अवैध कटाई व हाथियों पर नजर रखने लिया वाट्सअप का सहारा

रायगढ़। रायगढ़ वन मंडल में अवैध वन की कटाई व हाथियों पर नजर रखने विभाग स्तर पर दो वाट्सअप ग्रूप बनाया गया है। जिसे विभागीय अधिकारी व कर्मचारी के बीच कम्यूनिकेशन गैप को दूर करने की बात कही जा रही है। पर इस कड़ी में उन ग्रामीणों को फिलहाल दूर रखा गया है। जो सूचना के अदान-प्रदान कर पहली कड़ी की भूमिका निभाते हैं। ऐसे में, अवैध कटाई व हाथियों पर नजर रखने को लेकर विभाग की इस कवायद पर सवाल उठ रहे हैंं। what
वाट्सअप जैसे सोशल मीडिया के सशक्क्त माध्यम से विभागीय कार्य की मॉनीटरिंग आसान हो गई है। अब इससे रायगढ़ वन मंडल भी जुड़ गया है। डीएफओ ने दो ग्रूप बनवाए हैं। पहला ग्रूप विभागीय कर्मचारी का है, जिसमें करीब ४२ लोग जुड़े हैं। जबकि दूसरे ग्रूप में फिल्ड के अधिकारी व कर्मचारी को जोड़ा गया है। जिसकी संख्या करीब १०२ है। हालांकि इन दोनों ग्रुप में सदस्यों की संख्या में लगातार इजाफा भी हो रहा है। दोनों ग्रूप का उद्देश्य, विभागीय अधिकारी व कर्मचारी के बीच कम्यूनिकेशन गैप को दूर कर विभागीय गतिविधियों पर नजर रखने की बात कही जा रही है। जिसमें अवैध कटाई, हाथी के विचरण व अन्य बिंदू शामिल है। पर जानकारों की माने तो विभाग के फिल्ड वाले वाट्सअप ग्रूप, उन ग्रामीणों के बगैर अध्ूारा है। जो विभागीय अधिकारी व कर्मचारी को हर एक सूचना देकर एक अहम कड़ी की भूमिका निभाते हैं। ऐसे में, ग्रामीणों को अगर उक्त वाट्सअप ग्रूप में जोड़ा जाए तो शायद विभागीय मॉनीटरिंग में बेहतरी के साथ तेजी भी आएगी।