Monday, July 26संस्थापक, प्रधान संपादक, स्वामी श्री नवनीत जगतरामका जी
Shadow
press-varta-baloda-bazaar

कांग्रेस सरकार के कुप्रबंधन से सोसायटी एवं संग्रहण केंद्रों मे बारिश से भीग रहे है लाखों मीट्रिक टन धान : ओमप्रकाश चंद्रवंशी

बलौदाबाजार. भाजपा किसान मोर्चा जिला बलौदाबाजार के पदाधिकारियो के द्वारा संयुक्त प्रेस वार्ता लेते हुए प्रदेश मंत्री किसान मोर्चा चंद्रवंशी ने कहा कि प्रदेश के सभी सोसायटियों एवं संग्रहण केंद्रों मे प्रदेश सरकार की भ्रष्ट नीतियों के कारण लाखों मीट्रिक टन धान बारिश से भीगकर बर्बाद हो गए जिसकी जाँच के लिए प्रदेश किसान मोर्चा के द्वारा पाँच सदस्यीय टीम का गठन शिवरतन शर्मा विधायक भाटापारा के नेतृत्व मे किया गया है जिसमे पूर्व विधायक डॉ. सनम जांगड़े, विजय केसरवानी, ओमप्रकाश चंद्रवंशी, पवन वर्मा, अमित वर्मा, हेमसिंह चौहान सदस्य होंगे

ये सभी सोसायटियों एवं संग्रहण केंद्रों मे जाकर जाँच कर क्षति की रिपोर्ट तैयार कर प्रदेश संगठन को सौपेंगे। जिले के वरिष्ठ नेता विजय केशरवानी ने कहा कि प्रदेश सरकार कह रहे है कि हमने 92 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी की है और उसमे से 91 लाख मीट्रिक टन का संग्रहण कर चुके है लेकिन सभी सोसायटियों मे हजारों मीट्रिक टन आज भी सभी सोसायटियों मे पड़ी हुई है और बारिश से भीगकर खराब हो रहे है ऐसा लगता है की सरकार कोई बड़ी साजिश कर सड़े हुए धान को शराब माफियाओ को शराब बनाने के लिए बेचने के लिए धान को सड़ा रही है लेकिन हम किसान मोर्चा यह होने नहीं देंगे।

किसान मोर्चा जिलाध्यक्ष पवन वर्मा ने कहा कि जिले के सभी सोसायटियों मे आज भी हजारों टन धान रखा हुआ है जो बारिश मे भीगने के कारण अंकुरित हो चुका है और खराब हो चुका है और सरकार के अधिकारी खाद्य मंत्री को विभागीय कामकाज की समीक्षा मे यह दावा कर रही है की 91 लाख मीट्रिक टन का उठाव हो चुका है जबकि इस साल 92 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी हुई थी। अधिकारियों के मुताबिक 54 लाख मीट्रिक टन मिलर्स के द्वारा 20 लाख मीट्रिक टन संग्रहण केंद्रों के द्वारा 9 लाख से ज्यादा विडर्स एवं करीब 8 लाख 10 हजार मीट्रिक टन से ज्यादा का धान का उठाव खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति निगम द्वारा किया जा चुका है इनके मुताबिक करीब एक लाख मीट्रिक टन धान का उठाव नहीं हुआ है

लेकिन हकीकत मे करीब पूरे प्रदेश मे 10 लाख मीट्रिक टन धान का उठाव नहीं हुआ है और बारिश मे भीगकर खराब हो चुका है साथ ही सरकार के द्वारा समितियों से धान का उठाव लेट से करने के कारण सुखत से धान सारटेज हो रहा है उसे समितियों के ऊपर कार्यवाही किया जा रहा है साथ ही समितियों मे कंपोस्ट खाद के नाम पर 2 रु. किलो मे गोबर खरीदकर 10 रु. मे किसानों को जबरदस्ती बेच रही है जिससे किसान परेशान है। डी.ए.पी. खाद की कीमत केंद्र सरकार ने 1200 रु. प्रति बोरी कर दी है लेकिन अभी भी राज्य सरकार 1800 रु. मे बेच रही है इन सब मुद्दे को लेकर किसान मोर्चा ने जाँच समिति का गठन किया गया है जो 19 एवं 20 जून को सभी समितियों मे जाकर जाँच करेगी। प्रेस वार्ता मे प्रमुख रूप से प्रदेश कार्यसमिति सदस्य नंदकुमार साहू, जिला उपाध्यक्ष नरेश केशरवानी, महामंत्री अमित वर्मा, संजय श्रीवास, संजय पंजवानी, सुनील यादव उपस्थित थे।

पोर्टल/समाचार पत्र विज्ञापन हेतु संपर्क : +91-9229705804
Advertise with us

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *