Saturday, November 27संस्थापक, प्रधान संपादक, स्वामी श्री नवनीत जगतरामका जी
Shadow

chhattisgarh

रायपुर : छत्तीसगढ़ में बेरोजगारी दर राष्ट्रीय दर से आधी, राष्ट्रीय औसत दर 7.6 फीसदी की तुलना में छत्तीसगढ़ में 3.8 प्रतिशत

रायपुर : छत्तीसगढ़ में बेरोजगारी दर राष्ट्रीय दर से आधी, राष्ट्रीय औसत दर 7.6 फीसदी की तुलना में छत्तीसगढ़ में 3.8 प्रतिशत

chhattisgarh, Education & Jobs
छत्तीसगढ़ में उद्यम, रोजगार और अर्थव्यवस्था की स्थिति अब और अधिक बेहतर होने लगी है। कोरोना संक्रमण काल के दौरान राज्य सरकार द्वारा किए गए बेहतर प्रबंधन से बाजारों में रौनक और व्यवसाय में तेजी बनी रही। यही वजह है कि छत्तीसगढ़ राज्य में बेरोजगारी दर राष्ट्रीय दर की तुलना में मात्र आधी है। सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआई) द्वारा 16 सितंबर 2021 को जारी रिपोर्ट के मुताबिक छत्तीसगढ़ में बेरोजगारी की दर 3.8 प्रतिशत है, जबकि राष्ट्रीय बेरोजगारी दर 7.6 प्रतिशत है। छत्तीसगढ़ राज्य की स्थिति देश के कई बड़े और विकसित राज्यों से बेहतर है। छत्तीसगढ़ राज्य कोरोना संकट काल के दौरान भी कारोबार, व्यवसाय और उद्योग  धंधे प्रभावित न हो, इसको लेकर राज्य सरकार द्वारा त्वरित निर्णय एवं प्रभावी कदम उठाए गए। संक्रमण काल में भी लोगों को निरंतर काम मिलता रहे, इसको लेकर भी राज्य सरकार ने हर संभव प्रबंध किए। गा...
रायपुर : मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को विश्वकर्मा जयंती की दी शुभकामनाएं

रायपुर : मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को विश्वकर्मा जयंती की दी शुभकामनाएं

chhattisgarh, india
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने निर्माण और सृजन के देवता भगवान विश्वकर्मा जी की जयंती के अवसर पर प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएं दी है। विश्वकर्मा पूजा की पूर्व संध्या पर राज्य के सभी श्रमवीरों को हार्दिक बधाई देते हुए श्री बघेल ने कहा है कि प्रदेश के विकास में श्रमवीरों का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। विश्वकर्मा जयंती का दिन हमें निर्माण में श्रम का महत्व बताता है। यह दिन हमें यह संदेश देता है कि हम श्रम से अपने समाज और राष्ट्र के निर्माण के लिए संकल्पित हों। उन्होंने कहा कि भगवान विश्वकर्मा को संसार के प्रथम वास्तुकार की संज्ञा दी गई है। भगवान विश्वकर्मा ने श्रम से सृजन की सार्थकता को स्थापित किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ के संकल्प को पूरा करने में श्रमवीरों की महत्वपूर्ण भूमिका होगी।...
संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग के तकनीकी टीम ने भोरदेव मंदिर का निरीक्षण किया

संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग के तकनीकी टीम ने भोरदेव मंदिर का निरीक्षण किया

chhattisgarh, india
राज्य शासन के संस्कृति एवं पुरात्व विभाग की टीम द्वारा कबीरधाम जिला प्रशासन के रिर्पोर्ट के आधार पर छत्तीसगढ़ के ऐतिहासिक भोरमदेव मंदिर के संरक्षण एवं संवर्धन की दिशा में जल्द ही काम शुरू किया जाएगा। इसकी प्रांरभिक तैयारियां शुरू हो गई है। फणीनागवंशी काल, 11वीं शताब्दी में निर्मित छत्तीसगढ़ के ऐतिहासिक, पुरात्व,पर्यटन एवं धार्मिक जन आस्था के केन्द्र भोरमदेव मंदिर के परिसर एवं गर्भगृह में हो रहे बरसात के पानी के रिसाव व मंदिर के बाहरी भाग के क्षरण के वास्तविक कारणों का पता लगाने के लिए जिला प्रशासन की रिपोर्ट पर आज गुरूवार को छत्तीसगढ़ संस्कृति एवं पुरात्व विभाग की टीम ने मंदिर परिसर का अवलोकन किया। संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग के डिप्टी डायरेक्टर श्री अमृत लाल पैकरा की अवलोकन टीम में चार अलग-अलग तकनीकी विशेषज्ञों ने बारिकी से निरीक्षण किया। निरीक्षण टीम में पुरात्व विभाग के सहायक अभियंता श...
रायपुर : जेईई में प्रयास के छात्रों का शानदार प्रदर्शन : परीक्षा में बैठे 395 छात्रों में से 178 हुए क्वालीफाई

रायपुर : जेईई में प्रयास के छात्रों का शानदार प्रदर्शन : परीक्षा में बैठे 395 छात्रों में से 178 हुए क्वालीफाई

chhattisgarh, india
आईआईटी, एनआईटी और केन्द्र सरकार से वित्त पोषित इंजीनियरिंग संस्थाओं में प्रवेश के लिए प्रतिष्ठित जेईई परीक्षा के बुधवार को घोषित परिणामों में आदिम जाति विभाग द्वारा संचालित प्रयास आवासीय विद्यालय के छात्रों ने शानदार प्रदर्शन किया है। जेईई मेन्स के लिए इस वर्ष प्रयास आवासीय विद्यालयों के 395 छात्र परीक्षा में शामिल हुए, इनमें से 178 छात्र सफल हुए। सर्वाधिक 73 छात्र प्रयास बालक आवासीय विद्यालय सड्डू रायपुर से उत्तीर्ण हुए है। इसके अलावा प्रयास कन्या आवासीय विद्यालय रायपुर की 23 छात्राएं, प्रयास आवासीय विद्यालय दुर्ग के 21 छात्र, प्रयास अंबिकापुर के 18 छात्र, प्रयास बिलासपुर के 16, प्रयास जगदलपुर के 15 और प्रयास कांकेर के 12 छात्रों ने सफलता प्राप्त की है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल और आदिम जाति एवं अनुसूचित जनजाति विकास मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने प्रयास आवासीय विद्यालय के छात्...
विशेष लेख : मिलने लगा है गरीबों को आवास, सरकार के प्रति बढ़ रहा विश्वास : 86 हजार से अधिक आवास का हो चुका है निर्माण

विशेष लेख : मिलने लगा है गरीबों को आवास, सरकार के प्रति बढ़ रहा विश्वास : 86 हजार से अधिक आवास का हो चुका है निर्माण

chhattisgarh, Govt Schemes
कोई इंसान गरीब हो या अमीर, अपना खुद का एक घर हो यह सपना सबका होता है। सम्पन्न परिवार वाले अपना घर का सपना कभी भी पूरा कर लेते है, लेकिन गरीब और जरूरतमंद परिवार चाह कर भी अपना खुद का एक घर नहीं बना पाता। वह जैसे-तैसे कच्चे मकानों में जीवन गुजार देता है। परेशानियों से जूझता गरीब परिवार जब कच्चे मकान को पक्का मकान बनाने का सपना संजोता है और कुछ बचत कर रुपए जोड़ने की कोशिश करता है तो कच्चे मकानों में समस्याओं के बीच जूझते हुए उन्हें क्या-क्या मुसीबतें नहीं झेलनी पड़ती। कभी खपरैल छतों से बारिश के दिनों में पानी टपकता है तो कभी बारिश से मिट्टी की दीवारें दरकती है। आखिरकार बारिश के साथ पक्के मकान का सपना भी ढ़ह जाता है। उनके द्वारा बचत कर जमा की गई कुछ राशि भी कच्चे मकान के मरम्मत में खर्च हो जाते हैं। गरीब परिवारों के ऐसे ही मुसीबतों से उबारने और उनके टूटते सपनों को सच करने का बीड़ा छत्तीसगढ़ की स...
श्रमिकों का पंजीयन होगा निःशुल्कः मुख्यमंत्री निर्माण श्रमिक निःशुल्क कार्ड योजना प्रारंभ करने का निर्णय :  छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल की बैठक में लिया गया निर्णय

श्रमिकों का पंजीयन होगा निःशुल्कः मुख्यमंत्री निर्माण श्रमिक निःशुल्क कार्ड योजना प्रारंभ करने का निर्णय : छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल की बैठक में लिया गया निर्णय

chhattisgarh, Govt Schemes, india
छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल के संचालक मंडल की चौदहवीं (14वीं) बैठक आज छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल कार्यालय अटल नगर, नवा रायपुर में अध्यक्ष श्री सुशील सन्नी अग्रवाल की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। बैठक में श्रमिकों का निःशुल्क पंजीयन करने हेतु मुख्यमंत्री निर्माण श्रमिक निःशुल्क कार्ड योजना प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया। बैठक में श्रमिकों की समस्याओं पर चर्चा करते हुए कई कल्याणकारी निर्णय लिए गए। जिसमें प्रमुख रूप से मंडल के तहत श्रमिकों के पंजीयन के सरलीकरण, श्रमिकों के अधिक से अधिक पंजीयन हेतु शिविर आयोजित करने, भगिनी प्रसूति सहायता योजना के तहत बच्चे के जन्म के बाद एक किस्त में 10 हजार रुपए दिए जाने का निर्णय लिया गया। बैठक में विशिष्ट अतिथि के रूप में छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल के सदस्यगण श्री महेश शर्मा,...
महानदी की बाढ़ में फंसे 8 ग्रामीणों को बचाया गया, गोबरा-नवापारा की कई बस्तियां हुईं खाली; रायपुर में 144 मकान ढहे

महानदी की बाढ़ में फंसे 8 ग्रामीणों को बचाया गया, गोबरा-नवापारा की कई बस्तियां हुईं खाली; रायपुर में 144 मकान ढहे

chhattisgarh, india
छत्तीसगढ़ के कई हिस्सों में भारी बरसात से आई बाढ़ ने कहर बरपा रखा है। रायपुर जिले में 144 मकान ढह गए हैं। सबसे अधिक नुकसान गोबरा-नवापारा में हुआ है। वहां की कई बस्तियों को खाली करा लिया गया है। वहीं, अभनपुर के पास महानदी की बाढ़ में फंसे आठ ग्रामीणों को SDRF की टीम बचाकर लाई है। अभनपुर के लखना कोलियारी गांव के बीच महानदी में बाढ़ आने से टापू की स्थिति बन गई थी। खेतों में काम करने गए आठ ग्रामीण उस टापू पर फंस गए। इनमें चंपारण गांव के प्रेमबती, दुर्गा, टिकेश्वरी, उमेश, हलधर, मंशाराम, सालिक, टिकेश्वर और लखना के मनराखन शामिल थे। रात में ग्रामीणों ने प्रशासन को मजदूरों के बाढ़ में फंस जाने की जानकारी दी। उसके बाद SDRF के बचाव दल को वहां भेजा गया। कोलियारी का एक ग्रामीण पोखराज बचाव दल को उस जगह ले गया जहां मजदूर फंसे हुए थे। करीब दो घंटे की मशक्कत के बाद सभी मजदूरों को नाव से बाहर निकाल लिया गया। र...
मुख्यमंत्री ने अभियंता दिवस पर भारत रत्न सर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया को श्रद्धांजलि अर्पित की

मुख्यमंत्री ने अभियंता दिवस पर भारत रत्न सर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया को श्रद्धांजलि अर्पित की

chhattisgarh, india
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने अभियंता दिवस के अवसर पर आज यहां अपने निवास कार्यालय में भारत के महान इंजीनियर भारत रत्न सर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया के चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री श्री मोहम्मद अकबर, लोकस्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री गुरु रूद्रकुमार, उच्च शिक्षा मंत्री श्री उमेश पटेल, भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय के सचिव श्री नागेन्द्र नाथ सिन्हा, मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव श्री सुब्रत साहू, छत्तीसगढ़ पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की अपर मुख्य सचिव श्रीमती रेणु जी पिल्ले भी इस अवसर पर उपस्थित थीं। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर सभी इंजीनियरों को अभियंता दिवस की बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि किसी भी राष्ट्र और राज्य के निर्माण में इंजीनियरों की महत्वपूर्ण भूमिका रहती है। इंजीनियर अपने तकनीकी ज्ञान और कुशलता से विकास और समृद्धि की...
मुख्यमंत्री : छत्तीसगढ़ की भौगोलिक परिस्थितियों को देखते हुए चार हजार किलोमीटर ग्रामीण सड़कों की दी जाए मंजूरी

मुख्यमंत्री : छत्तीसगढ़ की भौगोलिक परिस्थितियों को देखते हुए चार हजार किलोमीटर ग्रामीण सड़कों की दी जाए मंजूरी

chhattisgarh
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज यहां अपनेे निवास कार्यालय में भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय के सचिव श्री नागेन्द्र नाथ सिन्हा सेे मुलाकात के दौरान छत्तीसगढ़ की विशेष भौगोलिक परिस्थितियों को देखते हुए लगभग चार हजार किलोमीटर ग्रामीण सड़कों की मंजूरी देने और ग्रामीण विकास योजनाओं के लिए छत्तीसगढ़ को अधिक से अधिक संसाधन उपलब्ध कराने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री के साथ श्री सिन्हा ने छत्तीसगढ़ में ग्रामीण विकास योजनाओं की प्रगति के संबंध में विस्तृत विचार-विमर्श किया। मुख्यमंत्री ने भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय के सचिव श्री सिन्हा को छत्तीसगढ़ की भौगोलिक परिस्थितियों की जानकारी देते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ तमिलनाडु और बिहार से बड़ा राज्य है। छत्तीसगढ़ में बसाहटें दूर-दूर स्थित हैं। इसलिए बसाहटों को सड़कों से जोड़ने के लिए लगभग 4 हजार किलोमीटर सड़कों की मंजूरी दी जानी चाहिए। मुख्यमंत्री ने म...
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल : खाली पड़ी खदान पर मानव निर्मित जंगल बनाने का कार्य प्रशंसनीय

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल : खाली पड़ी खदान पर मानव निर्मित जंगल बनाने का कार्य प्रशंसनीय

chhattisgarh, india
देश में पर्यावरण की मानव निर्मित विशाल धरोहर दुर्ग जिले के नंदिनी की खाली पड़ी माइंस में बनी है। यहां विशाल मानव निर्मित जंगल विकसित किया गया है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज नंदिनी में इस प्रोजेक्ट का अवलोकन किया। नंदिनी की खाली पड़ी खदानों की जमीन में यह प्रोजेक्ट विकसित किया गया है। लगभग 3.30 करोड़ रुपए की लागत से यह प्रोजेक्ट तैयार किया गया है। आज जन वन कार्यकम में मुख्यमंत्री श्री बघेल ने यहाँ बरगद का पौधा लगाया और जंगल का अवलोकन किया। उल्लेखनीय है कि इसके लिए डीएमएफ तथा अन्य मदों से राशि ली गई है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के निर्देश पर पर्यावरण संरक्षण के लिए यह प्रोजेक्ट तैयार किया गया। यह प्रोजेक्ट देश दुनिया के सामने उदाहरण है कि किस तरह से निष्प्रयोज्य माइंस एरिया को नेचुरल हैबिटैट के बड़े उदाहरण के रूप में बदला जा सकता है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर अपने संबोधन में कहा ...