Friday, October 22संस्थापक, प्रधान संपादक, स्वामी श्री नवनीत जगतरामका जी
Shadow

chhattisgarh

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल : सरकार में कोई भी कानून से ऊपर नहीं फिर चाहे वो मेरे 86 साल के पिता ही क्यों न हो, कार्यवाही होगी

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल : सरकार में कोई भी कानून से ऊपर नहीं फिर चाहे वो मेरे 86 साल के पिता ही क्यों न हो, कार्यवाही होगी

chhattisgarh, india
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा है कि विगत दिनों उनके पिता श्री नंदकुमार बघेल द्वारा एक वर्ग विशेष के विरूद्ध की गई टिप्पणी उनके संज्ञान में आयी है। उनकी इस टिप्पणी से समाज के एक वर्ग की भावनाओं और सामाजिक सद्भाव को ठेस लगी है उनके इस बयान से उन्हें भी दुःख हुआ है। छत्तीसगढ़ सरकार हर जाति, हर धर्म, हर वर्ग, हर समुदाय के लोगों के सम्मान और उनकी भावनाओं की कद्र करती है मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि मुझे सोशल मीडिया एवं अन्य माध्यमों से यह ज्ञात हुआ है कि ये बात कही जा रही है कि श्री नंदकुमार बघेल पर इसलिये कार्यवाही नहीं होगी क्योंकि वे मुख्यमंत्री के पिता हैं। श्री भूपेश बघेल ने यह स्पष्ट कहा है कि उनकी सरकार सभी को एक ही दृष्टि से देखती है। उनके पिता श्री नंदकुमार बघेल से उनके वैचारिक मतभेद शुरू से हैं ये बात सभी को पता है। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा है कि हमारे राजनीतिक वि...
रायपुर : मुख्यमंत्री ने गुरूजनों को शिक्षक दिवस पर दी शुभकामनाएं

रायपुर : मुख्यमंत्री ने गुरूजनों को शिक्षक दिवस पर दी शुभकामनाएं

chhattisgarh, education, Education & Jobs
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस के अवसर पर सभी गुरूजनों और प्रदेशवासियों को बधाई और शुभकामनाएं दी है। मुख्यमंत्री ने अपने बधाई संदेश में कहा कि पूर्व राष्ट्रपति भारतरत्न डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने अध्यापक के रूप में उच्च नैतिक मूल्यों को अपने जीवन में उतारने के साथ ही अपने छात्रों को भी इसके लिए प्रेरित किया। डॉ. राधाकृष्णन कठिन विषय को अपनी शैली से सरल, रोचक और प्रिय बना देते थे। उनका जन्मदिन शिक्षक दिवस के रूप में मनाकर हम सभी गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे देश में गुरू को गोविंद से भी बड़ा दर्जा दिया गया है, क्योंकि ईश्वर तक पहुंचने और सत्मार्ग पर चलने का रास्ता गुरू ही बताते हैं। समाज के लिए अच्छा नागरिक तैयार करने में शिक्षक की अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका होती है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार सभी बच्चों को अच्छी शिक्षा प्राप्त हो सके इस...
रायपुर : मुख्यमंत्री शिक्षक दिवस पर 5 सितम्बर को शामिल होंगे ‘शिक्षा मड़ई‘ में, आर.डी. तिवारी स्कूल का लोकार्पण करेंगे

रायपुर : मुख्यमंत्री शिक्षक दिवस पर 5 सितम्बर को शामिल होंगे ‘शिक्षा मड़ई‘ में, आर.डी. तिवारी स्कूल का लोकार्पण करेंगे

chhattisgarh, education, india
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के मुख्य आतिथ्य में शिक्षक दिवस के अवसर पर 5 सितम्बर को नवाचारी शिक्षकों के कार्यों पर आधारित प्रदर्शनी ‘शिक्षा मड़ई‘ का आयोजन किया जाएगा। यह आयोजन दोपहर 01 बजे आर.डी. तिवारी स्वामी आत्मानंद शासकीय उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम स्कूल आमापारा रायपुर में होगा। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल इस अवसर पर स्कूल का लोकार्पण करेंगे। कार्यक्रम में नवाचारी शिक्षकों का सम्मान, महतारी दुलार योजना के बच्चों को छात्रवृत्ति का वितरण भी किया जाएगा। श्री भूपेश बघेल करेंगे आर.डी. तिवारी स्कूल का लोकार्पण, नवाचारी शिक्षकों का सम्मान और महतारी दुलार योजना के बच्चों को छात्रवृत्ति का वितरण कार्यक्रम की अध्यक्षता स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम करेंगे। कार्यक्रम में कृषि मंत्री श्री रविन्द्र चौबे, नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया, संसदीय सचिव श्री विकास उपाध्याय और म...
विशेष लेख- शिक्षक दिवस : शिक्षा की रोशनी ने दृष्टिबाधित गोपेन्द्र के जीवन में लाया उजियारा

विशेष लेख- शिक्षक दिवस : शिक्षा की रोशनी ने दृष्टिबाधित गोपेन्द्र के जीवन में लाया उजियारा

chhattisgarh, Education & Jobs, india
शिक्षा एक ऐसा माध्यम है जिससे देश का भविष्य निर्माण होता है। समाज को गतिशील बनाकर विकास का आधार प्रदान करने के साथ व्यक्तित्व के विकास में भी शिक्षा के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। शिक्षा एक ऐसी रोशनी है जो किसी के अंधकारमय जिंदगी को संवार कर उजाले की ओर सही दिशा में ले जाती है। कुछ ऐसी ही कहानी गोपेन्द्र सोनकर की है। भले ही वह अपनी आंखों से देख नहीं पाता। लेकिन गांव के स्कूल में मिली शिक्षा ने उसकी जिंदगी को संवार दिया है। दृष्टिबाधित होने के बावजूद गोपेन्द्र ने अपनी पढ़ाई पूरी की। अब अपनी योग्यता की बदौलत वह उसी स्कूल में शिक्षक बनकर गांव के बच्चों को पढ़ाने जाने वाला है  जहां उसने अपनी पढ़ाई शुरू की थी। खास बात यह भी है कि इसी विद्यालय में गोपेन्द्र सोनकर के पिता श्री ढालेन्द्र सोनकर प्रधानपाठक है। रायपुर जिले के आरंग विकासखण्ड अंतर्गत ग्राम पंचायत कागदेही निवासी गोपेन्द्र सोनकर ने शि...
राज्य स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह : प्रदेश के महान साहित्यकारों के नाम पर 4 शिक्षकों को स्मृति पुरस्कार

राज्य स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह : प्रदेश के महान साहित्यकारों के नाम पर 4 शिक्षकों को स्मृति पुरस्कार

chhattisgarh, education, india
शिक्षक दिवस के अवसर पर राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके के मुख्य आतिथ्य में 05 सितंबर 2021 को सुबह 11 बजे से राजभवन के दरबार हॉल में राज्य स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह का आयोजन किया गया है। इस समारोह की अध्यक्षता मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल करेंगे और विशिष्ट अतिथि स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम और संसदीय सचिव श्री द्वारिकाधीश यादव होंगे। शिक्षक दिवस के अवसर पर राज्य स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह में 58 शिक्षकों को सम्मानित किया जाएगा। इनमें से 54 शिक्षक राज्य शिक्षक सम्मान और 4 शिक्षकों को प्रदेश के महान साहित्यकारों के नाम पर स्मृति पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। समारोह में राज्य शिक्षक पुरस्कार के लिए चयनित 54 शिक्षिकों में से प्रत्येक को 21-21 हजार रूपाए की राशि और प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाएगा। इसके अलावा प्रदेश के महान विभूतियों की स्मृति में दिए जाने वाले पुरस्कार से सम्म...
शिक्षक दिवस के अवसर पर विशेष लेख : शिक्षकों के नवाचार से कोरोना काल में बच्चों की पढ़ाई के लिए मिले बेहतर विकल्प

शिक्षक दिवस के अवसर पर विशेष लेख : शिक्षकों के नवाचार से कोरोना काल में बच्चों की पढ़ाई के लिए मिले बेहतर विकल्प

chhattisgarh, Education & Jobs, special
छत्तीसगढ़ में शिक्षकों के नवाचार और सूचना प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल से शिक्षा की जोत को प्रज्ज्वलित कर प्रदेश के अंतिम छोर तक शिक्षा के पढ़ई तुंहर दुआर नाम से ऑनलाईन और ऑफलाईन तकनीक से बच्चों के लिए शिक्षा में निरंतरता के लिए संगठित रूप से प्रयास किए हैं। कोरोना काल में शिक्षकों ने बच्चों की पढ़ाई की निरंतरता बनाए रखने के लिए अनुकरणीय उदाहरण प्रस्तुत किया है। गत वर्ष मार्च महीने से स्कूल बंद होने की स्थिति में बच्चों को घर पहुंच शिक्षा उपलब्ध कराने की अनुकरणीय पहल को देशभर में सराहा गया है। प्रदेश के शिक्षक-शिक्षिकाओं ने एक बार फिर यह साबित किया है कि परिस्थितियां चाहें कितनी भी विपरीत क्यों न हो, शिक्षादान के प्रति उनका समर्पण अतुलनीय और अद्वितीय है। शिक्षकों पर देश के भावी कर्णधारों के जीवन को गढ़ने और उनके चरित्र निर्माण करने का महत्वपूर्ण दायित्व होता है। शिक्षा ही ऐसा माध्यम है जिससे हम...
जगदलपुर : फिट इंडिया फ्रिडम रन की अमृत महोत्सव भाग लेते हुए एनसीसी कैडेटों ने लगाई जागरूकता दौड़

जगदलपुर : फिट इंडिया फ्रिडम रन की अमृत महोत्सव भाग लेते हुए एनसीसी कैडेटों ने लगाई जागरूकता दौड़

chhattisgarh, india, खेल कूद
कमाण्ड अधिकारी कर्नल संजय चावला विशिष्ट सेवा मेडल के मार्गदर्शन में छत्तीसगढ़ गर्ल्स बटालियन एनसीसी परचनपाल एनसीसी कैडेटो द्वारा फिट इंडिया मुवमेंट जागरूकता के लिए दौड़ का आयोजन किया गया। इसके अन्तर्गत फिट इंडिया फ्रिडम रन आजादी की अमृत महोत्सव में भाग लेते हुए दन्तेवाड़ा जिले के  एनसीसी कैडेटो ने भी जागरूकता के लिए दौड़ लगाई। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा इंदिरा गांधी अन्तर्राष्ट्रीय स्टेडियम नई दिल्ली से 2 अक्टूबर तक चलने वाली इस देशव्यापी फिट इंडिया फ्रिडम रन का शुभारंभ 29 अगस्त को किया गया है। फिट इंडिया फ्रिडम रन में भाग लेते हुए आज दन्तेवाड़ा जिले के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय किरंदुल एवं दन्तेवाड़ा के अलावा डी.ए.व्ही. पब्लिक स्कूल बचेली के एनसीसी कैडेटो ने जागरूकता के लिए दौड़ लगाई। शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय दन्तेवाड़ा एवं किरंदुल में किया गया आयोजन ...
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल : मीडिया के साथियों के हर सुख-दुख में हम उनके साथ खड़े हैं, 53 मीडिया कर्मियों और उनके परिजनों को 1.15 करोड़ रूपए की सहायता राशि जारी

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल : मीडिया के साथियों के हर सुख-दुख में हम उनके साथ खड़े हैं, 53 मीडिया कर्मियों और उनके परिजनों को 1.15 करोड़ रूपए की सहायता राशि जारी

chhattisgarh, Govt Schemes, india
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा है कि छत्तीसगढ़ सरकार मीडिया के साथियों के हर सुख-दुख में साथ खड़ी है। उनकी पेशेगत चुनौतियों और मुश्किलों को कम करने के लिए राज्य सरकार लगातार कदम उठा रही है। मीडिया कर्मियों की मुश्किलें जितनी आसान होंगी छत्तीसगढ़ में पत्रकारिता की राह भी उतनी ही आसान होगी। राज्य सरकार छत्तीसगढ़ की गौरवशाली पत्रकारिता और उसके उच्च आदर्शों को संरक्षण देते रहने के लिए प्रतिबद्ध है। मुख्यमंत्री श्री बघेल कोविड-19 से दिवंगत पत्रकारों के परिजनों को आज यहां अपने निवास कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में पत्रकार कल्याण कोष से स्वीकृत सहायता राशि के चेक वितरित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कोविड-19 से दिवंगत 11 पत्रकारों के परिजनों को सहायता राशि के चेक वितरित किए पत्रकार कल्याण कोष से आज 53 मीडिया कर्मियों के विभिन्न प्रकरणों में स्वीकृत कुल एक करोड़ 15 लाख रूपए की आर्थिक सहायता की ...
ऑस्ट्रेलिया दूतावास के प्रतिनिधियों ने प्रवास के दूसरे दिन भी छत्तीसगढ़ में हो रहे विकास की जानकारी ली

ऑस्ट्रेलिया दूतावास के प्रतिनिधियों ने प्रवास के दूसरे दिन भी छत्तीसगढ़ में हो रहे विकास की जानकारी ली

chhattisgarh
छत्तीसगढ़ के साथ सामाजिक-सांस्कृतिक क्षेत्र में परस्पर सहयोग और पूंजी निवेश की संभावनाओं को देखते हुए प्रदेश के दो दिवसीय प्रवास पर आए ऑस्ट्रेलिया दूतावास के प्रतिनिधियों ने आज भी राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में हो रहे विकास की जानकारी प्राप्त करने के लिए विभिन्न उच्चाधिकारियों से मुलाकातें कीं। ऑस्ट्रेलिया की वाणिज्य दूतावास जनरल सुश्री रोवन एन्सवर्थ ने डीजीपी श्री डी.एम. अवस्थी और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संचालक डॉ. प्रियंका शुक्ला से मुलाकात कर चर्चा की। इससे पहले कल 02 सितंबर को  मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल से उनके निवास कार्यालय में आस्ट्रेलिया के हाई कमिश्नर श्री बैरी ओ फारेल ने मुलाकात की थी। आज पुलिस मुख्यालय में डीजीपी श्री डी.एम. अवस्थी और सुश्री रोवन एन्सवर्थ के बीच छत्तीसगढ़ की कानून व्यवस्था, राज्य में नक्सलवाद की स्थिति, संभावित आपदाओं से निपटने की तैयारियों, ऑस्ट्रेलियन पर...
बस्तर : शिविरों के जरिये अंदरुनी क्षेत्रों तक पहुंचीं आधार कार्ड, राशन कार्ड जैसी बुनियादी सुविधाएं : असर ला रहा है ‘विकास, विश्वास और सुरक्षा’ का मंत्र

बस्तर : शिविरों के जरिये अंदरुनी क्षेत्रों तक पहुंचीं आधार कार्ड, राशन कार्ड जैसी बुनियादी सुविधाएं : असर ला रहा है ‘विकास, विश्वास और सुरक्षा’ का मंत्र

chhattisgarh, Govt Schemes, india
वर्षों से सुविधाओं से वंचित छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग में अब शासन की सेवाएं शिविरों के माध्यम से गांव-गांव तक पहुंच रही हैं। आधार कार्ड, राशन कार्ड, आयुष्मान कार्ड और पेंशन प्रकरणों के निराकरण के लिए सुविधा-शिविरों का आयोजन किया जा रहा है। सुकमा जिले के संवेदनशील क्षेत्र सिलेगर, मिनापा, सारकेगुड़ा में ऐसे ही शिविर का लाभ उठाने के लिए ग्रामीणों की भीड़ उमड़ पड़ी। ग्रामीणों के उत्साह को देखते हुए प्रशासन को शिविर की निर्धारित अवधि में बढ़ोतरी करनी पड़ी। सुकमा जिले के इन संवेदनशील क्षेत्रों के ग्रामीणों को विभिन्न तरह की सुविधाएं मुहैया कराने के लिए ग्राम सारकेगुड़ा में सुविधा शिविर का आयोजन किया गया। शिविर स्थल तक ग्रामीणों को आने-जाने में परेशानी न हो, इसके लिए प्रशासन द्वारा वाहन की व्यवस्था भी की गई थी। ग्राम मिनपा और सिलगेर के ग्रामीणों ने प्रशासन को अपनी समस्याओं से अवगत कराया था, जिनक...