Tuesday, November 30संस्थापक, प्रधान संपादक, स्वामी श्री नवनीत जगतरामका जी
Shadow

अनाथ शालात्यागी बालक को कलेक्टर के निर्देश पर आश्रम में मिला प्रवेश

अतिसंवेदनशील ग्राम कड़ेनार में निवासरत् सोनाधर सेठिया के माता-पिता की छोटी उम्र में ही गुजर जाने के पश्चात् सोनाधर के सामने विकट परिस्थितियों ने जन्म लिया। माता-पिता के बाद अपने बड़े पिता के साथ वह ग्राम कड़ेनार में ही निवास कर रहा था। परन्तु आर्थिक स्थिति मजबूत न होने के कारण वह अपनी पढ़ाई पांचवीं कक्षा के आगे जारी नहीं रख पाये। सोनाधर बचपन से ही पढ़ाई का शौकीन था। वह पढ़ाई के साथ चित्रकला में भी निपुण था। परंतु विकट स्थितियों के कारण वह पढ़ाई-लिखाई छोड़कर कार्य करने जाया करता था। ऐसे में सामाजिक कार्यकर्ता प्रकाश बागड़े द्वारा कलेक्टर पुष्पेन्द्र कुमार मीणा को अनाथ बालक के संबंध में जानकारी दी गई।

जानकारी प्राप्त होने पर कलेक्टर ने शिक्षा विभाग एवं आदिम जाति कल्याण विभाग को तुरंत बच्चे की हर संभव मदद हेतु निर्देशित किया। जिसपर सहायक आयुक्त संकल्प साहू द्वारा विभागीय अधिकारियों को बच्चे से मुलाकात कर उसे नजदीकी आश्रम में प्रवेश कराने हेतु भेजा गया। अधिकारियों द्वारा सोनाधर सेठिया को कड़ेनार के निकटतम अनुसूचित जनजाति बालक आश्रम कांगा में छठवीं कक्षा में प्रवेश दिलाया गया।

आश्रम में आवासीय परिसर के साथ स्कूल होने से सोनाधर को अपनी चिंताओं से मुक्ति मिल गई। स्कूल में प्रवेश पाकर सोनाधर ने प्रसन्नता जाहिर करते हुए जिला प्रशासन का आभार जताया। सोनाधर को अब शिक्षा के साथ खेल गतिविधियों एवं चित्रकला को आगे ले जाने में अनुकूल वातावरण प्राप्त हो रहा है। जिसपर उसके परिजनों द्वारा भी संतोष व्यक्त किया गया।

पोर्टल/समाचार पत्र विज्ञापन हेतु संपर्क : +91-9229705804
Advertise with us

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *