रायपुर में पिछले 60 घंटो से मुसलाधार बारिश, कई इलाकों में पानी भरा, नेशनल हाईवे भी डुबा, यातायात प्रभावित

छत्तीसगढ़ में रायपुर सहित प्रदेश के कई जिलों में पिछले कई दिनों से झमाझम बारिश का दौर जारी है। इसके चलते नदी-नाले उफान पर आ गए हैं। रायुपर में कोल्हान नाला उफान पर होने से पुल पर पानी भर गया है। इसके कारण बलौदाबाजार-रायपुर के बीच आवागमन बंद है। वहीं कवर्धा में नेशनल हाईवे पर पानी भरने के कारण रायपुर-जबलपुर मार्ग बंद हो गया है।

राजधानी रायपुर में भी मंगलवार रात (करीब 60 घंटे) से बारिश हो रही है। हालात यह है कि तीन दिन में 15 सेमी से ज्यादा बारिश रिकॉर्ड की जा चुकी है। लगातार हो रही इस बारिश के कारण शहर के निचले इलाकों में पानी भर गया है। आंकड़ों के मुताबिक, अगस्त माह में इस साल लगातार सबसे ज्यादा समय तक होने वाली बारिश है।

शहर के हालात बिगड़े हुए हैं। बारिश के पहले तैयारी को लेकर किए गए दावों की पोल खुल गई है। स्मार्ट सिटी रायपुर की सड़कें तालाब में बदल चुकी हैं और तालाब ओवरफ्लो होकर सड़क पर आ गए हैं। घरों में कमर तक पानी भर गया है। नरहरेश्वर तालाब फुल हो चुका है। सड़क को पानी से खाली कराने के लिए डिवाइडर तोड़ा गया। वहीं खम्हारडीह तालाब का पानी घरों में घुस गया है।

शहर अधिकतम तापामान न्यूनतम तापमान बारिश (मिमी)
अंबिकापुर 25.8 22.4 23.6
बिलासपुर 26.6 23.2 136.8
दुर्ग 24.6 22 167.6
जगदलपुर 25 21.5 10.7
रायपुर 24.8 22.8 152.4
राजनांदगांव 24 22 11.6

बिलासपुर, दुर्ग और रायपुर संभाग में भारी बारिश की संभावना

मौसम विभाग के अनुसार, निम्न दाब का क्षेत्र झारखंड के दक्षिण-पश्चिम भाग में स्थित है। इसके साथ ही हवा का एक चक्रवाती घेरा 7.6 किलोमीटर ऊंचाई तक स्थित है। दूसरी ओर एक अन्य मानसून द्रोणिका बहराइच, वाराणसी से होते दक्षिण पूर्व दिशा की ओर उत्तर बंगाल की खाड़ी तक स्थित है।

मौसम विभाग के वैज्ञानिक एचपी चंद्रा के मुताबिक 28 अगस्त को भी प्रदेश के अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा और गरज-चमक के साथ साथ छींटे पड़ने की संभावना है। प्रदेश के बिलासपुर, दुर्ग और रायपुर संभाग में मध्यम से भारी और एक-दो स्थानों पर भारी से अति भारी बारिश हो सकती है।