Saturday, November 27संस्थापक, प्रधान संपादक, स्वामी श्री नवनीत जगतरामका जी
Shadow
dantewada-dai-saal-hisab

दंतेवाड़ा : ढाई साल का हिसाब लेने विधायक बंगला पहुंचे भाजपा कार्यकर्ता

दंतेवाड़ा : भाजपा अनुसूचित जनजाति मोर्चा व युवा मोर्चा दंतेवाड़ा के कार्यकर्ता विधायक देवती कर्मा को ज्ञापन सौपने उनके निवास दंतेवाड़ा बंगला पहुंचे। भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रदेश में भूपेश बघेल के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार के ढाई साल पूरा होने के बाद भी उनके द्वारा घोषणा पत्र के माध्यम से आदिवासी समाज से किये वादों को पूरा ना करने का आरोप लगाया।

विधानसभा चुनाव के पूर्व कांग्रेस पार्टी ने अपने जन घोषणा पत्र में आदिवासियों से वोट हासिल करने उद्देश्य से कई लोक-लुभावन घोषणा किया था। इसके परिणामस्वरूप अजजा आरक्षित 29 में से 27 सीट तथा 3 सामान्य सीट से अजजा वर्ग के कांग्रेसी विधायक चुनाव जीते। परंतु दुर्भाग्यवश कांग्रेस सरकार का ढाई वर्ष का कार्यकाल समाप्त हो गया है आदिवासी वर्ग से किये गये घोषणा और वादों पर अब तक कोई सकारात्मक पहल नही हुई है। वहीं कांग्रेस के अजजा के 30 विधायक द्वारा भी घोषणा पत्र को पूरा कराने की दिशा में कोई आवाज नही उठाई गई है। ढाई साल के भूपेश बघेल सरकार की इस बेरुख़ी से आदिवासी वर्ग आहत है और सत्तापक्ष के आदिवासी विधायकों की चुप्पी से ऐसा लग रहा है मानो वे कुम्भकर्णी निद्रा में मग्न हैं।

स्वयं पीसीसी अध्यक्ष अनुसूचित जनजाति वर्ग से होने के बाद भी आदिवासियों के हित के लिए किसी प्रकार की पहल नही की है। विधायक देवती कर्मा को भाजपाइयों ने ज्ञापन सौंप कर उनसे अपने जन घोषणा पत्र को पूरा करवाने की अपील की है। अनुसूचित जनजाति के प्रदेश महामंत्री नन्दलाल मुड़ामी एवं युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष कुणाल ठाकुर ने ज्ञापन के माध्यम से बताया है की घोषणा पत्र में वन अधिकार पूर्णतः लागू करते हुये समर्थन मूल्य पर एक-एक दाना लघु वनोपज की खरीदी का वादा किया गया था, पूरा नही हुआ। लघु वनोपज की खरीदी के लिये प्रदेश शासन ने कोई नीति नहीं बनाई है।

भाजपा सरकार में हरा सोना कहा जाने वाले तेंदूपत्ता की खरीदी लगभग 10 दिनों तक होती थी। तेंदूपत्ता संग्राहकों को बोनस, चरण पादुका और जीवन बीमा प्रदान किया जाता था। संग्राहक परिवार के विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति प्रदान की जाती थी परंतु कांग्रेस की सरकार में ये सब सुविधाएं बंद कर दी गई है। तेंदूपत्ता की खरीदी भी मात्र एक और दो दिन ही की गई, जिसके कारण संग्राहक आदिवासी परिवारों को अपना तेंदूपत्ता औने-पौने दाम पर दलालों को बेचने के लिये मजबूर होना पड़ा। कांग्रेस ने वादा किया था कि वनाधिकार के सभी निरस्त आवेदनों पर पुनः सुनवाई करते हुए सभी को व्यक्तिगत वनाधिकार पत्र दी जाएगी। प्रदेश में लगभग 5 लाख आदिवासी परिवारों के वनाधिकार तकनीकी कारणों से निरस्त हुये थे। आज दिनांक तक वनाधिकार पत्र प्रदान करने की दिशा में शासन के तरफ से कोई कार्यवाही नहीं की गई है।जिसके कारण 5 लाख आदिवासी परिवार अपने आप को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं।

कांग्रेस ने जन घोषणा पत्र में पांचवीं अनुसूची क्षेत्र में पेसा कानून को पूर्णतः लागू करने की घोषणा की थी, जो लागू नही हुआ। भाजपा शासनकाल में रेत सहित अन्य गया गौण खनिजों का प्रबंधन ग्रामसभा की अनुमति से ग्राम पंचायत करता था परंतु कांग्रेस की सरकार आने के बाद से रेत खदानों की नीलामी खनिज विभाग के माध्यम से प्रारंभ करवाई गई। इसी प्रकार कृषि भूमि संबंधित छोटे-छोटे कार्य जैसे कृषक की मृत्यु पश्चात फौती उठाना, नामांतरण-बटांकन जैसे कार्य भाजपा शासन में ग्रामसभा की अनुमति से पटवारी द्वारा किया जाता था परंतु कांग्रेस की इस सरकार में ये कार्य अब तहसीलदार कर रहे हैं। यह भी पेसा कानून के उल्लंघन और ग्रामसभा के अधिकारों का हनन है।

कांग्रेस के राज में कोंडागांव, बलरामपुर, रायगढ़, कवर्धा, जशपुर में नाबालिग आदिवासी बहनों पर दुष्कर्म की अनेक घटनाएं घटित हुई है जो मानवता को शर्मसार करती हैं परंतु कांग्रेस सरकार के कान में जूं तक नहीं रेंगती। सिलगेर की दुर्भाग्यजनक घटना पर भी कांग्रेस के जनजाति विधायकों की चुप्पी मानवता को झकझोरती है। गोलीबारी से 4 लोगों की मृत्यु पर पुलिस द्वारा उन्हें नक्सली बताना और बस्तर के समस्त सीटों से जीते कांग्रेस विधायकों सहित छग शासन की चुप्पी, कांग्रेस की आदिवासी विरोधी मानसिकता को दर्शाती है। कांग्रेस ने आदिवासी समाज से वादा किया था कि सरकार में आते ही 100 दिन के अंदर फर्जी जाति प्रमाण पत्र धारकों पर वैधानिक कार्यवाही करते हुये उन्हें शासकीय सेवा से बर्खास्त किया जायेगा, पर कोई कार्रवाई नही हुई है।

इन ज्वलंत मुद्दों पर आप भी आदिवासी जनप्रतिनिधि होने के नाते भूपेश बघेल के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार से अपने जन घोषणा पत्र के अनुरूप निर्णय एवं समाधान करवाने की पहल करने की बात कही गई है।इस अवसर पर भाजपा के वरिष्ठ दुर्गा सिंह चौहान , कुणाल ठाकुर युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष, नंद किशोर राणा अनुसूचित जनजाति मोर्चा जिला प्रभारी, पिसे राम वेट्टी अनुसूचित जनजाति मोर्चा महामंत्री, ओजस्वी मण्डावी महिला मोर्चा जिला अध्यक्ष, खिरेंद्र सिंह ठाकुर पिछड़ा मोर्चा जिला अध्यक्ष, राघवेंद्र गौतम , सुमित भादौरिया, श्रीकांत शिवहरे, पायल गुप्ता, श्रवण कड़ती, सरिता उएके, दंतेश्वरी सोरी, सुमन ठाकुर, कुंती झरना, सुनीता भास्कर एवं भाजपा कार्यकर्ता उपस्थित थे।

पोर्टल/समाचार पत्र विज्ञापन हेतु संपर्क : +91-9229705804
Advertise with us

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *