मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान : 5 हजार 309 बच्चों को मिली कुपोषण से मुक्ति

रायपुर. मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के माध्यम से जांजगीर-चांपा जिले के 5 हजार 309 कुपोषित बच्चों को कुपोषण से मुक्ति मिली है। मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के तहत 06 माह से तीन वर्ष तक के कुपाषित बच्चों को और आंगनबाड़ी में दर्ज शिशुवती माताओं को पौष्टिक गरम भोजन दिया जा रहा है। जिला प्रशासन द्वारा विगत दिनों 636 स्थानों पर शिविर लगाकर एक लाख 6 हजार से अधिक महिलाओं व बच्चों का हिमोग्लोबीन जांच किया गया। जिले में 15 पोषण पुनर्वास केन्द्र संचालित है। इन केन्द्रों में गंभीर कुपोषित बच्चों को 15 दिन भर्ती रखकर उपचार किया जाता है। महिला एवं बाल विकास विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार चिन्हांकित किये गये कुपोषित बच्चों के अभिभावकों को परामर्श देकर राज्य सरकार की मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान का लाभ लेने के लिए प्रेरित किया जा रहा है।

जिला प्रशासन द्वारा मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के प्रचार-प्रसार पर विशेष जोर दिया गया है। शिशुवती महिलाओं को पौष्टिक गरम भोजन भी दी जा रही है। आकर्षक थाली के लिए जिला खनिज न्यास मद से राशि स्वीकृत की गई है। नियमित कार्यक्रम के तहत माह के पहले एवं तीसरे गुरूवार को सुपोषण चौपाल का आयोजन किया जाता है। जिसमें पौष्टिक भोजन और शारीरिक व घर की स्वच्छता की जानकारी दी जाती है। छोटे बच्चों के स्वास्थ्य जांच के लिए वजन किया जाता है और  लंबाई व बांह की नाप ली जाती है। अन्न प्रासन्न, गोदभराई, स्कूल पूर्व अनौपचारिक शिक्षा, जनस्वास्थ्य दिवस एवं पोषण दिवस का आयोजन किया जाता है। विभागीय अधिकारियो व मैदानी अमलों द्वारा हितग्राहियों से घर-घर जाकर सतत् संपर्क किया जाता है।