सुकमा में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में 3 जवान शहीद, 14 जवान, 13 लापता; 5 नक्सली भी ढेर

जगदलपुर | छत्तीसगढ़ के सुकमा में शनिवार को सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई। इस मुठभेड़ में तीन जवान शहीद हो गए। जबकि 14 जवान घायल हैं। इनमें से दो की हालत गंभीर है। वहीं मुठभेड़ में पांच से छह नक्सलियों के मारे जाने की भी खबर है। बताया जा रहा है कि कई नक्सली घायल भी हुए हैं। जवानों ने मारे गए एक नक्सली का शव बरामद कर लिया है। घायल जवानों को एयरलिफ्ट कर रायपुर लाया गया है। उन्हें रामकृष्ण अस्पताल में भर्ती किया गया है। इसमें से कई की हालत गंभीर बताई जा रही है।

छत्तीसगढ़ के डीजीपी डीएम अवस्थी ने जवानों के शहीद होने की पुष्टि की है। इसको लेकर उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को भी रात में ही अवगत करा दिया है। डीजीपी अवस्थी ने बताया कि मुठभेड़ में पांच से छह नक्सली मारे गए। इतनी ही संख्या में नक्सलियों के घायल होने का अनुमान है। मुठभेड़ में तीन जवान शहीद हो गए हैं और 14 जवान घायल हुए हैं। इनमें से दो की हालत नाजुक बनी हुई है। वहीं 13 जवान अभी लापता हैं। घायल जवानों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

नक्सलियों ने जवानों को एंबुश में फंसाया

पुलिस को कसालपाड़ इलाके में बड़ी संख्या में नक्सलियों के जमा होने की खबर मिली थी। इसके बाद डीआरजी और एसटीएफ की टीम को शुक्रवार को दोरनापाल से रवाना किया गया था। यह टीम बुरकापाल पहुंची और यहां से कोबरा के जवानों की एक टुकड़ी इनके साथ नक्सलियों के एनकाउंटर के लिए निकली। बताया जा रहा है कि जवान नक्सलियों को सरप्राइज एनकाउंटर में फंसाना चाह रहे थे, लेकिन जवानों के जंगलों में घुसने की खबर पहले ही नक्सलियों तक पहुंच गई थी।

रणनीति के तहत जवानों को जंगल के अंदर आने दिया

नक्सलियों ने रणनीति के तहत जवानों को जंगलों के अंदर तक आने दिया। जवान कसालपाड़ के आगे तक गए और जब नक्सली हलचल नहीं दिखी तो वो वापस लौटने लगे। जैसे ही सुरक्षा बल कसालपाड़ से निकले, नक्सलियों के लगाए एंबुश में फंस गए। कसालपाड़ से कुछ दूर आगे कोराज डोंगरी के पास नक्सलियों ने पहाड़ के ऊपर से जवानों पर हमला बोल दिया। अचानक हुई गोलीबारी में कुछ जवान घायल हो गए। इसके बाद दोनों और से रुक-रुक कर गोलीबारी होती रही।