Thursday, July 29संस्थापक, प्रधान संपादक, स्वामी श्री नवनीत जगतरामका जी
Shadow

Author: रंजन दास (बीजापुर)

बीजापुर : विधायक विक्रम की मेहनत रंग लाई, आवापल्ली में खुलेगा नवीन महाविद्यालय, जनता ने जताया आभार

बीजापुर : विधायक विक्रम की मेहनत रंग लाई, आवापल्ली में खुलेगा नवीन महाविद्यालय, जनता ने जताया आभार

बस्तर संभाग
बीजापुर. भूपेश सरकार ने  अपने अनुपूरक बजट में  आवापल्ली में नवीन महाविद्यालय खोलने की घोषणा करते हुए महाविद्यालय के लिए बजट की स्वीकृत दे दी। इसके साथ ही अब आगामी शिक्षा सत्र से उसूर क्षेत्र के युवाओं को उच्च शिक्षा आवापल्ली में ही मिलने लगेगी। जनता ने इसके लिए मुख्यमंत्री का आभार जताया है। बस्तर क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष एवं बीजापुर  विधायक विक्रम शाह मंडावी से जनता लगातार माँग कर रहे थी। जनप्रतिनिधियों एवं ग्रामीणों की माँग के अनुरूप आवापल्ली में नवीन महाविद्यालय हेतु विक्रम शाह मंडावी का प्रयास छत्तीसगढ़ विधान सभा में हुए घोषणा के साथ सफल हुआ। आवापल्ली में नवीन महाविद्यालय की स्वीकृति मिलने के बाद विक्रम शाह मंडावी ने प्रदेश की भूपेश बघेल सरकार एवं भूपेश मंत्री मण्डल का आभार व्यक्त किया है। इसके साथ ही उसूर क्षेत्र के लोगों को बधाई एवं शुभ कामनाएँ देते हुए  कहा कि शिक...
व्यापारी संघ की नई कार्यकारिणी गठित, प्रेम कुमार अध्यक्ष, श्रीनिवास-अनिल उपाध्यक्ष बनाए गए

व्यापारी संघ की नई कार्यकारिणी गठित, प्रेम कुमार अध्यक्ष, श्रीनिवास-अनिल उपाध्यक्ष बनाए गए

बस्तर संभाग
भोपालपट्नम। व्यापारी संघ की बैठक में नई कार्यकारिणी का गठन किया गया। जिसमें सर्वसम्मति से प्रेम कुमार अध्यक्ष बनाए गए। इसी तरह पी श्रीनिवास व अनिल जन्नम उपाध्यक्ष मनोनित हुए। मिनहाज अहमद को सचिव, राममुरथ द्विवेदी सहसचिव, पी राजेष कोषाध्यक्ष, सह कोषाध्यक्ष ए प्रमोद को बनाया गया। इस दौरान कोर कमेटी का गठन भी हुआ। जिसमें राजाराम , विष्वनाथ, जी मुरली, मुर्गेष शेट्टी, इरषाद खान, पी आनंद, पी संतोष, मुरली चांडक, लक्ष्मी नारायण कीर्ति शामिल है।...
बीजापुर : पचास साल में पूरी नहीं हो पाई एक अदद हैंडपंप की मांग

बीजापुर : पचास साल में पूरी नहीं हो पाई एक अदद हैंडपंप की मांग

बस्तर संभाग
बीजापुर। जिला मुख्यालय से करीब 20 किमी दूर गंगालूर ग्राम पंचायत के तोंगबाल पारा में दशकों से बसते आ रहे दो सौ ग्रामीण साफ पानी पीने के अपने अधिकार से बेदखल है। बीजापुर से चेरपाल फिर चेरपाल से कुछ किमी आगे गंगालूर को जोड़ती सड़क को छोड़ कच्ची सड़क के सहारे तोंगबाल पहुंचा जा सकता है। यहां रहने वाले बदरू हेमला, आयतु हेमला समेत पारा के बाषिंदों की एक अदद मांग हैण्डपंप को लेकर है। पांच दशक से बसते आ रहे दो सौ ग्रामीणों की प्यास एक खेत के बीचों-बीच मौजूद कुआ से बुझती है, जिसमें बारह मास पानी रहता है। पंचायत प्रतिनिधियों से हैण्डपंप की मांग करते थक चुके तोंगबाल वासियों के लिए यही कुआ सहारा बना हुआ है। पीने का पानी उन्हें इसी चुए से मिलता है। जिसे सुरक्षित करने पारा के दर्जनभर परिवारों ने उपाय निकाला और एक सूखे पेड़ की खोखले तने को चुए में गाड़ कर कुआ सा आकार दे दिया। इस तरह प्राकृतिक जल स्त्रोत क...
बीजापुर : बस्तर में आज भी जीवित है बदुल परंपरा मजदूरों की जगह खेतों में हाथ बंटाते हैं साथी किसान

बीजापुर : बस्तर में आज भी जीवित है बदुल परंपरा मजदूरों की जगह खेतों में हाथ बंटाते हैं साथी किसान

बस्तर संभाग
बीजापुर। साथी हाथ बढ़ाना, एक अकेला थक जाएगा, मिलकर बोझ उठाना.. इस गीत से मेल खाती है बदुल पंरपरा, जो बस्तर के सीमावर्ती तेलंगाना की सीमा से सटे ग्रामीण इलाकों की संस्कृति का एक भाग रही है। जिसके तहत खेतों में निराई-गुड़ाई का काम हो, फसल बुवाई हो या फिर कटाई। इनके लिए बदुल का आयोजन कर ग्रामीणों का सामूहिक सहयोग लिया जाता रहा है। इस परंपरा का आयोजन दषकों से किया जा रहा है। हालांकि आधुनिकता के दौर में अब जब खेती मजदूरों और कृषि उपकरणों के भरोसे हो रही हैं, यह परंपरा विलुप्ति की ओर है, इसके बाद भी यह परंपरा कुछ इलाकों में जीवित है। बीजापुर जिला मुख्यालय से लगभग 55 किमी दूर ग्राम पंचायत उसूर के सोढ़ी पारा के किसान दषकों से चली आ रही परंपरा का पालन आज भी कर रहे हैं। बदुल के तहत गांव का कृषक दूसरे किसानों के घर-घर जाकर उनको अपने खेत में फसल की बुवाई से लेकर कटाई के लिए न्यौता देता और गांव के लोग ...
बीजापुर : राज्य में खाद की कमी के लिए केंद्र सरकार जिम्मेदार, प्रदेश कांग्रेस संचार समिति सदस्य नीना का आरोप

बीजापुर : राज्य में खाद की कमी के लिए केंद्र सरकार जिम्मेदार, प्रदेश कांग्रेस संचार समिति सदस्य नीना का आरोप

बस्तर संभाग
बीजापुर। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी व प्रदेश कांग्रेस कमेटी संचार समिति सदस्य नीना रावतीया उद्दे ने प्रदेश के कुछ हिस्सों में खाद की कमी के लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। उनका कहना है कि राज्य सरकार द्वारा 11 लाख टन उर्वरक की मांग की गइ थी, परंतु केंद्र द्वारा समय पर आपूर्ति नहीं किए जाने से ऐसे हालात बने हैं। केंद्र की तरफ से मांग से आधे से भी कम 45 फीसदी खाद की आपूर्ति राज्य को की गई।मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पत्र के माध्यम से केंद्र सरकार से राज्य को तीन लाख मीट्रिक टन अतिरिक्त उर्वरकों की मांग की थी, जिसका कोई जबाव नहीं मिला। राज्य के किसानों के प्रति मोदी सरकार की नीयत इससे जाहिर होती है, जबकि देश के अन्य राज्यों मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, गुजरात, पंजाब, हरियाणा जैसे राज्यों को 90 फीसदी तक आपूर्ति केंद्र की तरफ से की गई। नीनी ने भाजपा विधायकों, सांसदों से यह सवाल भी किया है कि...
बीजापुर : गोबर बेचकर आत्मनिर्भर बनी आलोचना,  किराना दुकान का शुरू किया संचालन

बीजापुर : गोबर बेचकर आत्मनिर्भर बनी आलोचना, किराना दुकान का शुरू किया संचालन

बस्तर संभाग
बीजापुर.  गोधन न्याय योजनांतर्गत जनपद पंचायत भोपालपटनम के ग्राम अर्जुनल्ली की आलोचना यालम जो बिहान योजना के इंद्रा स्व सहायता समूह से जुड़ी है।उसने ग्राम अर्जुनल्ली गौठान में लगभग 6 माह में 37223 किलोग्राम गोबर का विक्रय किया, जिसके एवज में शासन द्वारा निर्धारित 2 रुपए  प्रति किलोग्राम की दर से कुल 74 हजार 446 रुपए प्राप्त हुआ। उक्त प्राप्त धनराशि के कुछ रुपयों से आलोचना ने अपनी दैनिक जरुरतों को पूरा किया एवं लगभग 40 हजार रुपये से अपना स्वयं का एक निजी किराना दुकान खोला। आलोचना कहती हैं कि समूह से जुड़ने के पूर्व वह एक शिक्षित बेरोजगार थी, बिहान योजना से जुड़े हुए लगभग 2 वर्ष हो गये। बिहान योजना से जुड़कर गोधन न्याय योजना अंतर्गत गोबर विक्रय किया और प्राप्त राशि से स्वयं स्वरोजगार के रुप मे किराना दुकान खोल अपने पैरों पर खड़े हो पाई हूॅ। किसी दूसरे पर आश्रित नही हॅू। आलोचना बताती है कि किरान...
बीजापुर : सागौन मामले में चुप नहीं बैठेगी सीपीआई : कमलेश भाकपा नेता ने प्रशासन पर जांच में पक्षपात का लगाया आरोप

बीजापुर : सागौन मामले में चुप नहीं बैठेगी सीपीआई : कमलेश भाकपा नेता ने प्रशासन पर जांच में पक्षपात का लगाया आरोप

बस्तर संभाग
बीजापुर। नगर के जनपद स्कूल में सागौन पेड़ों की अवैध कटाई को लेकर सियासी बयानबाजी थमने का नाम नहीं ले रही है। मामले में आरोपियों की गिरफतारी की मांग कर रही सीपीआई के जिला सचिव ने अब स्थानीय प्रशासन पर पूरे मामले को दबाने और मामले में संलिप्त रसूखदारों को बचाने का आरोप लगाया है। भाकपा सचिव कमलेश झाड़ी ने जारी विज्ञप्ति में यह आरोप लगाया है। कमलेश का कहना है कि मामला प्रकाश में आए एक माह बीतने को है, बावजूद प्रशासन की जांच आरोपियों को बेनकाब करने में नाकाम रही है। अवैध कटाई की सुक्ष्मता से जांच की मांग को लेकर सीपीआई ने प्रशासन को आंदोलन की चेतावनी भी दी थी, लेकिन इसका कोई असर नहीं हुआ। मामले को लेकर सीपीआई आंदोलन करना चाहती, लेकिन प्रषासन ने उसकी इजाजत भी नहीं दी। इस तरह प्रशासन की कार्रवाई को लेकर बेरूखी से सागौन चोरों के हौसले अब बुलंद हैं। कमलेश का कहना है कि मामले में कई गहरे राज दफन है...
बीजापुर : नीलम सरई तक पर्यटकों की पहुंच आसान बनाने बनेगी समिति शराब ले जाने पर रहेगी पाबंदी, बाइक से सोढ़ी पारा पहुंचे कलेक्टर

बीजापुर : नीलम सरई तक पर्यटकों की पहुंच आसान बनाने बनेगी समिति शराब ले जाने पर रहेगी पाबंदी, बाइक से सोढ़ी पारा पहुंचे कलेक्टर

बस्तर संभाग
बीजापुर। नीलम सरई जलप्रपात को पर्यटन के लिहाज से विकसित करने प्रशासन ने खास दिलचस्पी दिखाई है। शुक्रवार को कलेक्टर रितेष अग्रवाल उसूर के सोढ़ी पारा पहुंचे। उन्होंने बतौर टूर गाइड काम कर रहे गांव के स्थानीय युवकों से मुलाकात की। गौरतलब है कि मनवा बीजापुर के तहत् कलेक्टर रितेष अग्रवाल ने नीलम सरई जलप्रपात तक सैलानियों की पहुंच को आसान बनाने सोढ़ी पारा के ही कुछ युवकों के लिए टूरिस्ट गाइड हेतु प्रशिक्षण की व्यवस्था की थी। अनएक्सप्लोर्ड बस्तर के माध्यम से गांव के कुछ युवकों का चयन किया गया और उन्हें वर्कषाॅप के जरिए प्रषिक्षित किया गया। नीलम सरई को पर्यटकों का आकर्षण का केंद्र बनाने के साथ गांव वालों की समस्याएं सुनने के मकसद से कलेक्टर गांव के अंतिम छोर पर स्थित माता गुड़ी में पहुंचे। यहां शेड के नीचे चैपाल लगाई और ग्रामीणों से उनकी समस्याएं सुनी। यह पहला मौका था जब सुदूर उसूर इलाके के सोढ़ी पारा...
बीजापुर में बारिश : चेरपाल रपटा डूबा गंगालूर समेत कई गांवों का टूटा संपर्क

बीजापुर में बारिश : चेरपाल रपटा डूबा गंगालूर समेत कई गांवों का टूटा संपर्क

बस्तर संभाग
बीजापुर। जिले में पिछले दो दिनों से रूक-रूककर हो रही बारिश से जनजीवन प्रभावित है। नदी-नालों का जलस्तर बढ़ने लगा है। बारिश के कारण गंगालूर समेत कई गांवों का जिला मुख्यालय से संपर्क टूट गया है तो वही मिरतूर इलाके में मरी नदी पर बना रपटा भी बारिष की वजह से परेषानी का सबब बना हुआ है। बीती रात से चेरपाल के समीप रपटे के उपर से पानी बह रहा है। नतीजतन मार्ग पर आवागमन ठप है। चेरपाल, रेड्डी, गंगालूर समेत दो दर्जन गांव रपटे पर पानी होने से प्रभावित है। स्वास्थ्य सेवाएं भी इससे प्रभावित है। हालांकि इंद्रावती नदी का जलस्तर अभी खतरे के निषान से नीचे है। भोपालपट्नम, ताड़लागुड़ा समेत आस-पास के इलाके में हालात सामान्य है। वही बीजापुर की महादेव घाटी का नजारा देखते ही बन पड़ रहा है। पहाड़ियों पर कोहरे की धुंध और हरियाली का नजारा राह गुजर रहे लोगों का ध्यान अपनी ओर खींच रहा है। बारिष के बीच लोग मौसम का लुत्फ लेते ...
बीजापुर : नीलम सरई को शराबियों की लगी नजर, जलप्रपात के उपर शराब-बीयर की खाली बोतलों से बिगड़ी सूरत

बीजापुर : नीलम सरई को शराबियों की लगी नजर, जलप्रपात के उपर शराब-बीयर की खाली बोतलों से बिगड़ी सूरत

बस्तर संभाग
बीजापुर। बीते वर्षों में सुर्खियों में आया नीलम सरई जलप्रपात को शराबियों की नजर लग गई है। परिणामस्वरूप इस खूबसूरत जलप्रपात का साफ सुथरा परिवेष शराबियों की हरकतों की भेंट चढ़ रहा है। बतौर गाईड आगुंतकों को जलप्रपात तक ले जाने वाले स्थानीय युवाओं ने संवाददाता को तस्वीरें भेजी है, जिसमें जलप्रपात के कुण्ड के उपरी हिस्से यानी कि पहाड़ी की चोटी पर जगह-जगह अंग्रेजी शराब, बीयर की खाली बोतलें पड़ी हैं तो कहीं कहीं कांच के टुकड़े। गौरतलब है कि गत दो वर्षों में नीलम सरई जलप्रपात की खूबसूरती बाहर आने के बाद जलप्रपात को करीब से निहारने पहाड़ी पर लोगों का तांता लगा हुआ है। लोग जलप्रपात तक पहुंच रहे हैं और फूर्सत के पल का आनंद उठाने पिकनिक भी मना रहे हैं। पिकनिक के दौरान ही शराब के आदियों ने इस खूबसूरत दर्षनीय स्थल को भी नहीं बख्शा। जलप्रपात के उपर जगह-जगह शराब और बीयर की खाली बोतलें नजर आ रही है। वही खाने...