Saturday, September 25संस्थापक, प्रधान संपादक, स्वामी श्री नवनीत जगतरामका जी
Shadow

Tag: kissan

दुर्ग भिलाई : अंतरराष्ट्रीय मानव अधिकार संगठन ने मत्स्य पालन मे फ्राड किया खुलासा

दुर्ग भिलाई : अंतरराष्ट्रीय मानव अधिकार संगठन ने मत्स्य पालन मे फ्राड किया खुलासा

दुर्ग - भिलाई
मत्स्य पालन मे मोटी रकम की कमाई का झांसा देकर पूरे देश मे किसानो की जमा राशि लेकर हड़पने वाले एक गुडगांव हरियाणा की फिश फॉर्चून प्रोड्यूसर कंपनी ने प्रदेश के किसानो के साथ भी जालसाजी की है। प्रदेश के किसानो को भी इन ठगी ने लुभावने व आसान से पेपर देने पर आप ये मछली पालन का काम शुरू कर सकते है। जिसमे हमारी कंपनी का पूरा पूरा सहयोग मिलेगा। किसान सरकार द्वारा नियम शर्ते के झंझट से बचने और जल्दी जल्दी कार्य हो जाने खुशी मे ये किसान इनकी सारी बाते मानकर अपनी लाखो की रकम डुबाई है। कोहका भिलाई मे एक किसान ने अपनी जान तक दे दी। अंतरराष्ट्रीय मानव अधिकार संगठन छतीसगढ के प्रदेश अध्यक्ष ने इस फ्राड का खुलासा प्रेस कांफ्रेंस मे किया। और सारी घटना की जानकारी दी और बताया कि कैसे किसानो की आधी जमीन मे ही मछली पालन आप कर सकते है जबकि सरकार इसके लिए तीन एकड जमीन मांगती है और ढेर सारी नियम शर्ते और हम आपक...
रायपुर : किसानों को अब 1200 रुपए बोरी में मिलेगी डीएपी खाद

रायपुर : किसानों को अब 1200 रुपए बोरी में मिलेगी डीएपी खाद

छत्तीसगढ़ न्यूज़
छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी विपणन संघ के महाप्रबंधक ने बताया कि राज्य के किसानों को अब डीएपी उर्वरक 1200 रूपए  प्रति बोरी की दर पर  प्रदाय की जाएगी । भारत सरकार द्वारा डीएपी उर्वरक पर 20 मई से सब्सिडी बढ़ाए जाने के कारण खाद की  बढ़ी हुई कीमत में कमी आई है। ज्ञात रहे कि डीएपी उर्वरक निर्माता कंपनियों द्वारा खाद के दाम में एकाएक  प्रति बोरी लगभग 900 रूपए की वृद्धि किए जाने के कारण इसका दाम 1200 रुपये प्रति बोरी से बढ़कर लगभग 1900 रुपये प्रति बोरी हो गया था , जो सरकार द्वारा सब्सिडी बढ़ाए जाने के कारण फिर से घटकर 1200 रूपए प्रति बोरी हो गया है । गौरतलब है कि खरीफ सीजन 2021 के लिए राज्य में डीएपी उर्वरक की आपूर्ति के लिए छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी विपणन संघ द्वारा आमंत्रित निविदा में निर्माता कंपनियों  द्वारा प्रति बोरी डीएपी खाद की सप्लाई के लिए 1800 रुपए से लेकर 2026 रुपए की दर दी गई थी । राज्य स्त...