Wednesday, September 22संस्थापक, प्रधान संपादक, स्वामी श्री नवनीत जगतरामका जी
Shadow

Govt Schemes

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल : गो-सेवा, गो-संरक्षण और गो-संवर्धन के क्षेत्र में छत्तीसगढ़ राज्य बना उदाहरण :

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल : गो-सेवा, गो-संरक्षण और गो-संवर्धन के क्षेत्र में छत्तीसगढ़ राज्य बना उदाहरण :

chhattisgarh, Govt Schemes, india
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ की गोधन न्याय योजना सफलता के नये आयाम स्थापित करती हुई आगे बढ़ रही है। छत्तीसगढ़ राज्य पूरे देश में गो-सेवा, गो-संरक्षण और गो-संवर्धन के क्षेत्र में उदाहरण बन गया है। जिस तरह गौ को कामधेनु कहा जाता है, उसी तरह गोधन न्याय योजना भी एक कामधेनु-योजना है। गोधन न्याय योजना हमारे लिए गो-माता का आशीर्वाद है। श्री बघेल आज यहां अपने निवास कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में गोधन न्याय योजना के तहत पशुपालकों, गौठान समितियों तथा स्वसहायता समूहों को कुल 5 करोड़ 24 लाख की राशि उनके बैंक खाते में अंतरण किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि बहुत खुशी की बात है कि साधारण-सी लगने वाली गोधन न्याय योजना के लाभ असाधारण हैं। यह सिर्फ गोबर खरीदने और खाद बनाकर बेचने की योजना नहीं है, बल्कि इस योजना के माध्यम से महिला सशक्तिकरण, उद्यमिता विकास, किसानों की आय में बढ़ोतरी, कृषि भूमि...
विशेष लेख : मिलने लगा है गरीबों को आवास, सरकार के प्रति बढ़ रहा विश्वास : 86 हजार से अधिक आवास का हो चुका है निर्माण

विशेष लेख : मिलने लगा है गरीबों को आवास, सरकार के प्रति बढ़ रहा विश्वास : 86 हजार से अधिक आवास का हो चुका है निर्माण

chhattisgarh, Govt Schemes
कोई इंसान गरीब हो या अमीर, अपना खुद का एक घर हो यह सपना सबका होता है। सम्पन्न परिवार वाले अपना घर का सपना कभी भी पूरा कर लेते है, लेकिन गरीब और जरूरतमंद परिवार चाह कर भी अपना खुद का एक घर नहीं बना पाता। वह जैसे-तैसे कच्चे मकानों में जीवन गुजार देता है। परेशानियों से जूझता गरीब परिवार जब कच्चे मकान को पक्का मकान बनाने का सपना संजोता है और कुछ बचत कर रुपए जोड़ने की कोशिश करता है तो कच्चे मकानों में समस्याओं के बीच जूझते हुए उन्हें क्या-क्या मुसीबतें नहीं झेलनी पड़ती। कभी खपरैल छतों से बारिश के दिनों में पानी टपकता है तो कभी बारिश से मिट्टी की दीवारें दरकती है। आखिरकार बारिश के साथ पक्के मकान का सपना भी ढ़ह जाता है। उनके द्वारा बचत कर जमा की गई कुछ राशि भी कच्चे मकान के मरम्मत में खर्च हो जाते हैं। गरीब परिवारों के ऐसे ही मुसीबतों से उबारने और उनके टूटते सपनों को सच करने का बीड़ा छत्तीसगढ़ की स...
श्रमिकों का पंजीयन होगा निःशुल्कः मुख्यमंत्री निर्माण श्रमिक निःशुल्क कार्ड योजना प्रारंभ करने का निर्णय :  छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल की बैठक में लिया गया निर्णय

श्रमिकों का पंजीयन होगा निःशुल्कः मुख्यमंत्री निर्माण श्रमिक निःशुल्क कार्ड योजना प्रारंभ करने का निर्णय : छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल की बैठक में लिया गया निर्णय

chhattisgarh, Govt Schemes, india
छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल के संचालक मंडल की चौदहवीं (14वीं) बैठक आज छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल कार्यालय अटल नगर, नवा रायपुर में अध्यक्ष श्री सुशील सन्नी अग्रवाल की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। बैठक में श्रमिकों का निःशुल्क पंजीयन करने हेतु मुख्यमंत्री निर्माण श्रमिक निःशुल्क कार्ड योजना प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया। बैठक में श्रमिकों की समस्याओं पर चर्चा करते हुए कई कल्याणकारी निर्णय लिए गए। जिसमें प्रमुख रूप से मंडल के तहत श्रमिकों के पंजीयन के सरलीकरण, श्रमिकों के अधिक से अधिक पंजीयन हेतु शिविर आयोजित करने, भगिनी प्रसूति सहायता योजना के तहत बच्चे के जन्म के बाद एक किस्त में 10 हजार रुपए दिए जाने का निर्णय लिया गया। बैठक में विशिष्ट अतिथि के रूप में छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल के सदस्यगण श्री महेश शर्मा,...
रायपुर : राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना अंतर्गत भूमिहीन परिवारों का पंजीयन 30 नवम्बर तक होगा

रायपुर : राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना अंतर्गत भूमिहीन परिवारों का पंजीयन 30 नवम्बर तक होगा

chhattisgarh, Govt Schemes, india
राज्य के भूमिहीन कृषि मजदूरों को आर्थिक संबल प्रदान करने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा इस वर्ष से संचालित राजीव गांधी ग्राामीण भूमिहीन  कृषि मजदूर न्याय योजना के तहत् भूमिहीन परिवारांे के पंजीयन के लिए आवेदक अपने क्षेत्र के ग्राम पंचायत में पंजीयन हेतु आवेदन दे सकते हैं। ग्रामीण क्षेत्र में भूमिहीन कृषि मजदूर परिवार की पहचान कर इन परिवारों को 6 हजार रूपए वार्षिक आर्थिक अनुदान उपलब्ध कराया जाएगा, जिससे उनके शुद्ध आय में वृद्धि होगी। योजना अंतर्गत पंजीयन के लिए कृषि मजदूरों से बिलासपुर जिले के 483 ग्राम पंचायतों में 1 सितम्बर 2021 से आवेदन लिए जा रहे है। बिल्हा जनपद पंचायत के 127 ग्राम पंचायतों में अब तक 3 हजार 183 आवेदन प्राप्त हुए है। इसी तरह कोटा के 131 ग्राम पंचायतों में 2 हजार 350 आवेदन, मस्तूरी के 103 ग्राम पंचायतों में 2 हजार 284 आवेदन और तखतपुर जनपद पंचायत के 122 ग्राम पंचायतों में...
पोषण माह 2021 : छत्तीसगढ़ को कुपोषण मुक्त बनाने हर व्यक्ति, परिवार, समाज, संगठन का सहयोग जरूरी – श्रीमती अनिला भेंड़िया

पोषण माह 2021 : छत्तीसगढ़ को कुपोषण मुक्त बनाने हर व्यक्ति, परिवार, समाज, संगठन का सहयोग जरूरी – श्रीमती अनिला भेंड़िया

chhattisgarh, Govt Schemes
महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अनिला भेंड़िया की अगुवाई में ‘गढ़बो नवा सुपाषित छत्तीसगढ़‘ के संकल्प के साथ शनिवार को राजधानी रायपुर के तेलीबांधा स्थित मरीन ड्राइव से विशाल साइकिल रैली निकली। रैली में छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ.किरणमयी नायक, रायपुर नगर पालिक निगम के सभापति श्री प्रमोद दुबे, महिला एवं बाल विकास विभाग की सचिव श्रीमती रीना बाबा साहेब कंगाले, संचालक श्रीमती दिव्या उमेश मिश्रा,यूनिसेफ के स्टेट हेड श्री जॉब जकारिया सहित राष्ट्रीय सेवा योजना, छत्तीसगढ़ साइकिल क्लब, सहित विभिन्न स्वयं सेवी संगठनों के प्रतिनिधि, विभागीय अधिकारी कर्मचारी और बड़ी संख्या में युवा शामिल हुए। पोषण माह के अवसर पर छत्तीसगढ़ को कुपोषण-एनीमिया से मुक्त बनाने,लोगों में सुपोषण के प्रति जागरूकता और व्यवहार परिवर्तन लाने के उद्देश्य से महिला एवं बाल विकास विभाग और सहयोगियों द्वारा साइकिल साइकिल रैली क...
रायपुर : रघुनाथ नगर में लगा छत्तीसगढ़ का पहला कार्बन फ्लक्स टॉवर : प्रशिक्षण कार्यक्रम 12 सितम्बर को

रायपुर : रघुनाथ नगर में लगा छत्तीसगढ़ का पहला कार्बन फ्लक्स टॉवर : प्रशिक्षण कार्यक्रम 12 सितम्बर को

chhattisgarh, Govt Schemes
वनों से उत्सर्जित होने वाली गैसों के आधार पर पर्यावरण पर पड़ने वाले प्रभाव का अध्ययन के लिए उत्तर छत्तीसगढ़ के सीमावर्ती वन परिक्षेत्र रघुनाथ नगर में छत्तीसगढ़ का पहला कार्बन फ्लक्स टॉवर लगाया गया है। यह वन परिक्षेत्र बलरामपुर वन मंडल में शामिल है। देहरादून से पहुंचे वैज्ञानिक वन मंडलाधिकारी बलरामपुर श्री लक्ष्मण सिंह ने बताया कि इसके अध्ययन के संबंध में 12 सितम्बर को पूर्वान्ह 10 बजे से रघुनाथ नगर में विभागीय अधिकारियों का प्रशिक्षण कार्यक्रम रखा गया है। इस अवसर पर भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद, देहरादून के वैज्ञानिक तथा प्रशिक्षक भी उपस्थित रहेंगे।...
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल : छत्तीसगढ़ गोबर खरीदने वाला और गोबर खरीदी को लाभ में बदलने वाला पहला राज्य

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल : छत्तीसगढ़ गोबर खरीदने वाला और गोबर खरीदी को लाभ में बदलने वाला पहला राज्य

chhattisgarh, Govt Schemes, india
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा है कि छत्तीसगढ़ गोबर खरीदी करने वाला देश का पहला राज्य होने के साथ-साथ गोबर खरीदी को लाभ में बदलने वाला पहला राज्य भी है। उन्होंने कहा कि गोबर से वर्मी कम्पोस्ट तैयार करने के साथ इसे और भी अधिक लाभप्रद बनाने की दिशा में काम किया जाना चाहिए। गोबर से बिजली उत्पादन की संभावनाओं का अध्ययन किया जाए, चारे के मामले में गौठानों को स्वावलंबी बनाने के साथ यहां आर्थिक गतिविधियां बढ़ाने का प्रयास किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में गौठानों के प्रति लोगों का रुझान बढ़ रहा है, गौठानों को और अधिक मजबूत बनाया जाना चाहिए। कलेक्टर गौठानों के संधारण, मरम्मत और निर्माण कार्यों की जरूरत की लगातार समीक्षा करें और आवश्यकतानुसार कार्य कराएं। मुख्यमंत्री आज यहां अपने निवास कार्यालय में गोधन न्याय योजना के अंतर्गत गोबर बेचने वाले पशुपालकों एवं संग्राहकों को गोबर खरीदी के ए...
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ’एकीकृत किसान पोर्टल’ किया लांच, किसानों के लिए आसान होगी पंजीयन की प्रक्रिया

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ’एकीकृत किसान पोर्टल’ किया लांच, किसानों के लिए आसान होगी पंजीयन की प्रक्रिया

chhattisgarh, Govt Schemes, india
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज यहां अपने निवास कार्यालय में कैबिनेट की बैठक के पहले एकीकृत किसान पोर्टल https://kisan.cg.nic.in लॉन्च किया। कृषि विभाग के सहयोग से एनआईसी द्वारा तैयार एकीकृत किसान पोर्टल पर राजीव गांधी किसान न्याय योजना, समर्थन मूल्य पर धान खरीदी, मुख्यमंत्री वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना तथा कोदो-कुटकी, रागी उपार्जन योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को एक बार ही पंजीयन कराना होगा। मुख्यमंत्री ने एकीकृत किसान पोर्टल को लांच करते हुए किसानों को बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि इस पोर्टल से किसानों के लिए पंजीयन कराना आसान हो जाएगा। विभिन्न योजनाओं का लाभ लेने के लिए उन्हें एक बार ही पंजीयन कराना होगा। कृषि उत्पादन आयुक्त एवं कृषि विभाग की सचिव डॉ.एम.गीता ने एकीकृत पोर्टल के संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि विभिन्न योजनाओं के लिए किसानों के पंजीयन की प्रक्रिया का इस प...

रायपुर : मुख्यमंत्री की ऋण माफी की घोषणा ने महिलाओं का बढ़ाया हौसला

chhattisgarh, Govt Schemes, india
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा महिला समूहों के ऋण माफ किये जाने की घोषणा से  महिलाओं में खुशी की लहर है । बलौदाबाजार भाटापारा जिले में 43 लाख रूपये से ज्यादा का ऋण माफ किया जायेगा। इससे 146 महिला समूहों से जुड़ी लगभग डेढ़ हजार महिलाओं को फायदा मिलेगा। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने पिछले दिनों महिलाओं के सम्मान के लिए आयोजित तीज महोत्सव में ऋण माफी की घोषणा की है। उन्होंने इसके साथ ही महिला कोष से दिये जाने  वाले ऋण की अधिकतम सीमा भी 1 लाख रूपये से बढ़ाकर 2 लाख रूपये कर दी है। ऋण माफ की खबर पाकर महिलाओं में खुशी की लहर दौड़ गई है और महिलाओं ने उन्हें धन्यवाद दिया है। उल्लेखनीय है कि महिलाओं को छोटे-छोटे काम धंधे के लिए मात्र 3 प्रतिशत वार्षिक ब्याज दर पर ऋण उपलब्ध कराया जाता है। यह ऋण उन्हें महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा छत्तीसगढ़ महिला कोष से स्वीकृत किया जाता है। बलौदाबाजार जिले में 20 हज...
विशेष लेख : श्रमिकों और कामगार परिवारों के लिए राहत भरा पैगाम लाती हैं, मोबाइल मेडिकल यूनिट

विशेष लेख : श्रमिकों और कामगार परिवारों के लिए राहत भरा पैगाम लाती हैं, मोबाइल मेडिकल यूनिट

chhattisgarh, Govt Schemes, india
एक तरफ जहां श्रमिक और कामगार परिवारों के लिए निजी अस्पतालों में जाकर इलाज कराना आर्थिक बोझ था तो दूसरी ओर अपने काम-काज को छोड़कर सरकारी अस्पताल में उपचार के लिए जाना भी एक बड़ी समस्या थी। ऐसे में कई बार बीमार रहते हुए भी काम पर जाना उनकी मजबूरी थी। इससे कई बार उन्हें गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं से जूझना पड़ता था। राज्य सरकार ने इन गरीब श्रमिकों और कामगार परिवारों की दिक्कतों को समझते हुए उन्हें घर के पास ही चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराने का निर्णय लिया और उनके लिए मुख्यमंत्री स्लम स्वास्थ्य योजना शुरू की है। श्रमिक और कामगार परिवारों का मानना है कि मोबाइल मेडिकल यूनिट उनके परिवारों के लिए राहत  भरा पैगाम लेकर आती हैं। इस योजना के शुरू होने पर उन्हंे इलाज के लिए अस्पताल नहीं जाना पड़ता। कई प्रकार की बीमारियों के लिए टेस्ट के साथ ही दवाईयां भी निःशुल्क मिल जाती हैं। श्रमिक और कामगार लोग इस सुविधा...