Saturday, November 27संस्थापक, प्रधान संपादक, स्वामी श्री नवनीत जगतरामका जी
Shadow

Tag: rajim

राजिम में कहा, कानून वापस नहीं हुए तो दिल्ली बनाएंगे हर प्रदेश, योगेंद्र बोले अब यह किसान की इज्जत का आंदोलन

राजिम में कहा, कानून वापस नहीं हुए तो दिल्ली बनाएंगे हर प्रदेश, योगेंद्र बोले अब यह किसान की इज्जत का आंदोलन

chhattisgarh, india
महानदी, पैरी और सोंढुर नदियों के त्रिवेणी संगम वाला कस्बा राजिम मंगलवार को ऐतिहासिक किसान महापंचायत का गवाह बना। भीड़ इतनी कि इसे छत्तीसगढ़ में किसानों की सबसे बड़ी सभा कहा जा सकता है। राजिम कृषि उपज मंडी में 15 हजार से अधिक किसानों को संबोधित करते हुए संयुक्त किसान मोर्चा के नेता राकेश टिकैत ने तीन-टी का फॉर्मूला दिया। राकेश टिकैत ने कहा, पिछले 10 महीनों से किसान आंदोलन चल रहा है। किसानों ने जमीन पर अपनी पकड़ और ताकत दिखा दी है। सरकार अभी तकनीक और सोशल मीडिया में हमसे मजबूत है। ऐसे में युवाओं को यह मोर्चा संभालना होगा। हमें तीन टी पर ध्यान रखना है। खेत में किसान का ट्रैक्टर, सेना में किसान के बेटे का टैंक और ट्वीटर पर किसान के हित की बात।...
28 सितंबर को राजिम में होगा किसान महापंचायत, भारत बंद को छत्तीसगढ़ कांग्रेस का समर्थन

28 सितंबर को राजिम में होगा किसान महापंचायत, भारत बंद को छत्तीसगढ़ कांग्रेस का समर्थन

chhattisgarh, india
रायपुर। तीनों कृषि कानून के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चा ने 27 सितंबर को भारत बंद का आह्वान किया है। किसानों के बंद को अलग-अलग राज्यों की सरकारों ने अपना समर्थन दिया है। इधर छत्तीसगढ़ कांग्रेस ने भारत बंद को अपना समर्थन दिया। बता दें कि छत्तीसगढ़ के किसानों ने भी केंद्र की तीनों कृषि कानूनों का विरोध जताया है। किसानों के प्रदर्शन को कांग्रेस ने हर समय साथ दिया है। वहीं इस बार भी भारत बंद को काग्रेस ने अपना समर्थन दिया है। कांग्रेस के अलावा छत्तीसगढ़ किसान मजदूर महासंघ ने भारत बंद का समर्थन किया है। 28 सितंबर को राजिम में होगा किसान महापंचायत तीनों कृषि कानूनों को लेकर राजधानी रायपुर से लगे राजिम में किसान महापंचायत का आयोजन होगा। महापंचायत में शामिल होने देश के कई बड़े नेता शामिल होंगे। इनमें राकेश टिकैत, योगेंद्र यादव, मेघा पाटकर किसान महापंचायत में शामिल होंगे।...
गरियाबंद का राजधानी से संपर्क कटा, रायपुर-जगदलपुर हाईवे भी बंद, सात जिलों में भारी बारिश का रेड अलर्ट

गरियाबंद का राजधानी से संपर्क कटा, रायपुर-जगदलपुर हाईवे भी बंद, सात जिलों में भारी बारिश का रेड अलर्ट

chhattisgarh, india
पिछले सप्ताह तक सूखे की आशंका से जूझ रहे छत्तीसगढ़ के कई जिलों में अब लोग भारी बारिश की वजह से लोग परेशान हैं। पिछले तीन दिनों से प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में भारी बारिश हो रही है। नदी-नाले उफान पर हैं। शहरों-गांवों में बाढ़ का पानी घुस गया है। राष्ट्रीय राजमार्गों पर कई फीट तक पानी बह रहा है। गरियाबंद को रायपुर से जोड़ने वाले राजमार्ग को बंद कर दिया गया हैं। धमतरी के बाद रायपुर-जगदलपुर हाईवे को बंद कर दिया गया है। जगदलपुर जाने के लिए रूट डायवर्ट कर वाहन निकाले जा रहे हैं। मौसम विभाग ने प्रदेश के अधिकांश जिलों में भारी बरसात और आकाशीय बिजली गिरने की चेतावनी जारी की है। सात जिलों के लिए तो रेड अलर्ट जारी किया गया है। रायपुर मौसम विज्ञान केंद्र ने मुंगेली, कबीरधाम, बेमेतरा, राजनांदगांव, बालोद, दुर्ग और कांकेर जिलों और उनसे लगे जिलों में एक-दो स्थानों पर भारी से अति भारी बरसात की चेतावनी दी है...
राजिम : तहसील कार्यालय में हुआ वृक्षारोपण का कार्यकम

राजिम : तहसील कार्यालय में हुआ वृक्षारोपण का कार्यकम

राजिम-गरियाबंद
राजिम। हम सब ने मिलकर आम का पौधा रोपण किए हैं और बरगद और पीपल के पेड़ों का धार्मिक मान्यताओं में विशेष महत्व है। इस वृक्ष में देवताओं के निवास करने के साथ ही यह हमें छांव, हवा के साथ-साथ सबसे महत्वपूर्ण प्राणवायु ऑक्सीजन देते हैं। कोरोना महामारी के समय ऑक्सीजन का महत्व हर कोई समझ ही चुका है, जिसके चलते लोग अब पौधारोपण व उसकी देखरेख के प्रति जागरूक हो रहे हैं। अब चाहे किसी का बर्थडे पार्टी हो या कोई और अन्य कार्यक्रम सभी में पौधा देकर उनको भेंट कीजिए और एक पेड़ लगाने का संकल्प जरूर लीजिए और आने वाली पीढ़ियों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए पीपल और बरगद के पेड़ लगाकर उन्हें अपनी ओर से उपहार भी देना है। वृक्षारोपण कार्यक्रम में श्री सी.एस. दुबे, श्री जनक साहू, मोहित यादव  शामिल रहे....
गरियाबंद : 16 जुलाई 2021 न्यूज़ बुलिटिन

गरियाबंद : 16 जुलाई 2021 न्यूज़ बुलिटिन

राजिम-गरियाबंद
मनरेगा का साथ मिला तो मेहनती महेश का जीवन बदल गया : मछली पालन के साथ साग-सब्जी उत्पादन कर लेते है दोहरा लाभ मेहनती हाथों को जब किसी का सहारा मिल जाता है, तो वे जीवन बदलने का सपना भी आसानी से पूरा कर लेते है। मेहनती और अपने काम के प्रति दृढ़ विश्वासी महेश को जब मनरेगा का साथ मिला तो उनकी आमदनी बढ़ गई और जीवन को भी अपने सांचे में ढालने लग गया। महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना से हो रहे आजीविका संवर्धन के कार्यो ने कई परिवारों की जिंदगी बदल दी है। जीवन-यापन के साधनों को सशक्त कर इसने लोगों की आर्थिक उन्नति के द्वार खोले है। कोविड-19 से निपटनें एवं लागू देशव्यापी लॉक-डाउन के दौर में भी, महात्मा गांधी नरेगा से निर्मित संसाधनों ने हितग्राहियों की आजीविका को अप्रभावित रखा है। नए संसाधनों ने उन्हे इस काबिल भी बना दिया है कि अब विपरीत परिस्थितियों में वे दूसरों की मदद कर रहे है।...