स्वास्थ्य अधिकारी भी जुड़ेंगे पोषण अभियान से : पोषण माह में गंभीर कुपोषित बच्चों की पहचान के साथ जनजागरूकता के होगे प्रयास

रायपुर. देश में सितम्बर का पूरा माह ‘पोषण माह‘ के रूप में मनाया जा रहा है। इस दौरान जनमानस को उचित पोषण का महत्व समझाया जाएगा और गंभीर कुपोषित बच्चों की पहचान कर उनका संदर्भन और प्रबंधन किया जाएगा। पोषण माह के दौरान महिला एवं बाल विकास विभाग के साथ स्वास्थ्य विभाग भी समन्वय से काम करेगा और उनके द्वारा पोषण जागरूकता के लिए विभिन्न गतिविधियां आयोजित की जाएंगी। इस संबंध में संचालनालय स्वास्थ्य सेवायें से सभी मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारियों को निर्देश जारी कर दिया गया है।

पोषण माह में सभी गतिविधियों का आयोजन कोविड-19 से संबंधित निर्देशों का पालन करते हुए डिजिटल प्लेटफार्म के माध्यम से किया जाएगा। इस दौरान डिजीटल पोषण पंचायत, गृह भ्रमण एवं ग्राम स्वास्थ्य पोषण दिवस के माध्यम से समुदाय का संवेदीकरण,एनीमिया व डायरिया के प्रति जनजागरूकता, पोषण पर आधारित डिजीटल प्रतियोगिताओं का आयोजन और पोषण संबंधी कार्यक्रमों का प्रसारण किया जाएगा। इस माह के दौरान की जाने वाली गतिविधियों को भारत सरकार के जन आंदोलन के डैशबोर्ड पोर्टल पर भी अपलोड किया जाएगा।