नारे लगाए जा रहे हैं। भाजपा देश को मजहब के नाम पर बांटने की कोशिश कर रही है। टुकड़े-टुकड़े गैंग की असली कमान तो भाजपा के हाथ में है। धीरे-धीरे पूरा देश सांप्रदायिक हिंसा की चपेट में आ रहा है।”

हिंसा पर राजनीति न हो: मेघवाल
सरकार भी जानती है कि बजट सत्र के दूसरे चरण में हंगामा हो सकता है। केंद्रीय मंत्री मेघवाल ने कहा, “सरकार दिल्ली हिंसा के मुद्दे पर संसद में बहस के लिए तैयार है। विपक्षी दलों की तरफ से जो नोटिस आ रहे हैं, उसमें दिल्ली हिंसा का मुद्दा उठाया जा रहा है, सरकार भी इस मुद्दे पर संसद में बहस के लिए तैयार है लेकिन किसी को इस मुद्दे पर राजनीति नहीं करनी चाहिए। ऐसी घटना दोबारा न हो इसके लिए बहस होनी चाहिए।” माना जा रहा है कि इस सत्र में सरकार सरोगेसी और टैक्स विवादों के निपटारे के लिए नए बिल ला सकती है।