नीतीश के नाम पर 14 को लगेगी मुहर

पटना। नीतीश कुमार 14 नवंबर को राज्य में अगली सरकार के गठन के लिए राज्यपाल रामनाथ कोविंद के सामने दावा पेश करेंगे. इसके पहले नीतीश कुमार को पहले जदयू और बाद में महागंठबंधन विधायक दल का नेता चुना जायेगा. मुख्यमंत्री ने गुरुवार को कहा कि शनिवार की सुबह में जदयू विधायक दल की बैठक होगी. उसके बाद वर्तमान सरकार के कैबिनेट की अंतिम बैठक होगी,nitesh जिसमें वर्तमान विधानसभा को भंग करने की सिफारिश की जायेगी. दोपहर में महागंठबंधन विधायक दल की बैठक की जायेगी, जिसमें नेता का चुनाव किया जायेगा. इसके बाद सरकार बनाने का दावा पेश किया जायेगा. उसी दिन शपथ ग्रहण की तारीख और शपथ ग्रहण स्थल की आधिकारिक तौर घोषणा की जायेगी. उधर, राजद विधायक दल की बैठक 13 नवंबर को होटल मौर्या में आयोजित की गयी है. इसमें राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद विधायकों को संबोधित करेंगे. कांग्रेस विधायक दल की बैठक पंडित जवाहर लाल नेहरू के जन्मदिन के मौके पर 14 नवंबर को सदाकत आश्रम में बुलायी गयी है. कांग्रेस विधायक दल की बैठक के बाद सभी विधायक महागंठबंधन के साझा विधायक दल की बैठक में भाग लेंगे. फिलहाल महागंठबंधन के तीनों घटक दलों के बीच सरकार के स्वरूप को लेकर मंथन जारी है. मुख्यमंत्री के अतिरिक्त 35 अन्य मंत्री सरकार में शामिल हो सकते हैं. सूत्रों के अनुसार जदयू, राजद और कांग्रेस के बीच 40:40:20 के अनुपात में मंत्रियों का चयन हो सकता है. विधानसभाध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री के पद राजद को मिलने के आसार हैं.
लालू के बेटों की जिम्मेवारी को लेकर उत्सुकता
पटना। राजद विधायक दल की बैठक शुक्रवार को होगी. होटल मोर्या में आयोजित होनेवाली इस बैठक में राजद विधायक दल के नेता का चुनाव होगा. राजद प्रमुख लालू प्रसाद के दोनों बेटों तेजस्वी और तेज प्रताप को सरकार में कौन जिम्मेवारी मिलेगी, इसको लेकर उत्सुकता है. पार्टी के नेता इस बारे में कुछ भी बोलने से बच रहे हैं. उनका कहना है कि यह सब पार्टी प्रमुख लालू प्रसाद को ही तय करना है.