Tuesday, November 30संस्थापक, प्रधान संपादक, स्वामी श्री नवनीत जगतरामका जी
Shadow

बीजापुर : अच्छे दिन आये, पक्के मकान का कमला का सपना अब होगा पूरा खबर प्रकाशन के बाद युवा आयोग सदस्य अजय पहुंचे तिमेड़, आर्थिक सहयोग के साथ नरेंद्र को दैनिक वेतन पर भृत्य की नौकरी

बीजापुर। इस्पात टाइम्स की खबर का एक बार फिर असर हुआ है। यहां से 56 किमी दूर तिमेड़ ग्राम पंचायत में रहने वाली 70 वर्षीय वृद्धा कमला झाड़ी की दर्दभरी दास्तां के समाचार प्रकाशन के चौबीस घंटे के भीतर प्रशासन हरकत में आ गया। कमला को पीएम आवास योजना के तहत् पक्का आवास मिलेगा,इतना ही नहीं खबर प्रकाशन के बाद सत्तादल के नेता व युवा आयोग सदस्य अजय सिंह भी कमला से मिलने तिमेड़ पहुंचे। मौके पर उन्होंने कमला के एकमात्र पुत्र नरेंद्र को नजदीकी पोटाकेबिन में दैनिक वेतन पर भृत्य पद पर नौकरी की अनुशंसा की। वही आर्थिक सहायता स्वरूप 10 हजार रूपए देने की घोषणा भी की।

गौरतलब है कि शुक्रवार को सीपीआई जिला सचिव कमलेश झाड़ी इस मामले को लेकर तिमेड़ पहुंचे थे। कमला की दर्दभरी आपबीती सुनने और घर की दरकती दीवारों, टूटी फूटी छत और कमला के एकमात्र पुत्र नरेंद्र की कठिनाईयांे से जुड़ी खबर इस्पात टाइम्स ने संवेदनशीलता के साथ सरकार और प्रशासन के सामने रखी। नतीजतन खबर प्रकाशन के 24 घंटे के भीतर कलेक्टर रीतेश अग्रवाल ने सोशल मीडिया पर जानकारी साझा की।

जिसमें कमला को पीएम आवास योजना के तहत् आवास आवंटन होना बताया गया। वही युवा आयोग सदस्य अजय सिंह भी खबर पढ़ने के बाद मामले की संवेदनशीलता के मद्देनजर तिमेड़ पहुंचे। नरेंद्र को पोटाकेबिन में भृत्य पद पर नियुक्ति की अनुशंसा के अलावा घर से पोटाकेबिन आने-जाने में सहूलियत हो, इसलिए साइकिल देने की घोषणा भी मौके पर की। वही कलेक्टर से फोन पर चर्चा का जिक्र करते अजय ने बताया कि तीन दिन के भीतर पक्का आवास निर्माण का काम शुरू हो जाएगा। इधर कमला की तंग स्थिति की जानकारी मिलने के बाद मदद के लिए हाथ भी बढ़ है।

घर में रोजमर्रा की वस्तुओं के अलावा आर्थिक मदद की पेशकश करते सहयोग राशि जुटाई जा रही है। हालांकि आवास आवंटन की जानकारी मिलने के बाद योजना का लाभ दिलाने में लेटलतीफी के सवाल पर तिमेड़ पंचायत के सचिव रवि दुर्गम स्पष्ट तौर पर कुछ भी कहने से बचते रहे। बहरहाल त्वरित कार्रवाई पर कमला की स्थिति को उजागर करने वाले सीपीआई के जिला सचिव कमलेश झाड़ी का कहना है कि ग्रामीण इलाकों में कई कमला है जिन तक सरकारी योजनाओं का लाभ समय पर नहीं मिल पाता है। इसकी पुनरावृत्ति ना हो इसलिए प्रशासनिक कार्यों में कसावट लाई जाए। जनप्रतिनिधि भी अपनी जिम्मेदारी समझे। बहरहाल कमला को राहत मिलने पर कमलेश ने मीडिया का विशेष तौर पर आभार जताया है।

पोर्टल/समाचार पत्र विज्ञापन हेतु संपर्क : +91-9229705804
Advertise with us

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *