महिला टी-20 वर्ल्ड कप/ भारतीय टीम ने 18 रन से जीता मैच, 115 रन पर ऑलआउट हुई आस्ट्रेलिया की टीम

खेल डेस्क | भारत ने महिला टी-20 वर्ल्ड कप में लगातार तीसरी बार अपना पहला मैच जीत लिया। टीम इंडिया ने शुक्रवार को सिडनी में हुए मुकाबले में डिफेंडिंग चैम्पियन ऑस्ट्रेलिया को 17 रन से हराया। इससे पहले भारत ने 2018 के वर्ल्ड कप के अपने पहले मैच में न्यूजीलैंड को 34 रन से हराया था। तब कप्तान हरमनप्रीत कौर ने 51 गेंद पर 103 रन की पारी खेली थी। इस मैच में उन्होंने 8 छक्के और 7 चौके लगाए थे। 2016 में भी भारत ने पहले मैच में बांग्लादेश को 72 रन से हराया था। तब कप्तान मिताली राज ने 42 और हरमनप्रीत कौर ने 40 रन की पारी खेली थी। भारतीय टीम की वर्ल्ड कप में ऑस्ट्रेलिया पर यह लगातार दूसरी जीत है। 2018 में भी भारत ने कंगारू टीम को शिकस्त दी थी। पूनम को उनके शानदार प्रदर्शन के लिए प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया।

मैच में भारत की तरफ से पूनम यादव ने सबसे ज्यादा 4 विकेट लिए। वहीं, शिखा पांडे ने 3 और राजेश्ववरी गायकवाड़ ने 1 विकेट लिया। इससे पहले ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर भारत को पहले बल्लेबाजी का न्योता दिया।भारत ने पहले खेलते हुए 20 ओवर में 4 विकेट के नुकसान पर 132 रन बनाए। दीप्ति शर्मा ने 49 रन की पारी खेली। शेफाली वर्मा ने 15 गेंद पर 29 रन बनाए। जेमिमा रॉड्रिग्स ने 26, कप्तान हरमनप्रीत कौर 2 रन बनाकर आउट हुईं। वेदा कृष्णामूर्ति 9 रन बनाकर नाबाद रहीं। जवाब में ऑस्ट्रेलिया की पूरी टीम 19.5 ओवर में 115 रन बनाकर ऑलआउट हो गई। ऑस्ट्रेलिया की ओर से सबसे ज्यादा 51 रन एलिसा हिली ने बनाए, जबकि एशले गार्डनर 34 रन बनाकर आउट हुईं।

स्टेडियम में 13 हजार से ज्यादा दर्शक मौजूद थे
इस मुकाबले को देखने के लिए स्टेडियम में 13432 लोग मौजूद थे। यह ऑस्ट्रेलिया में हुए महिला क्रिकेट मैच में दर्शक संख्या का नया रिकॉर्ड है।

मैं तीसरी बार हैट्रिक लेने से चूकी : पूनम
टूर्नामेंट में आने से पहले पूनम चोटों से जूझ रही थीं और ठीक होने के लिए उन्होंने अपने फिजियो और साथी खिलाड़ियों का शुक्रिया अदा किया। उन्होंने मैच के बाद कहा, ‘‘जब मैं चोटिल थी तब फिजियो और टीम के साथियों ने मेरा काफी साथ दिया। मैंने यहां पहले भी आस्ट्रेलिया के खिलाफ अच्छी गेंदबाजी की थी और मैं इसे जारी रखना चाहती थी।’’ पूनम ने राचेल हायनेस और आस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर एलिसा पेरी को दो लगातार गेंदों पर आउट किया। वह हैट्रिक के करीब थी लेकिन अगली ही गेंद पर विकेटकीपर तानिया भाटिया ने जेस जोनासेन का कैच छोड़ दिया। हैट्रिक से चूकने पर पूनम ने कहा, “यह तीसरी बार है जब मैं हैट्रिक नहीं ले पाई। चोट से वापसी करना आसान नहीं होता और इसलिए मैं साथी खिलाड़ियों को धन्यवाद देती हूं।”

पिच बल्लेबाजी के लिए आसान नहीं थी : हरमनप्रीत

टीम की कप्तान हरमनप्रीत कौर ने कहा कि यह जीत बताती है कि टीम हर दिन बेहतर होती जा रही है। उन्होंने कहा, ‘‘हम जानते थे कि अगर हम 140 रनों का स्कोर करने में सफल रहे तो हमारी गेंदबाज इसका बचाव कर सकते हैं और यही हुआ। यह पिच बल्लेबाजी के लिए आसान नहीं थी। हम सिर्फ 140 के स्कोर तक पहुंचना चाहते थे।’’

भारत अब तक चैम्पियन नहीं बना

अब तक 6 बार टी-20 वर्ल्ड कप हो चुके हैं। भारत एक बार भी फाइनल में नहीं पहुंचा है, जबकि ऑस्ट्रेलिया सबसे ज्यादा 4 बार खिताब जीत चुका है। वह मौजूदा चैम्पियन भी है। पिछली बार उसने फाइनल में इंग्लैंड को 8 विकेट से हराया था। भारत 3 बार (2009, 2010, 2018) में सेमीफाइनल में पहुंचा है। पिछली बार उसे सेमीफाइनल में इंग्लैंड के हाथों हार मिली थी।

दोनों टीमें

भारत: हरमनप्रीत कौर(कप्तान), शेफाली वर्मा, स्मृति मंधाना, जेमिमा रॉड्रिग्ज, दीप्ति शर्मा, वेदा कृष्णमूर्ति, शिखा पांडे, तानिया भाटिया (विकेटकीपर), अरुंधति रेड्डी, पूनम यादव, राजेश्वरी गायकवाड़।

ऑस्ट्रेलिया: मेग लेनिंग (कप्तान), एलिसा हिली (विकेटकीपर), बेथ मूनी, एश्ले गार्डनर, एलिस पैरी, रशेल हेन्स, एनाबेल सदरलैंड, जेस जोनासेन, डेलिसा किमिंस, मॉली स्ट्रेनो, मेगन शट।

भारत को ग्रुप स्टेज में 4 मैच खेलने हैं
भारत को इस टूर्नामेंट में ग्रुप-ए में रखा गया है। अब भारत का अगला लीग मुकाबला 24 फरवरी को बांग्लादेश, 27 फरवरी को न्यूजीलैंड और 29 फरवरी को श्रीलंका से होगा।