Thursday, November 25संस्थापक, प्रधान संपादक, स्वामी श्री नवनीत जगतरामका जी
Shadow

Tag: gariabandh

गरियाबंद : वीएलई छबिलाल खुद को जोखिम में डालकर नदी पार कर पहुंचते हैं आयुष्मान और श्रम कार्ड बनाने

गरियाबंद : वीएलई छबिलाल खुद को जोखिम में डालकर नदी पार कर पहुंचते हैं आयुष्मान और श्रम कार्ड बनाने

chhattisgarh, india
शासन की योजनाओं का लाभ पहुंचाने का ऐसा जुनून है कि अपने गांव से लगभग 25 किलोमीटर दूर उफनती नदी नाले और पगडंडियों को पार करके लोक सेवा केंद्र के ग्रामीण उद्यमी छविलाल विश्वकर्मा लोगों का आयुष्मान कार्ड और ई श्रम कार्ड बना रहे हैं। छबिलाल विश्वकर्मा वैसे तो अपने ग्राम फुलकर्रा, विकाशखण्ड गरियाबंद में ग्रामीण च्वाइस सेंटर चलाते हैं लेकिन आसपास के लोगों की मांग पर उनके गांव जाकर यह सुविधा देते हैं अभी हाल ही में अपने गांव से 25 किलोमीटर दूर ग्राम डूमरबाहरा जाकर उन्होंने शासन की योजनाओं का लाभ दिलाने लोगों के आयुष्मान कार्ड और ई श्रमिक कार्ड बनाएं हैं। शासन की निर्धारित दर पर ही वे यह सुविधा देते हैं। वह अपने साथ लैपटॉप, प्रिंटर, कैमरा और जरूरी अन्य डिवाइस साथ लेकर चलते हैं और विशेष कैंप लगाकर लोगों को यह सुविधा स्थानीय स्तर पर ही मुहैया कराते हैं। दरअसल में शासन द्वारा वर्तमान में आयुष्मान ...
गरियाबंद : शराब नशे की हालत में पाए जाने पर शिक्षक निलंबित

गरियाबंद : शराब नशे की हालत में पाए जाने पर शिक्षक निलंबित

chhattisgarh, politics
शराब के नशे की हालत में विद्यालय में उपस्थित होकर शासकीय कार्याें में व्यावधान करते पाए जाने पर संभागीय संयुक्त संचालक शिक्षा रायपुर द्वारा गरियाबंद जिले के शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला ढोड़रा विकासखण्ड मैनपुर के दो शिक्षक एल.बी. श्री शशि शेखर पाण्डेय और श्री खिर सिंह नेताम को पदीय उत्तरदायित्वों के निर्वहन में अनुशासनहीनता के कारण निलंबित कर दिया है। निलंबित अवधि में दोनों शिक्षकों का मुख्यालय विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी कार्यालय मैनपुर निर्धारित किया गया है।...
गरियाबंद : प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना से लोगों की गांव-गांव तक पहुंच बढ़ी : आर्थिक समृद्धि और सुगम आवाजाही मजबूत हुई

गरियाबंद : प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना से लोगों की गांव-गांव तक पहुंच बढ़ी : आर्थिक समृद्धि और सुगम आवाजाही मजबूत हुई

Uncategorized
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के निर्माण से ग्राम से लेकर राज्य एवं देश का चहुंमुंखी विकास हुआ हैं। इस योजना के तहत् जिले में प्रथम चरण में 192 सड़कों का निर्माण किया गया, जिससे 445 ग्रामों को सीधे जिला मुख्यालय एवं विकासखंड मुख्यालय से जुड़ गये। जिला मुख्यालय एवं विकासखंड मुख्यालय से जुड़ने के कारण आम लोगों को विभिन्न तरह की सुविधाएं जैसे-बड़े बाजार, हॉट, अस्पताल, उच्च शिक्षा आदि की सुविधा प्राप्त हुई। सड़क सुविधा प्राप्त हो जाने से लोगों की जीवन शैली में अभूतपूर्व परिवर्तन हुआ हैं, लोग अपनी सुविधा अनुसार मोटर सायकल, ट्रैक्टर, कार आदि का उपयोग करने लगे, जिससे समय की बचत हुई। ट्रैक्टर आदि का उपयोग करने से कृषि उत्पादन में भी वृद्धि हुई कृषि उत्पादन एवं अन्य संसाधनों की वृद्धि से देश एवं प्रदेश की अर्थव्यवस्था में सकारात्मक वृद्धि हुई हैं। ग्रामों में जनसंख्या का दबाव बढ़ने के कारण ग्रामीण सड़कों क...
गरियाबंद : 16 जुलाई 2021 न्यूज़ बुलिटिन

गरियाबंद : 16 जुलाई 2021 न्यूज़ बुलिटिन

राजिम-गरियाबंद
मनरेगा का साथ मिला तो मेहनती महेश का जीवन बदल गया : मछली पालन के साथ साग-सब्जी उत्पादन कर लेते है दोहरा लाभ मेहनती हाथों को जब किसी का सहारा मिल जाता है, तो वे जीवन बदलने का सपना भी आसानी से पूरा कर लेते है। मेहनती और अपने काम के प्रति दृढ़ विश्वासी महेश को जब मनरेगा का साथ मिला तो उनकी आमदनी बढ़ गई और जीवन को भी अपने सांचे में ढालने लग गया। महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना से हो रहे आजीविका संवर्धन के कार्यो ने कई परिवारों की जिंदगी बदल दी है। जीवन-यापन के साधनों को सशक्त कर इसने लोगों की आर्थिक उन्नति के द्वार खोले है। कोविड-19 से निपटनें एवं लागू देशव्यापी लॉक-डाउन के दौर में भी, महात्मा गांधी नरेगा से निर्मित संसाधनों ने हितग्राहियों की आजीविका को अप्रभावित रखा है। नए संसाधनों ने उन्हे इस काबिल भी बना दिया है कि अब विपरीत परिस्थितियों में वे दूसरों की मदद कर रहे है।...