तेजस्वनी कोचिंग में पढ़ रही बालिकाओं से प्रभारी सचिव हुई रूबरू

रायगढ़। खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण तथा जिले के प्रभारी सचिव श्रीमती ऋचा शर्मा एवं कलेक्टर श्रीमती अलरमेलमंगई डी ने आज जिले के तेजस्वनी कोचिंग सेंटर एवं जेल परिसर का निरीक्षण किया। सर्वप्रथम प्रभारी सचिव ने तेजस्वनी कोचिंग सेंटर में छात्राओं से रूबरू होकर उनके अनुभव जाने और अपनी शुभकामनाएं देते हुए बालिकाओं को मेडिकल की तैयारी करने के लिए प्रोत्साहित किया। तेजस्वनी कोचिंग सेंटर में मेडिकल की तैयारी कर रही छात्राओं ने उच्च पद पर आसीन होने के लिए प्रभारी सचिव व कलेक्टर से उनके सफलताओं के बारे में पूछा। जिस पर प्रभारी सचिव श्रीमती शर्मा ने अपने अनुभव व्यक्त करते हुए एवं छात्राओं की जिज्ञासाओं को समाधान किया। श्रीमती शर्मा ने होस्टल की सुविधाओं की जानकारी लेते हुए आदिवासी विकास के सहायक आयुक्त को बालिकाओं के लिए सारी बुनियादी सुविधा शत-प्रतिशत सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। तत्पश्चात प्रभारी सचिव श्रीमती शर्मा एवं कलेक्टर श्रीमती मंगई डी जेल परिसर पहुंचकर बंदियों को मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना के अंतर्गत दी जा रही प्रशिक्षण की जानकारी ली। उन्होंने बंदियों से मेसन टे्रड, बार वेंडर, राजमिस्त्री, वाल पुट्टी, योगा थेरेपिस्ट प्रशिक्षण की जानकारी लेते हुए हुनरमंद बनने के लिए प्रेरित किया। साथ ही जेल परिसर में पौध रोपण कर पर्यावरण को संरक्षित रखने का संदेश दिया। teja
उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री कौशल विकास योजनान्तर्गत बंदियों को उनके रूचि के अनुसार विभिन्न टे्रड में प्रशिक्षण देकर हुनरमंद बनाया जा रहा है ताकि जेल से निकलने के बाद उनके पास रोजगार के पर्याप्त अवसर उपलब्ध हो। परिसर में योगा के माध्यम से उनके जीवन जीने की कला भी सिखाई जा रही है। इस दौरान प्रभारी सचिव और कलेक्टर ने कौशल विकास में प्रशिक्षण प्राप्त बंदियों को प्रमाण-पत्र का वितरण भी किया।
इस अवसर पर सहायक कलेक्टर प्रभात मलिक, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती चंदन संजय त्रिपाठी, डिप्टी कलेक्टर प्रकाशचंद कोरी, जनपद सीईओ रायगढ़ सुश्री नेहा सिंह, रोजगार अधिकारी प्रमोद जैन, खाद्य अधिकारी जी.पी.राठिया एवं संबंधित अधिकारीगण उपस्थित थे।