छत्तीसगढ़: तीन दिनों का राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव 27 दिसंबर से, देशभर से जुटेंगे 2500 कलाकार

रायपुर (एजेंसी) | छत्तीसगढ़ में पहली बार आयोजित हो रहे राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव तीन दिनों का होगा। राजधानी रायपुर के र्साइंस कॉलेज मैदान में 27, 28 और 29 दिसम्बर को होगा। यहां देश के लगभग सभी राज्यों से आदिवासी नृतक दल के कलाकार प्रस्तुति देने पहुंचेंगे। रायगढ़ जिले से भी पंथी, कर्मा और महोत्सव के तय कैटेगरी विवाह, फसल कटाई, परंपरागत त्योहारों पर निर्धारित कार्यक्रमों की तैयारी कर रहे हैं। आदिवासी विभाग पहले ब्लॉक स्तर पर कलाकारों की प्रस्तुतियों के आधार पर चयन करेगी। इसके बाद जिला और फिर संभाग स्तर पर चयन प्रक्रिया होगी।

इस आयोजन के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में राज्य स्तरीय समिति गठित की गई है। समिति में गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री रवीन्द्र चौबे, आदिमजाति एवं अनुसूचित जाति विकास मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, वन मंत्री मोहम्मद अकबर, खाद्य मंत्री अमरजीत भगत, खेल एवं युवा कल्याण मंत्री उमेश पटेल, छत्तीसगढ़ शासन के मुख्य सचिव समेत अन्य संबंधित अधिकारी होंगे।

हर राज्य से आएंगे 4 ग्रुप, 15-15 कलाकार हर ग्रुप में होंगे शामिल

राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में प्रतियोगिता भी होगी। इनमें चार विषयों पर कार्यक्रम होंगे। पहला विवाह या मांगलिक अवसर पर होने वाले नृत्य, दूसरा कृषि आधारित जैसे फसल कटने के समय आयोजित होने वाले नृत्य, तीसरा देश के विभिन्न राज्यों में पारंपरिक त्यौहारों, विशेष अवसरों पर होने वाले नृत्य और चौथे विषय को खुली प्रतियोगिता के रूप में रखा गया है। इसमें एक राज्य से 4 ग्रुप शामिल होंगे। हर ग्रुप में 15 कलाकारों की टीम होगी।

छत्तीसगढ़ के साथ ही एमपी, झारखंड, यूपी, बिहार, असम, कर्नाटक, केरल के कलाकार होंगे शामिल

इन सब में बेहतर कलाकारों को नेशनल ट्राइबल फेस्टिवल में प्रस्तुति देने का मौका मिलेगा। इसमें छत्तीसगढ़ के अलावा झारखंड, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार, असम, कर्नाटक, केरल, दक्षिण भारत के ढाई हजार से ज्यादा कलाकार हिस्सा लेंगे। इसके पीछे छत्तीसगढ़ सरकार को मुख्य उद्देश्य कलाकारों को अवसर प्रदान करने के साथ-साथ छत्तीसगढ़ी आदिवासी कला का प्रचार-प्रसार भी करना है। यह पहला ट्राइबल फेस्टिवल है, जो कि रायपुर में 27 से 29 दिसंबर तक होगा।

जानिए कब से शुरू होगी चयन प्रक्रिया

1 से 15 नवंबर तक ब्लॉक स्तरीय
16 से 30 नवंबर तक जिला स्तरीय
1 से 10 दिसंबर तक संभाग स्तरीय
27 से 29 दिसंबर तक नेशनल फेस्टिवल

फेस्टिवल के लिए वेबसाइट भी तैयार

इस महोत्सव की वेबसाइट www.tribalfest2019.in सहित सोशल मीडिया के फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम पर भी पेज बनाए गए हैं। इसके माध्यम से भी कलाकारों को इससे जुड़ी समस्त जानकारियां व अपडेट दी जा रही है।

पंथी, कर्मा, पंडवानी भी होंगे

नेशनल ट्राइबल फेस्टिवल रायपुर के साइंस कॉलेज में आयोजित किया जाएगा। राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में पारंपरिक रूप से आदिवासी समाज में विवाह, फसल कटाई, परंपरागत त्योहारों और अन्य अवसरों पर किए जाने वाले नृत्यों का प्रदर्शन किया जाएगा।

इस फेस्टिवल में प्रदर्शनी, हस्तशिल्प, कुटीर उद्योग, बस्तर एवं सरगुजा के कला प्रदर्शनी, हर्बल उत्पाद, नरवा, गरवा, घुरूवा, बारी की थीम पर प्रदर्शनी, छत्तीसगढ़ी व्यंजनों की प्रदर्शनी एवं विक्रय केन्द्रों के स्टाल लगाये जाएंगे। हाथकरघा वस्त्रों और कृषि आधारित विभिन्न उत्पादों को भी प्रदर्शित किया जाएगा। इस कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ के अलावा देश के दूसरे राज्यों से 2500 कलाकार शामिल होंगे।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*