Thursday, August 5संस्थापक, प्रधान संपादक, स्वामी श्री नवनीत जगतरामका जी
Shadow
kondagaon-news-13-july-2021

कोण्डागांव : कलेक्टर ने करमरी, हाड़ीगांव, डोंगरीपारा में पहुंच वजन त्यौहार का किया निरीक्षण, कुपोषित बच्चों का प्रतिमाह विशेषज्ञ डाॅक्टरों से जांच कराने दिये निर्देश

कोण्डागांव छत्तीसगढ़ शासन महिला बाल विकास विभाग के निर्देश पर 07 जुलाई से 16 जुलाई तक प्रदेश सहित सम्पूर्ण जिले में वजन त्यौहार संचालित किया जा रहा है। जिसमें महिला बाल विकास विभाग की आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा जिले के समस्त बच्चों में पोषण स्तर की जांच हेतु वजन एवं ऊंचाई का मापन कर बच्चों में कुपोषण का पता लगाया जा रहा है। जिसके निरीक्षण हेतु मंगलवार को कलेक्टर पुष्पेन्द्र कुमार मीणा विकासखण्ड माकड़ी के करमरी, हाड़ीगांव, माकड़ी डोंगरीपारा पहुंचे।

सर्वप्रथम कलेक्टर ने शामपुर सेक्टर के अधीन करमरी आंगनबाड़ी केन्द्र का मुआयना किया। जहां कलेक्टर ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा बच्चों के सुपोषण हेतु किये जा रहे कार्यों की सराहना की। करमरी ग्राम में कलेक्टर द्वारा दो गम्भीर कुपोषित एवं चार मध्यम कुपोषित बच्चों को मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के अंतर्गत चलाये जा रहे ‘नंगत पिला कार्यक्रम‘ के द्वारा दिये जा रहे उबले अण्डे एवं कोदो की खिचड़ी वितरण के संबंध में कार्यकर्ताओं से चर्चा की गयी। इस दौरान केन्द्र में बच्चों के परिजनों के साथ जनप्रतिनिधि भी उपस्थित रहे। जनप्रतिनिधियों ने भी कलेक्टर को पानी की समस्या, सड़क निर्माण, मक्का खरीदी ना होने के संबंध में अवगत कराया। जिसपर कलेक्टर द्वारा सीसी रोड निर्माण एवं स्कूल में फैंसिंग कराने के निर्देश दिये गये। मौके पर शाला त्यागी बालक दिव्यांग जितेन्द्र ने कलेक्टर को बताया कि विकलांगता के कारण उसे स्कूल छोड़ना पड़ा अतः उसे विकलांगता पेंशन की दरकार है इस पर कलेक्टर ने बालक के स्कूल आने-जाने में दिक्कतों के कारण शाला त्याग करने की वजह को देखते हुए बालक को 9वीं कक्षा में नजदीकी आश्रम में भर्ती कराकर छात्रवृत्ति एवं पेंशन देने के निर्देश दिये।

इसके साथ ही हाड़ीगांव एवं डोंगरीपारा में कलेक्टर ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं परिजनों से चर्चा कर कुपोषित बच्चों में कुपोषण के कारणों के संबंध में जानकारी ली। जिसमें एक बच्चे के माता-पिता में मद्यपान की आदतों के चलते बच्चों पर ध्यान न देने के कारण कुपोषण की जानकारी प्राप्त होने पर कलेक्टर ने महिला बाल विकास विभाग के अधिकारियों को बच्चे के माता-पिता से बात कर बच्चे का ध्यान रखने की सलाह देने का निर्देश दिया और कहा की ऐसे बच्चे जिनके माता-पिता मानसिक व्याधियों से ग्रसित हैं उन्हें तत्काल जिला अस्पताल में ले जाकर ईलाज करवाया जाये। मौके पर वजन त्यौहार में वजन किये जा रहे बच्चों की फोटो न लेने पर कलेक्टर ने नाराजगी जाहिर करते हुए जिला कार्यक्रम अधिकारी को जिले की सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों में वजन की जांच के दौरान फोटो खिंचकर जिला कार्यालय को प्रेषित करने एवं सुपोषण के क्षेत्र में अच्छा कार्य करने वाली आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को 15 अगस्त को सम्मानित करने के निर्देश दिये गये। इस दौरान कार्यक्रम अधिकारी हेमाराम राणा, सीडीपीओ इमरान अख्तर, जिला बाल संरक्षण अधिकारी नरेन्द्र सोनी सहित आंगनबाड़ी कार्यकर्ताएं एवं जनप्रतिनिधि उपस्थित रहे।

उल्लेखनीय है कि जिले में चल रहे वजन त्यौहार में अब तक कुल 30688 बच्चों की जांच की जा चुकी है। जिसमें केशकाल परियोजना में 5714 बच्चे, माकड़ी परियोजना में 7985, बड़ेराजपुर परियोजना में 2718, कोण्डागांव 1 परियोजना में 6505, कोण्डागांव 2 परियोजना में 1744, कोण्डागांव 3 परियोजना में 3944, फरसगांव परियोजना में 2078 बच्चों का वजन की जांच की गई है।

पोर्टल/समाचार पत्र विज्ञापन हेतु संपर्क : +91-9229705804
Advertise with us

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *