छत्तीसगढ़ में  कल 36 नए कोरोना संक्रमिक मरीजों की पुष्टि हुई है, एक्टिव केस का आंकड़ा पहुंचा 185 

aiims-corona

रायपुर. छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के रविवार को 36 नए मामले सामने आए हैं। इनमें सबसे ज्यादा 19 केस बिलासपुर से हैं। जबकि बलरामपुर से 5, बलौदाबाजार से 4, सरगुजा व कोरिया से 2-2 और मुंगेली, गरियाबंद, बेमेतरा व रायगढ़ से 1-1 नए संक्रमित मिले हैं। इसकी पुष्टि स्वास्थ्य विभाग ने की है। वहीं बिलासपुर में भर्ती जांजगीर के दो और अंबिकापुर में भर्ती कोरिया के एक मरीजों को और छुट्‌टी मिल गई है। इसके बाद प्रदेश में एक्टिव मरीजों की संख्या 185 हो गई है। कुल संक्रमित मरीजों का आंकड़ा प्रदेश में 252 पर पहुंच गया है। वहीं बालोद के क्वारैंटाइन सेंटर में अचानक तबीयत खराब होने से एक युवती की मौत हो गई। उसकी रिपोर्ट आना बाकी है।

छत्तीसगढ़ में कोरोना
प्रदेश में कोराेना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। इससे पहले शनिवार को 44 नए मामले सामने आए थे। इनमें राजनांदगांव से 10, बिलासपुर से 9, मुंगेली से 9, सरगुजा से 3, कोरिया व रायगढ़ से 4-4, गौरेला-पेंड्रा-मरवाही से 3 और जशपुर व बलौदाबाजार से 1-1 पॉजिटिव मरीज की पुष्टि हुई है। जशपुर और गौरेला पेंड्रा मरवाही में पहला केस है। वहीं, एम्स रायपुर से बालाेद के 2 मरीज ठीक भी हुए हैं।

शुक्रवार को भी एम्स ने 20 नए मामलों की पुष्टि की थी। इसमें बलौदाबाजार से 6 नए मामले सामने आए हैं। इसके अलावा बालोद से 4, कवर्धा 5, बलौदाबाजार 4, गरियाबंद 3, दुर्ग और राजनांदगांव से 2-2 कोरोना मरीजों की पुष्टि हुई है। इससे पहले सुबह कोरबा से 12, कांकेर से 3 और बेमेतरा से 1 मरीज मिले थे। अभी तक  इनमें से 64 लोग ठीक होकर घर लौटे हैं।

  • 252 संक्रमित मिले : दुर्ग-10, राजनांदगांव-22, बालोद-18, बेमेतरा-2, कवर्धा-13, रायपुर-8, बलौदाबाजार-19, गरियाबंद-5, बिलासपुर-39, रायगढ़-10, कोरबा-41, जांजगीर-15, मुंगेली-13, गौरेला-पेंड्रा-मरवाही-3, सरगुजा-7, कोरिया-7, सूरजुपर-7, बलरामपुर-6, जशपुर-1, कांकेर-5
  • 185 एक्टिव केस : राजनांदगांव-21, बालोद-16, बेमेतरा-2, कवर्धा-7, रायपुर-1, बलौदाबाजार-19, गरियाबंद-5, बिलासपुर-38, रायगढ़-10, कोरबा-13, जांजगीर-10, मुंगेली-13, गौरेला-पेंड्रा-मरवाही-3, सरगुजा-7, कोरिया-6, सूरजपुर-1, बलरामपुर-6, जशपुर-1, कांकेर-5
  • 67 मरीज स्वस्थ हुए : दुर्ग-10, राजनांदगांव-1, बालोद-2, कवर्धा-6, रायपुर-7, बिलासपुर-1, कोरबा- 28, जांजगीर-5, सूरजपुर- 6, कोरिया-1
  • प्रदेश में भर्ती मरीज : एम्स रायपुर-48, कोविड-19 अस्पताल माना-35, कोविड-19 बिलासपुर-24, मेडिकल कॉलेज अंबिकापुर-11, मेडिकल कॉलेज रायगढ़-10, मेडिकल कॉलेज राजनांदगांव-21
  • पहला मामला : राज्य में कोरोना पॉजिटिव का पहला मामला रायपुर में मार्च के महीने में सामने आया था, वह विदेश से लौटी युवती थी।
  • कंटेनमेंट जोन : कवर्धा-6, राजनांदगांव-4, बालोद-11, दुर्ग-1, गरियाबंद-4, रायपुर-1, बलौदाबाजार-9, बिलासपुर-9, मुंगेली-2, कोरबा-5, जांजगीर-6, रायगढ़-3, कोरिया-4, सूरजपुर-3, सरगुजा-4, कांकेर-5, बलरामपुर-1, जशपुर-1, बेमेतरा-1

ऊर्जा मंत्रालय के अनुसार,कुछ प्लांट्स दिवालिया होने की स्थिति में
लॉकडाउन का असर अब बिजली कंपनियों पर भी दिखना शुरू हो गया है। छत्तीसगढ़ के पावर प्लांट्स सामान्य दिनों की अपेक्षा अपनी क्षमता से 23 फीसदी या इससे कम बिजली का उत्पादन कर रहे हैं। वहीं, जिन्हें बिजली बेच रहे हैं, वहां से पैसे नहीं मिल रहे। इसके चलते उनके सामने नकदी का संकट खड़ा हो गया है। थर्मल पॉवर प्लांट्स को कोयला खरीदने के लिए नकदी की जरूरत पड़ रही है। कुछ प्लांट तो दिवालिया होने की स्थिति में है। ऊर्जा मंत्रालय के डेटा के अनुसार, छत्तीसगढ़ के 34 में से 10 पॉवर प्लांट लोन चुकाने की स्थिति में नहीं हैं।

  • इस क्षेत्र से जुड़े लोगों का मानना है कि केंद्र सरकार की तरह राज्य सरकार को भी वित्तीय सहायता वाले कदम उठाने चाहिए।
  • छत्तीसगढ़ में बिजली उत्पादन क्षेत्र से प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से लाखों लोगों के रोजगार जुड़े हुए हैं।
  • एसोसिएशन ऑफ पॉवर प्रोड्यूसर्स ने राज्य सरकार से ऑक्सलरी पॉवर पर लगने वाली 10 फीसदी इलेक्ट्रसिटी ड्यूटी खत्म करने और वाटर चार्जेस कम करने की अपील की है।
  • साथ ही वॉटर चार्जेस की मिनिमम सीमा कुल आवंटित होने वाले पानी के 90 फीसदी को घटाकर 55 फीसदी किया जाए।

तमिलनाडु पैसे नहीं दे रहा, कोल इंडिया एडवांस के साथ मांग रही बैंक गारंटी
जेएसपीएल के प्रेसीडेंट भरत रोहरा ने कहा कि हमारी क्षमता 3400 मेगावाॅट की है और वर्तमान में हम 1400 मेगावॉट बिजली बना रहे हैं। हम अपनी बिजली केरल और तमिलनाडु राज्य सरकारों को बेचते हैं। केरल से तो पैसा मिल रहा है, लेकिन तमिलनाडु से हमें पैसा नहीं मिल पा रहा है। इसके साथ कोल इंडिया ने कहा- लेटर ऑफ क्रेडिट पर कोयला ले सकते हैं। उसमें भी बैंक गारंटी, लेटर ऑफ क्रेडिट और सात दिन के पैसे एडवांस में मांग रहे हैं। एक्सचेंज में अगर बिजली बेचते हैं तो 2.5 रुपए यूनिट बिजली देते हैं, जबकि कोयले की कीमत भी करीब-करीब उतनी ही आती है।

प्रदेश में अब शाम 7 से सुबह 7 बजे तक रहेगी और सख्ती

प्रदेश में रात का कर्फ्यू 31 मई तक बढ़ा दिया गया है। इसके चलते शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे तक कर्फ्यू जारी रहेगा। लगातार कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने से अब सख्ती ज्यादा होगी। इसको लेकर आदेश जारी कर दिए गए हैं। प्रदेश में चिन्हांकित कंटेनमेंट जोन में पहले से जारी निर्देशानुसार की कार्रवाई की जाएगी। राज्य सरकार की ओर से जारी की किए गए आदेश में कहा गया है कि कोरोना नियंत्रण के लिए केंद्र की गाइडलाइन काे प्रभावी रूप से लागू किया जाए। हालांकि दिन में जरूर सरकार छूट का दायरा बढ़ा सकती है।

रायपुर : प्रशासन के अफसरों ने तय कर लिया है कि अब कारोबार के दिन भी बढ़ाए जाएंगे। अभी तक दुकानों को 2 से 5 दिन तक खुलने की छूट दी गई है, लेकिन अब इस छूट को भी बढ़ाया जा रहा है। राज्य सरकार से कहा गया है कि सभी कारोबार को 5 दिन की छूट दी जा सकती है। वहीं, सभी शॉपिंग मॉल, मल्टीप्लेक्स, टॉकीज, निजी ऑटो-बस, धार्मिक स्थल, गार्डन, संग्रहालय, पर्यटन स्थल, साप्ताहिक बाजार, सभी तरह के सामुदायिक भवन, मैरिज पैलेस, 31 मई तक बंद रखे जा सकते हैं। हालांकि इसमें शॉपिंग मॉल खुलवाने के लिए बड़े कारोबारियों ने फिर से दबाव बनाया है।

बिलासपुर : शिक्षकों की ड्यूटी क्वारैंटाइन सेंटर, स्टेशन और अन्य जगहों पर बिना सुविधा दिए लगा दी गई है। जिसके कारण उन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। शिक्षकों को हो रही समस्याओं का समाधान और उन्हें सुविधाएं देने की मांग कलेक्टर और जिला शिक्षा अधिकारी को ज्ञापन सौंपकर की। शिक्षकों की ड्यूटी सुबह से देर रात तक लगाई जा रही है। स्टेशन के बाहर कोई सुविधा नहीं है। दोपहर में बाहर बैठ रहे हैं। रात को जमीन पर सो रहे हैं। सुरक्षा उपाय किट नहीं दी गई है। इसके अलावा शिक्षकों का 50 लाख का सुरक्षा बीमा कवर हो।

भिलाई : सिटी बसों में 20 सवारियों को बिठाकर परिवहन सेवा चालू करने की चर्चाओं को आरटीओ अतुल विश्वकर्मा ने खारिज कर दिया। उनका कहना है कि शासन ने किसी भी तरह सेवाओं को संचालित करने की अभी अनुमति नहीं दी है। दरअसल, 14 मई के बाद से लोकल बसों के संचालन को लेकर चर्चाएं जोर पकड़ने लगी। परिवहन संघों ने भी शासन ने सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के साथ बसों का संचालन दोबारा से शुरू करने की गुहार भी लगाई। सीमित सवारी के साथ परिवहन की अनुमति मिलने की चर्चा थी। एक रूट पर बसों में 20 सवारी ही बिठाने का आदेश मिलने की बात कही गई।

रायगढ़ : नगरीय निकाय क्षेत्र स्थित सूक्ष्म और लघु औद्योगिक इकाइयों सहित खरसिया, सारंगढ़ समेत अन्य ब्लॉक के उद्योग भी सोमवार से खुलेंगे। शहर के इंडस्ट्रियल एरिया के 50 उद्योग है, जिसमें फैब्रिकेशन, फूड प्रोडक्ट, केबल-वायर, इलेक्ट्रिकल, मशीनरी समेत कई तरह के उद्योग हैं। व्यापारी लगातार उसे खोलने की मांग कर रहे थे। इनकी छोटी इकाइयों में हर यूनिट में 25-40 कर्मचारी काम करते हैं। जिले के बड़े उद्योगों में उत्पादन कम हो रहा है। दूसरे प्रदेशों में लॉकडाउन के साथ ही इसकी बड़ी वजह कुशल प्रवासी श्रमिकों की घर वापसी है।