जिले के 6 निजी कॉलेजों ने दे दिया अपात्र छात्रों को एडमिशन

रायगढ़। बिलासपुर यूनिवर्सिटी से संबद्ध कॉलेजों ने डिप्लोमा कोर्स में अपात्र छात्रों को भी एडमिशन दे दिया है। यूनिवर्सिटी के पास छात्रों के फार्म आने के बाद उनकी आगे की प्रक्रिया को रोक दिया है। वहीं यूनिवर्सिटी ने कॉलेजों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है कि कॉलेजों द्वारा यूनिवर्सिटी के नियमों का पालन क्यों नहीं किया गया। बीयू से संबंध 31 कॉलेजों को नोटिस जारी किया गया है। इसमें रायगढ़ जिले के भी छह निजी कॉलेज शामिल हैं जिनको नोटिस थमाया गया है। बिलासपुर यूनिवर्सिटी से संबद्ध कॉलेजों यूनिवर्सिटी के ही नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं। कॉलेजों द्वारा यूनिवर्सिटी के सारे नियमों को दरकिनार कर अपने तरीके छात्रों को एडमिशन ले रहे हैं और बाद में चल कर इसका खामियाजा छात्रों को भुगतना पड़ रहा है। वहीं कई छात्रों को ऐसा कहना है कि यूनिवर्सिटी की सह पर ही कॉलेज मनमानी कर रही है। पैसे के चक्कर में कॉलेजों द्वारा छात्रों के एडमिशन ले लिए जा रहे हैं। वहीं यूनिवर्सिटी इसे रोक देती है। जब यूनिवर्सिटी को भी उसमें से कुछ हिस्सा मिल जाता है तो वे उसे छात्रहित का नाम लेकर उन्हें परीक्षा में बैठने दे देते हैं। ऐसा कई सालों से चलता आ रहा है। कॉलेजों की मनमानी की बता की जाए तो वर्तमान में बिना पात्रता के एडमिशन देना, बिना ग्रुप के छात्रों का विषय चयन करना इत्यादि शामिल है। वहीं कॉलेजों ने 12 से 15 छात्र ऐसे हैं, जिनकी उम्र खत्म हो गई है। उन्हें भी एडमिशन दे दिए हैं। 5 जनवरी को ऐसा ही मामला यूनिवर्सिटी में आया था। एसडी कॉलेज नवागढ़ की छात्रा अर्चना एमएसडब्ल्यू कर रही थी। एक सेमेस्टर पास करने के बाद उसको यूनिवर्सिटी उम्र खत्म होना बता कर दूसरे सेमेस्टर में प्रवेश नहीं दिया।
इन कॉलेजों को मिला नोटिस
डीसीए में सीपीएम कॉलेज सारंगढ, उत्तम मेमोरियल रायगढ़ कॉलेज ने एडमिशन दिया है। वहीं बीसीए में सीपीएम कॉलेज सारंगढ़, मां मंगला कॉलेज रायगढ़, एरीसेंट कॉलेज रायगढ़ ने एडमिशन दिया। वहीं डीसीए और बीसीए दोनों में उकिया देवी कॉलेज सरिया ने एडमिशन दिया है।