Thursday, December 2संस्थापक, प्रधान संपादक, स्वामी श्री नवनीत जगतरामका जी
Shadow
dr-raju-raigarh

1 जुलाई डाॅक्टर्स डे : महात्मा बुद्ध और गांधी जी की छबि से मिलती जुलती है गांधीगंज के डाॅ.राजू की सूरत और सीरत

गुजिश्ता दौर से ही रायगढ़ को ख्याति दिलाने में सियासतदार राजा चक्रधरसिंह जी संगीत सम्राट केे नाम से मशहूर तो हैं ही, शास्त्रीय कत्थक नृत्य शैली में रायगढ़ घराना भी राजा साहब के वजह से ही माकूल हुआ है, दूसरी कड़ी में दानवीर किरोड़ीमल जी के बाद जिले को ख्याति दिलाने में मृत्यु पर्यन्त तक उ़द्योगो द्वारा प्रदूषण फैलाये जाने जल दोहन के खिलाफत करने तथा बेहतर पर्यावरण माहौल मुहैया कराने वास्ते सक्रिय रहे गांधीवादी विचार के कट्टर अनुयायी, देश की आजादी संग्राम के सेनानी और रायगढ़ से निर्वाचित प्रथम विधायक स्वर्गीय श्री रामकुंमार अग्रवाल जी को बतौर जननायक का नाम बेहद ही शउर से लिया जाता है। इन्हीं फ्रीडम फाईटर के सुपुत्र हैं गांधीगंज के डाॅ. राजू अग्रवाल निहायत ही कुदरती अदबी और शाहीनी इंसानियत से लबरेज़ हैं, तभी तो निखालिस घरेलु परिवेश में चल रहे इनके क्लिनिक में शक्त अशक्त मरीजों के हूजूम के बीच इनकी प्यार दुलार भरी आवाज हर हमेशा सुनी जा सकती है।

बड़ी सिस्टर जर्डा गांव के सुरेश जी वाॅयरल फीवर के 4-5 मरीज भेजे हैं, पूछकर अंदर भेजिए और हां इनसे फीस मत लिजिएगा अगर ले लिये हैं तो वापस करिये, सीमा सिस्टर पुलिस थाना से एक लेडी कांस्टेबिल आई है क्या देखिये बाहर है तो भेजिए। छोटी सिस्टर अंदर आईए ड्राअर से सेंपलिंग की ये दवाईयां और टाॅनिक निकालकर मुव्वस्सिर हाजी साहब की हज्जन अम्मांजी के लिए दीजिए और खिलाने का तरीका समझा दीजिए। हाइड्रोसिल के इलाज के लिये पहुचें उर्दना और बिंझकोट के एक किशोर और एक व्यक्ति को समझाते हुये सुना गया कि आपके आसपास के गांव में हाइड्रोसिल बढ़ने की परेशानी से बच्चे युवा जूझने की जानकारी ’है।

श्री जयंत थोरात (आईपीएस) एस.पी.साहब की भागीदारी से आपके गांव में मेरे द्वारा केम्प लगाया जा रहा है मैं अपनी टीप और जरूरी दवाईयों के साथ आ रहा हूं वहीं निशुल्क आपरेशन करेंगे बेवहज चार-पांच हजार रूपये खर्च मत किजिये। आपके पास वापस जाने का साधन है? कंपाउडर पांडे को आवाज देकर अपने कार ड्रायवर को बुलाते हैं और ग्रामीणों को गांव छोड़ आने की हिदायत देकर डाॅ.राजू ओ.टी. के अंदर चले जाते हैं। इनके क्लिनिक में ऐसा नजारा एक दिनी नही हमेशा ऐसे ही रहता है।

सोशल पुलिसिंग कार्यक्रम के तहत श्री यू.बी.एस.चैहान पूर्ववर्ती एडीशनल एस.पी. के साथ सक्रिय रहे और घरघोड़ा तहसील के ग्राम अमलीडीह, कसडोल (तमनार) में योगेश महराज द्वारा संचालित दृष्टिबाधित बच्चों के आश्रम में पहुंचकर आश्रम संचालकों को गैस सिलेंडर्स, चुल्हा, कपड़ा, बे्रल लिपि की पाठ्य पुस्तकें, आदि उपलब्ध कराये तथा श्री चैहान साहब द्वारा उपलब्ध कराये गये पुलिस बस वाहन में दृष्टिबाधित इन 50 बच्चों को रायगढ़ शहर लाकर आंखों के डाॅ’ प्रभात पटेल के क्लिनिक में दन बच्चों के आंखों का टेस्ट कराते हुए दृष्टि वापस आने योग्य बच्चों का चयन करने में रोल माॅडल भी बने।

डाॅ. प्रभात पटेल की अनुशंसा पर अपने करीबी श्री श्रवण अग्रवाल (साधुराम स्कूल संचालक) से दो लक्जरी वाहन की सुविधा देकर आचार्य योगेश महराज जी के साथ सात दृष्टिबाधित रायपुर के नेत्र विशेषज्ञ डाॅ.महोबिया के क्लिनिक भेजकर रोशनी आने योग्य आंखों के इलाज के लिए परामर्श किये। पुलिस मुख्यालय रायपुर में पदस्थ श्री यूबीएस चैहान और टी.आई. आर.एन.मिश्रा थाना सिविल लाईन्स से बच्चों और आश्रम संचालक सहयोगियों के खाने रहने का इंतजाम करने में योगदान लिये।

इतना ही नहीं पुलिस कार्यालय के कोने की खाली जमीन में एसबीआई का एटीम बूथ निर्मित करने के लिए जन सहयोग से जिसमें श्री यूबीएस चैहान, श्री मंजूल दीक्षित, श्री रमेश बंसल, श्री ओमप्रकाश (कलकत्ता ड्रेसेस) आदि के साथ आर्थिक सहायता जुटाये जिससे पुलिस स्टाॅफ तथा गंज बाजार के व्यापारियों, आम नागरिकों को एटीएम की सुविधा आज तक हासिल है।

उल्लेखनीय है कि पुलिस विभाग की भूमि पर संचालित इस एटीएम बूथ का शुभारंभ श्री दीपक झा (आईपीएस) पूर्व पुलिस अधीक्षक एवं हालिया एस.पी.जगदलपुर और डाॅ.राजू अग्रवाल द्वारा स्थानीय गांधी गंज के जनसमूह की मौजूदगी में किया गया है। डाॅ. राजू के घरनुमा क्लिनिक के चेंबर में दाहिने दीवाल पर चांवल के दानों से निर्मित भगवान बुद्ध की मुस्कुराती तस्वीर लगी है पीछे की दीवाल में पितृपुरूष जननायक स्वर्गीय रामकुमार जी की छाया तुल्य फोटो हेै जिसे नगर र्के आर्टिस्ट सुरेन्द्र ठाकुर द्वारा उकेरा गया है।

जीते जागते जैसे ये दोनों विभूतियों की तस्वीरें मानों डाॅ. साहब की आत्मा में रचे बसे से लगते हैं। तभी तो आते जाते नमन और प्रणाम कर आशीष लेने का उपक्रम इनके रोजमर्रा के व्यवहार में शामिल दिखता है। यू तो डाॅक्टर राजू बतौर प्रतिष्ठित नागरिक, बतौर समाज सेवक बतौर सेवाभावी चिकित्सक और एक उम्दा इंसान के बतौर जिले भर में विख्यात हैं, रायगढ़ पुलिस की जनभागीदारी में खासकर श्री गोविंद अग्रवान (साल्वेंट) श्री अप्पा दरबार के सतीश बडा़लिया की टीम के साथ इन्होनें उर्दना, बिंझकोट, चन्द्रहासिनी देवी ग्राम चंद्रपुर, आदि जगहों में अपने खर्चे और संसाधन जुटाकर विधिवत केम्प लगाकर तकरीबन 1200-1500 के बीच की संख्या में छोटे बच्चों से वृद्धों, जो ज्यादातर दिहाड़ी मजदूर वर्ग से रहे, के हाइड्रोसिल का आपरेशन कर उन्हें शारीरिक तकलीफो से निजात दिलाने और, उन्हें रोजी रोटी कमाने लायक मुक्कम्मल करने का भी डाॅ. राजू को लोकयश ओर पुण्यप्रताप हासिल है।

तभी तो 65 साल की उमर में कोविड-19 के संक्रमित कोरोना महामारी के जानलेवा वाॅयरस को इनके देह की दहलीज से वापस भागना पड़ा और क्वारंनटाईन के दिन गुजारने के बाद मोहताजी और मुफलिसी से घिरे बीमार इंसानों को बेहतर से बेहतर सेहत मुहैया करने वास्ते फिर से खिदमतगार बने और पहले की तरह महात्मा गांधी के गांधीवादी विचारों और महात्मा गौतम बुद्ध की ओजस मुस्कान के साथ कोरोना को हराकर वापस आये डाॅ. राजू के लिए बीमारी से सेहतमंद हुए मरीजों के हूूजूम में गुंजायमान स्वर तुझमे रब दिखता है, इल्म वाक़ई हकीकत की तरह है।

श्री सुरेंद्र वर्मा

लेखक के विचार अपने निजी है।

surendra.vma751@gmail.com

पोर्टल/समाचार पत्र विज्ञापन हेतु संपर्क : +91-9229705804
Advertise with us

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *