Wednesday, November 13

Author: Shubhra Nandi

15 वर्षों का कार्यकाल छत्तीसगढ़ का स्वर्णिम दौर: डॉ. रमन सिंह

15 वर्षों का कार्यकाल छत्तीसगढ़ का स्वर्णिम दौर: डॉ. रमन सिंह

छत्तीसगढ़
0 एक ओर भूपेश सरकार पर बैक-टू-बैक आरोप तो दूसरी तरफ मोदी की तारीफ रायपुर। बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह ने आज एकात्म परिसर में प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया था। सबसे पहले उन्होंने प्रदेशवासियों को दीपावली, भाईदूज, मातर, गौरा-गौरी, राज्योत्सव सहित छठ पूजा की बधाई दी, उसके बााद भूपेश सरकार पर करीब आधा दर्जन मुद्दों को लेकर बैक-टू-बैक प्रहार किया, तो दूसरी ओर मोदी सरकार की प्रशंसा। इस दौरान उन्होंने बीते 15 वर्ष को स्वर्णिम दौर भी कहा। उन्होंने कहा, इस बार की दीपावली अन्य वर्षों की अपेक्षा विशेष रहा। उन्होंने एक ओर तो केंद्र में मोदी सरकार की तारीफ तो दूसरी ओर भूपेश सरकार पर तंज कसा। उन्होंने कहा, कि प्रदेश में आज जिस काम का श्रेय भूपेश सरकार ले रहा वह महज उनके 10 महीनों का कार्यकाल का नतीजा नहीं, बल्कि बीजेपी के 15 वर्षों की कार्ययोजनाओं का नतीजा है। इन महीनों में भूपेश सरका
राज्योत्सव के मंच पर दिखे छत्तीसगढ़ी लोककला के विविध रंग, मंत्री लखमा ने भी मांदर बजाकर किया गौर नृत्य

राज्योत्सव के मंच पर दिखे छत्तीसगढ़ी लोककला के विविध रंग, मंत्री लखमा ने भी मांदर बजाकर किया गौर नृत्य

छत्तीसगढ़
रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य गठन के उपलक्ष्य में राजधानी रायपुर के साइंज काॅलेज के मैदान में आयोजित राज्योत्सव में पूरे राज्य भर से आए लोक कला दलों द्वारा आकर्षक और रंगारंग प्रस्तुति दी गई। लोक कला द्वारा छत्तीसगढ की संस्कृति और परंपराओं पर आधारित गीत और नृत्यों की प्रस्तुति देकर लोगों का मनमोह लिया। मंच पर दंतेवाडा जिले के गौर नृत्य के दौरान प्रदेश के आबकारी एवं उद्योग मंत्री कवासी लखमा ने भी मांदर बजाकर लोक कला दलों के साथ नृत्य किया। राज्योत्सव स्थल पर सांस्कृतिक कार्यक्रम देखने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सहित मंत्री मण्डल के सदस्यों, विधायकों, मुख्य सचिव आर. के. मण्डल सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी और अपार जन समूह मौजूद थे। सांस्कृतिक कार्यक्रम का शुभारंभ छत्तीसगढ महतारी के वंदना गीत ‘अरपा पैरी की धार महानदी हे अपार‘ से शुरू हुआ। डाॅ. नरेन्द्र देव वर्मा द्वारा रचित इस गीत को सुश्री गरिमा दिवाक
भूपेश सरकार का किसानों के प्रति नरम रवैया, केंद्र सरकार सहयोग न करें तो भी नहीं होने देंगे किसानों का अहित

भूपेश सरकार का किसानों के प्रति नरम रवैया, केंद्र सरकार सहयोग न करें तो भी नहीं होने देंगे किसानों का अहित

Uncategorized
रायपुर। राज्योसत्व के चंद घंटे पहले आयोजित भूपेश कैबिनेट की बैठक में  नि:संदेह कुछ अहम फैसला होने वाला था, लिहाजा सभी की नजर टिकी थी।  कैबिनेट की ये बैठक इस लिहाज से महत्वपूर्ण था, क्योंकि धान खरीदी को लेकर एक उहपोह की स्थिति थी, जिसे भूपेश सरकार ने राहत दिया। उन्होंने कहा, अगर केंद्र सरकार सहयोग न करें तो भी किसानों का अहित वे होने नहीं देंगे। कैबिनेट बैठक के बाद उनका किसानों के प्रति नरम रूख देखने को मिला। धान खरीदी को लेकर निर्णय लिया गया है कि भूपेश सरकार ने तय कर लिया है कि जो वादा चुनाव से पहले कांग्रेस ने किया था उसे पूरा किया जा रहा है। किसानों से सरकार 2500 रुपये प्रति क्विंटल पर धान खरीदेगी। धान खरीदी की तैयारी को लेकर निर्देश जारी कर दिया गया है। इस बार 19 लाख किसानों का पंजीयन हुआ है। पंजीयन की तारीख को एक सप्ताह और बढ़ा दिया गया है। प्रदेश में धान खरीदी की शुरुआत एक दिसंबर
प्रेस क्लब में सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर परिसंवाद का आयोजन

प्रेस क्लब में सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर परिसंवाद का आयोजन

छत्तीसगढ़
रायपुर। प्रेस क्लब रायपुर और सूंचना प्रसारण मन्त्रालय के अधीन पत्र सूंचना कार्यालय तथा प्रादेशिक लोकसम्पर्क कार्यालय रायपुर की ऒर से आज लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की 144 वीं जयंती के अवसर पर एक परिसंवाद का आयोजन मधुखर खेर समृति भवन प्रेस क्लब, मोतीबाग में किया गया। राष्ट्रीय एकता और अखंडता में सरदार पटेल का योगदान विषय पर आयोजित परिसंवाद की अध्यक्षता वरिष्ठ पत्रकार रमेश नैयर ने की। उन्होंने अपने सम्बोधन में सरदार पटेल के व्यक्तित्व पर विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने बताया की आज़ादी के बाद तत्कालीन भारत की अलग-अलग रियासतो का अखंड भारत में विलीनीकरण में सरदार पटेल ने उल्लखनीय भूमिका निभाई। छत्तीसगढ़ के सन्दर्भ में उनकी भूमिका का उल्लेख करते हुए श्री नैयर ने बताया कि हैदराबाद के निज़ाम ने उस समय बस्तर के राजा प्रवीर चंद्र भंजदेव से बैलाडीला की पहाड़िया देने का अनुरोध किया था ताकि हैदराबाद रि
पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी ने देश की एकता और अखंडता की रक्षा के लिए अपनी शहादत दी : भूपेश बघेल

पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी ने देश की एकता और अखंडता की रक्षा के लिए अपनी शहादत दी : भूपेश बघेल

छत्तीसगढ़
रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल गुरुवार को राजधानी रायपुर के कालीबाड़ी चौक में पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्रीमती इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि पर उनकी प्रतिमा पर पुष्प अर्पित्र कर उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा में कहा कि आज पूरा देश पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि और सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती के अवसर पर उन्हें याद कर नमन कर रहा है। इन दोनों महान विभूतियों ने देश के निर्माण में अभूतपूर्व योगदान दिया। सरदार वल्लभ भाई पटेल ने देश के एकीकरण मैं अपनी पूरी शक्ति लगाई और देश को एकजुट किया। श्रीमती इंदिरा गांधी ने देश की एकता और अखंडता की रक्षा के लिए अपनी शहादत दी । सरदार वल्लभ भाई पटेल को उनके व्यक्तित्व और कृतित्व के कारण लौह पुरुष कहा जाता है , इसी प्रकार पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी को आयरन लेडी कह
Cm ने की जामगांव-रूही सड़क निर्माण की घोषणा, मड़ई मेले में शामिल होने पहुंचे मुख्यमंत्री ने कहा, कलामंच के लिए दी जाएगी पर्याप्त राशि

Cm ने की जामगांव-रूही सड़क निर्माण की घोषणा, मड़ई मेले में शामिल होने पहुंचे मुख्यमंत्री ने कहा, कलामंच के लिए दी जाएगी पर्याप्त राशि

छत्तीसगढ़
रायपुर। मड़ई मेले में पाटन ब्लॉक के ग्राम रूही में भाग लेने पहुंचे मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल से ग्रामीणों ने जामगांव से रूही तक सड़क निर्माण की मांग रखी। मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में इस साल के बजट में इस सड़क का प्रस्ताव जोड़ने की घोषणा की। साथ ही उन्होंने कहा कि यहां सुंदर और उपयोगी कलामंच तैयार करने के लिए पर्याप्त राशि दी जाएगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज दुर्ग जिले के पाटन विकासखंड के ग्राम रूही में आयोजित मड़ई मेले में ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा कि मड़ई में उत्सव का माहौल होता है। अपनों से मिलने जुलने का अवसर होता है। उन्होंने कहा कि इस साल गोवर्धन पूजा को गौठान दिवस के रूप में मनाया गया। यह गोवंश के संवर्धन का पर्व है। उन्होंने कहा कि मुझे सबसे ज्यादा खुशी इस बात की है कि पहली बार कोई मुख्यमंत्री ग्रामीणों के बीच उनके उत्सवों में शामिल हो रहा है। गेड़ी चढ़ रहा है। लोक मान्यता
जो व्यक्ति मानवीय संवेदनाओं के साथ देश-समाज की सेवा करता है, उसे सफलता अवश्य मिलती है: सुश्री उइके

जो व्यक्ति मानवीय संवेदनाओं के साथ देश-समाज की सेवा करता है, उसे सफलता अवश्य मिलती है: सुश्री उइके

छत्तीसगढ़
रायपुर। राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके छिन्दवाड़ा जिले के जुन्नारदेव में आयोजित सम्मान समारोह में शामिल हुई। उन्होंने सभी को दीपावली और भाईदूज की शुभकामनाएं दी और कहा कि इस क्षेत्र से उनका पुराना संबंध रहा है। इस क्षेत्र से समाज सेवा की प्रेरणा मिली। ये प्रेरणा इस मोड़ तक ले जाएगी उन्होंने कभी कल्पना नहीं की थी। व्यक्ति को अपने हृदय में मानवीय दृष्टिकोण लेकर चलना चाहिए और सदैव समाज के हित के लिए कार्य करना चाहिए। उनके जीवन का अनुभव रहा है कि जो व्यक्ति मानवीय संवेदनाओं के साथ देश और समाज की सेवा करता है, उसे सफलता अवश्य मिलती है। उन्होंने कहा कि जीवन में विपरीत परिस्थितियों में वे विचलित नहीं हुई। किसी के प्रति द्वेष भावना रखकर उन्होंने कभी काम नहीं किया। सुश्री उइके ने कहा कि छत्तीसगढ़ के राज्यपाल के तौर पर उनका प्रयास रहता है कि जो भी दुखी-जरूरतमंद राजभवन आए, तो उनकी समस्या का समाधान करने क
राज्योत्सव में शिरकत करेंगी श्रीमती सोनिया गांधी, तीनों दिन बिखरेगी छत्तीसगढ़ी संस्कृति की छटा

राज्योत्सव में शिरकत करेंगी श्रीमती सोनिया गांधी, तीनों दिन बिखरेगी छत्तीसगढ़ी संस्कृति की छटा

छत्तीसगढ़
रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य के 20वें स्थापना दिवस पर 01 से 03 नवम्बर 2019 को साइंस कालेज मैदान रायपुर में भव्य एवं गरिमामय राज्योत्सव का आयोजन किया जा रहा है। इस वर्ष राज्योत्सव में छत्तीसगढ़ी संस्कृति की छटा बिखरेगी। तीनों दिन छत्तीसगढ़ के लोकप्रिय शास्त्रीय नृत्य, वादन, गायन के साथ गीत-गजल एवं सुगम संगीत की भी प्रस्तुतियां होंगी। कार्यक्रमों में पंडवानी गायन, पारम्परिक नृत्य पंथी, गेड़ी, गौरी-गौरा, राउत नाचा, करमा, सैला, गौर, ककसाड़, धुरवा, सुआ नृत्य, सरहुल नृत्य, सैला नृत्य, राउत नाच, और ककसार नृत्य का प्रदर्शन किया जाएगा। छत्तीसगढ़ राज्योत्सव के तीनों दिन लोकमंच का भी कार्यक्रम आयोजित होगा। इस वर्ष राज्योत्सव का शुभारंभ एक नवम्बर को शाम 7 बजे श्रीमती सोनिया गांधी के करकमलों से होगा। 2 नवम्बर को मुख्य अतिथि छत्तीसगढ़ की राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके होंगी तथा राज्योत्सव का समापन 3 नवम्बर को मुख्य
अप्रत्यक्ष चुनाव प्रणाली के विरोध में हाईकोर्ट जाएगा jcc (j)

अप्रत्यक्ष चुनाव प्रणाली के विरोध में हाईकोर्ट जाएगा jcc (j)

छत्तीसगढ़
रायपुर। भूपेश सरकार के नगरीय निकाय चुनाव में महापौर और अध्यक्ष के चयन को अप्रत्यक्ष रुप से करने पर जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने सोशल मीडिया के जरिए इस चुनाव प्रणाली को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी है। एक पोस्ट के जरिए अमित जोगी ने अप्रत्यक्ष चुनाव प्रणाली के संबंध में 3 प्रश्नों के उत्तर देते हुए अपनी पार्टी का दृष्टिकोण और रणनीति स्पष्ट करने की बात कही है. सोशल मीडिया ये रही उनकी पोस्ट पहला सवाल: 56 साल पुराने कानून में अचानक सरकार को संशोधन करके ताबड़तोड़ अध्यादेश पारित करने की क्या आवश्यकता आन पड़ी और वो भी ठीक चुनाव से पहले? आज तक महापौर और अध्यक्षों का चयन सीधे मतदाता करते आए हैं। उनसे ये अधिकार छीनकर पार्षदों को देने का आखिर कारण क्या है? उत्तर - सरकार का मतदाताओं से विश्वास उठ गया है। प्रश्न 2 - पार्षदों को दलबदल कानून के दायरे के क्यों बाहर
CM कल रहेंगे जांजगीर-बिलासपुर के प्रवास पर

CM कल रहेंगे जांजगीर-बिलासपुर के प्रवास पर

छत्तीसगढ़
रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 31 अक्टूबर गुरूवार को जांजगीर-चांपा और बिलासपुर जिला मुख्यालय में आयोजित विभिन्न कायक्रमों में शामिल होंगे। निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार मुख्यमंत्री श्री बघेल दोपहर एक बजे पुलिस ग्राउण्ड रायपुर से हेलीकाप्टर से जांजगीर के लिए प्रस्थान करेंगे। वे 1.40 बजे जांजगीर के कचहरी चैक में आयोजित श्रद्धांजलि कार्यक्रम में शामिल होने के बाद 1.55 बजे सरदार वल्लभ भाई पटेल उद्यान में प्रतिमा का अनावरण करेंगे और यहां आयोजित सम्मेलन में शामिल होंगे। मुख्यमंत्री अपरान्ह 3.40 बजे जांजगीर से प्रस्थान कर बिलासपुर पहुंचेंगे और छठघाट में आयोजित छठ महापर्व के कार्यक्रम में शामिल होंगे। श्री बघेल शाम 4.40 बजे बिलासपुर से प्रस्थान कर 5.15 बजे रायपुर लौटेंगे।