दुर्ग : मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक में मजदूर को मिली नई जिंदगी, सही समय पर मिला इलाज सेहत में आने लगा सुधार

दुर्ग. मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना सेलूद के मंगतराम बदला हुआ नामद्ध की जिंदगी बदल देगी ये तो वह खुद भी नहीं जानता था। मंगतराम का बायां पैर सुन्न हो गया था और चेहरा भी खराब होने लगा था। शर्मिंदगी के कारण काम काज तो दूर घर के बाहर निकलना भी छोड़ दिया था। शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से परेशान मंगतराम के गांव सेलूद में जब मुख्यमंत्री हाट बाजार योजना के तहत 14 जनवरी 2020 को स्वास्थ्य शिविर लगाया गया।

परिवार वालों ने समझाया कि कहीं दूर जाने की जरूरत नहीं है अब गांव में ही डॉक्टर आए हैं एक बार जाकर दिखवा लो। जैसे तैसे वह शिविर तक गया डॉक्टर द्वारा की जांच में ही पता लग गया कि मंगतराम को कुष्ठ है। उसके पैरों के नीचे से जैसे जमीन ही निकल गई हो। अब उसे सामाजिक बहिष्कार एअपंगता और मृत्यु का भय सताने लगा लेकिन डॉक्टरों ने उसे समझाया कि डरने की कोई बात नहीं है।

कुष्ठरोग का इलाज मुमकिन है। बस उसे समय पर दवाइयाँ लेनी होंगी। जिन्दगी से बेजार हो चुके मंगतराम को आशा की एक किरण नजर आई। डॉक्टरों ने तत्परता दिखाते हुए तुरंत एमडीटी शुरू करवाई। आज एक महीने बाद मंगतराम राम की हालत में काफी सुधार है अब उसने काम पर जाना भी शुरू कर दिया है। गाँव की चैखट तक स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराने के उद्देश्य से शुरू हुई हाट बाजार क्लिनिक योजना अपने इरादे और वादे दोनों में खरी उतरती नजर आ रही है।